शोपियां में घिर गए लश्कर के आतंकी, ऑपरेशन जारी, सुरक्षा बल ने इलाका घेरा

ADVERTISEMENT

सांकेतिक तस्वीर
सांकेतिक तस्वीर
social share
google news

Jammu and Kashmir encounter: जम्मू कश्मीर के शोपियां इलाके में मुठभेड़ चल रही है। सेना के जवान औरआतंकियों के बीच फायरिंग हो रही है। जम्मू कश्मीर पुलिस के मुताबिक सर्च ऑपरेशन के दौरान शोपियां इलाके में छुपे आतंकियों ने फायरिंग कर दी और उसके बाद से ही ये एनकाउंटर जारी है। इस बीच पुलिस के साथ साथ सेना और सीआरपीएफ ने भी आतंकियों के खिलाफ मोर्चा संभाल लिया है। बताया जा रहा है कि जिस इलाके में ये एनकाउंटर हो रहा है वहां दो खूंखार आतंकियों के होने की खबर है। 

चोटीगाम इलाके में मुठभेड़ 

हैरानी की बात ये है कि सुबह सुबह शोपियां जिले के चोटीगाम इलाके में मुठभेड़ शुरू हुई। बताया जा रहा है कि सेना और पुलिस के अलावा सीआरपीएफ की टुकड़ियों ने भी इस इलाके में छुपे आतंकियों को बुरी तरह से घेर लिया है और दोनों तरफ से लगातार फायरिंग हो रही है।

हादीगाम गांव की उसी शाम से घेराबंदी

बताया जा रहा है कि सुरक्षा बल ने मंगलवार से ही सर्च ऑपरेशन चला रखा था। कुलगाम के हादीगाम गांव की उसी शाम से घेराबंदी कर दी गई थी और सुरक्षा बल ने चारो तरफ तलाशी अभियान जारी कर दिया था। लेकिन जब ये तलाशी अभियान कुलगाम जिले के हादीगाम गांव तक पहुँचा तो वहां आतंकियों ने सुरक्षा बल पर फायरिंग कर दी। ये एनकाउंटर बुधवार की रात शुरू हो गया था और गुरुवार को दिन भर मुठभेड़ जारी रही। 

ADVERTISEMENT

लश्कर के दो आतंकी छिपे

मुठभेड़ शोपियां के चोटीगाम इलाके में हो रही है। सेना के साथ सीआरपीएफ और शोपियां पुलिस भी वहां मौजूद है। खुलासा ये हुआ है कि इलाके में लश्कर के दो आतंकियों के छिपे होने का अंदेशा हैं। माना जा रहा है कि ये वही आतंकी हैं जो कल कुलगाम में सुरक्षा बल को चकम देकर निकल भागे थे।

एक मॉड्यूल का भंडाफोड़ 

इसी बीच जम्मू कश्मीर पुलिस ने बड़गाम जिले से एक ओवर ग्राउंड वर्कर्स के एक मॉड्यूल का भंडाफोड़ किया है। पुलिस ने सात लोगों को गिरफ्तार किया है बताया जा रहा है कि ये तमाम लोग वीरवाह इलाके और उसके आस पास पोस्टरबाजी करके भारत के विरोध में प्रचार प्रसार करने में लगे हुए थे। गौरतलब है कि पिछले साल 22 नवंबर को राजौरी में हुए एक एनकाउंटर में पांच जवान शहीद हो गए थे वहां भी पूरे 34 घंटे तक ऑपरेशन चला था। जिसमें दो आतंकी भी मार गिराए गए थे। चौंकानें वाला पहलू ये है कि बीते बरस नवंबर और दिसंबर में दो बड़े आतंकी हमले हुए। 

ADVERTISEMENT

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT

    यह भी पढ़ें...