इजरायली महिला की नग्न लाश को गाजा की गलियों में घुमाने वाला हमास का लड़ाका ढेर

ADVERTISEMENT

इजरायली महिला की लाश को गाड़ी में नग्न घुमाने वाला हमास का लड़ाका ढेर
इजरायली महिला की लाश को गाड़ी में नग्न घुमाने वाला हमास का लड़ाका ढेर
social share
google news

Hamas - Israel War: 7 अक्टूबर को जब इजरायल के खिलाफ हमास ने जंग की शुरुआत हुई थी, उसी दौरान एक वीडियो सोशल मीडिया पर जबरदस्त तरीके से दुनिया भर में वायरल हो गया था। और उस वीडियो में हमास के लड़ाके एक टोयोटा गाड़ी में एक महिला की बेलिबास लाश को लेकर अल्लाह हू अकबर के नारे लगाते गाजा सिटी की सड़कों पर घूम रहे थे। 

मारा गया हमास का लड़ाका

बाद में खुलासा हुआ कि जिस महिला का वो शव था वो एक जर्मन इजरायली महिला थी। उसकी पहचान 22 साल की शानी लूक के तौर पर हुई थी और वो एक टूरिस्ट थी। और ये जानकारी खुद शानी लूक की मां रिकार्डा लूक ने एक टीवी चैनल के जरिए दी थी। जिस चैनल में शानी लूक की मां ने अपनी बेटी शानी के बारे में खुलासा किया उसी चैनल के एक पत्रकार ने एक सनसनीखेज खुलासा किया है। 

शानी की मां रिकार्डा लूक को खुद आईडीएफ ने खबर दी कि हमास का लड़ाका मारा गया

टीवी पत्रकार ओली लंदन के मुताबिक इजरायली डिफेंस फोर्स यानी IDF की तरफ से खुद शानी की मां को ये जानकारी दी गई है कि जिस हमास के आतंकी ने शानी के साथ जानवरों जैसा सुलूक किया था वो अब मारा जा चुका है। 

ADVERTISEMENT

जर्मन इजरायली शानी लूक को मारकर हमास के लड़ाकों ने दरिंदगी की इंतेहा कर दी थी


 नग्न शव गाड़ी में डालकर शहर घूमाया

जी हां IDF की तरफ से जानकारी दी गई है कि हमास का वो लड़ाका ढेर हो गया जिसने इजरायली जर्मन महिला के साथ दरिंदगी की इंतेहा की और फिर उसका नग्न शव गाड़ी में डालकर पूरा शहर घूमा था। इस समय गाजा में इजराइली सेना का ग्राउंड ऑपरेशन जारी है।  और इसी ऑपरेशन के दौरान इजरायली सेना चुन चुनकर हमास के लड़ाकों को ढेर करती जा रही है। और इसी बीच आईडीएफ ने गाजा सिटी के अल शिफा अस्पताल के आस पास जब अपना ऑपरेशन तेज किया तो अस्पताल के पास ही उस लड़ाके का शव भी बरामद हुआ जिसे इजरायली सेना के फौजियों ने उसी लड़ाके के तौर पर पहचाना जो टोयोटा गाड़ी में शानी लूक की लाश को लेकर घूम रहा था। 


टैटू देखकर मां ने की थी पहचान

असल में शानी लूक की पहचान उसके शरीर पर बने टैटू को देखकर खुद उसकी मां ने की थी। न्यूयॉर्क टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक शानी की मां ने ही बताया था कि उससे शरीर में कहां कहां कौन कौन सा टैटू बना हुआ है। बताया जा रहा है कि शानी उन तमाम सैलानियों में शामिल थीं जो 7 अक्टूबर को इजरायल के नोवा म्यूजिक फेस्टिवल में शामिल हुई थी। और 7 अक्टूबर को ही हमास ने इजरायल के खिलाफ रॉकेट से हमला किया था। हमास ने जिन इलाकों में हमला करके खून खराबा किया था उसमें नोवा म्यूजिक फेस्टिवल भी शामिल है। 

ADVERTISEMENT

लाश को निर्वस्त्र करके घुमाया 

टीवी चैनल में ही शानी लुक की मां ने रोते रोते बताया था कि दरिंदों ने उनकी बेटी की लाश को न सिर्फ निर्वस्त्र करके घुमाया था बल्कि उसके हाथ पैर भी तोड़ दिए थे, जिसे उस वीडियो में आसानी से देखा भी जा सकता है जब उसकी लाश को गाड़ी में डालकर गाजा की गली गली में घुमाया जा रहा था। बिजनेस स्टैंडर्ड की रिपोर्ट के मुताबिक जिस वक्त शानी की मां चैनल को अपनी बेटी की पहचान बता रही थीं उन्हें नहीं पता था कि उनकी बेटी उस वक़्त जिंदा नहीं थी जिस समय उसे गाड़ी में डालकर घुमाया जा रहा था। शानी की मां को नहीं पता था कि तब तक उनकी बेटी की मौत हो चुकी है। उन्हें तो बस यही लग रहा ता कि वीडियो में शानी का चेहरा नहीं दिख रहा था लेकिन उसके शरीर के तमाम टैटू आसानी से देखे जा सकते थे। शानी की मां ने रोते रोते कहा था कि ये दरिंदे उनकी बेटी के शरीर के साथ क्या ज्यादती कर रहे हैं। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक जर्मन चांसलर ने शानी लूक की मौत की खबर पर संवेदना जाहिर करते हुए कहा है कि संतोष सिर्फ इस बात का हो सकता हैकि खुद शानी ने इन जानवरों की ज्यादती को अपनी आंखो से नहीं देखा। 

ADVERTISEMENT

शानी लूक को उसकी मां ने उसके बदन पर बने टैटू से पहचाना था


लड़ाके ने बनाया वीडियो

इसी बीच एक वीडियो सामने आया है जो हमास के लड़ाके ने बॉडी कैम से रिकॉर्ड किया था। उस वीडियो में साफ दिखाई दे रहा है कि गाजा बॉर्डर पर खडे़ हमास के लड़ाकों को कुछ दूरी पर एक धमाके की आवाज सुनाई दी तो उन्हें इजरायल में घुसने का आदेश दिया गया था। इसके बाद वो लोग अल्लाह हू अकबर के नारे लगाते हुए ट्रकों और बाइक से इजरायल की हद में दाखिल हो गए थे। इतना ही नहीं वीडियो में आसानी से देखा जा सकता है कि हमास के लड़ाके गाजा की सुरंगों से कैसे निकल रहे थे। मतलब साफ है कि हमास के लड़ाकों ने सुरंगों के जरिए ही इजरायल की हद में घुसपैठ की थी। 

गाड़ी में पड़ी शानी की बॉडी को देखकर ही पता चला था कि उसके पैर तक तोड़ डाले थे हमास के दरिंदों ने

नोवा म्यूजिक फेस्टिवल में पहुँचे थे 600 लोग

खुलासा ये भी है कि जिस नोवा फेस्टिवल को हमास के लड़ाकों ने हमले में सबसे पहले निशाना बनाया उस म्यूजिक फेस्टिवल में करीब 600 लोग शामिल हुएथे और ज़्यादातर वो विदेशी ही थे, जिनमें से 400 से ज़्यादा लोगों की मौत हो गई थी। बताया जा रहा है कि करीब दो हफ्ते पहले ही इजरायली सेना को गाजा सिटी के एक हिस्से में शानी का सिर पड़ा मिला था। इस बरामदगी के बाद इजरायल के राष्ट्रपति ने कहा था इसका मतलब साफ है कि हमास के जानवरों ने शानी का सिर कलम कर दिया। हालांकि उससे पहले ही शानी की मां ने इजरायली सरकार से हमास के लड़ाकों के पैरों में दबी उनकी बेटी को बचाकर लाने की अपील की थी। 
 

    यह भी पढ़ें...

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT