गुजरात में क्रिमिनल केस खत्म करने के बदले USA में पन्नू की सुपारी दिला रहे थे भारतीय अफसर : अमेरिकी चार्जशीट में दावा

ADVERTISEMENT

गुरपतवंत सिंह पन्नू की हत्या की साजिश रचने में अमेरिका का बड़ा दावा
गुरपतवंत सिंह पन्नू की हत्या की साजिश रचने में अमेरिका का बड़ा दावा
social share
google news

USA Pannu News : खालिस्तानी आतंकी गुरपतवंत सिंह पन्नू की हत्या करने की कोशिश में एक भारतीय नागरिक को लेकर अमेरिका ने बड़ा दावा किया है. न्यूयॉर्क टाइम्स की रिपोर्ट में दावा है कि अमेरिका में खालिस्तानी आतंकी गुरपतवंत सिंह पन्नू की हत्या करने की साजिश का मुख्य सूत्रधार भारत सरकार का एक सीनियर अधिकारी है. अमेरिकी पुलिस की चार्जशीट में इस बात का खुलासा किया गया है. चार्जशीट में उस भारतीय अफसर का नाम उजागर नहीं किया गया है. लेकिन उसे कोडनेम CC-1 दिया गया हैै. रिपोर्ट में कहा गया है कि CC-1 ने अमेरिका में रहने वाले एक भारतीय निखिल गुप्ता से संपर्क किया था. ये निखिल गुप्ता करीब 52 साल का है. 

Who is Nikhil Gupta : आखिर कौन है ये निखिल गुप्ता और इसे क्या लालच देकर पन्नू के कत्ल की साजिश रचवाई गई. इस बात का भी चार्जशीट में खुलासा किगया गया है. असल में दावा है कि निखिल गुप्ता पर गुजरात में एक क्रिमिनल केस चल रहा है. उसी क्रिमिनल केस को खारिज करने का आश्वासन देकर उसके जरिए CC-1  ने सुपारी किलर से संपर्क कराया था. लेकिन हकीकत में निखिल गुप्ता ने जिसे सुपारी किलर समझा असल में अमेरिकी खुफिया एजेंसी सीआईए का एजेंट था. उसी के बाद ये पूरा मामला पलट गया. अमेरिकी खुफिया एजेंसी को इस साजिश की सभी डिटेल मिल गई जिसके बाद भारत पर ही सवाल उठाए जा रहे हैं. 

क्या है आरोप और किस तरह निखिल को मिला टारगेट

PTI की रिपोर्ट के अनुसार, अमेरिका में संघीय अभियोजकों ने आरोप लगाया है कि अमेरिका में एक सिख अलगाववादी की हत्या की साजिश के आरोपी भारतीय नागरिक ने इस आश्वासन के बाद साजिश में शामिल होना स्वीकार किया कि गुजरात में उसके खिलाफ चल रहा एक आपराधिक मामला खारिज कर दिया जाएगा। अमेरिका की एक अदालत में बुधवार को सामने आये अभियोजन पक्ष के आरोपपत्र के अनुसार निखिल गुप्ता (52) पर न्यूयॉर्क शहर में एक अमेरिकी नागरिक की हत्या की नाकाम साजिश में संलिप्त रहने का आरोप है।

ADVERTISEMENT

इसमें यह खुलासा नहीं किया गया है कि किस अमेरिकी नागरिक की हत्या की साजिश रची गई थी। हालांकि, फाइनेंशियल टाइम्स अखबार ने अज्ञात सूत्रों के हवाले से पिछले हफ्ते खबर जारी की थी कि अमेरिकी अधिकारियों ने प्रतिबंधि संगठन ‘सिख्स फॉर जस्टिस’ के गुरपतवंत सिंह पन्नू की हत्या की साजिश को नाकाम कर दिया था और इस साजिश में भारत सरकार के शामिल होने की आशंकाओं को लेकर उसे चेतावनी दी थी।

मई 2023 में शुरु हुई निखिल और CC-1 में बातचीत

अभियोजन पक्ष ने मुकदमे में बताया कि गुप्ता किस तरह गुजरात में उसके खिलाफ दर्ज एक आपराधिक मामले को खारिज किये जाने के आश्वासन के बाद साजिश के लिए सहमत हो गया। अभियोजन पक्ष के आरोपपत्र में कहा गया, ‘‘मई 2023 में या इसके आसपास सीसी-1 और गुप्ता के बीच शुरू हुई टेलीफोन और इलेक्ट्रॉनिक संचार शृंखला में सीसी-1 ने गुप्ता से भारत में उसके खिलाफ एक आपराधिक मामले को खारिज कराने में सीसी-1 की सहायता के बदले पीड़ित की हत्या का बंदोबस्त करने को कहा था। गुप्ता हत्या की साजिश रचने को तैयार हो गया। इसके बाद गुप्ता ने साजिश को अमली जामा पहनाने के लिए नयी दिल्ली में व्यक्तिगत रूप से सीसी-1 से मुलाकात भी की।’’

ADVERTISEMENT

निखिल क्या इंटरनेशनल ड्रग्स तस्कर है?

अभियोजकों ने दावा किया है कि सीसी-1 एक ‘भारतीय सरकारी कर्मी’ है जिसने अमेरिकी जमीन पर हत्या के लिए भारत से साजिश रचने का निर्देश दिया। गुप्ता को एक ‘अंतरराष्ट्रीय मादक पदार्थ तस्कर’ करार दिया गया है और उसे साजिश में शामिल रहने के सिलसिले में जून 2023 में अमेरिका के अनुरोध पर चेक गणराज्य में गिरफ्तार किया गया था।

ADVERTISEMENT

 

    यह भी पढ़ें...

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT