सूरत के एक परिवार के सात लोगों के आत्महत्या में बड़ा खुलासा, बीस लाख के क़र्ज़ ने ले ली सात ज़िंदगियाँ, बिज़नेस पार्टनर गिरफ़्तार

ADVERTISEMENT

Photo
Photo
social share
google news

सूरत से संजय सिंह की रिपोर्ट

Surat Crime News: सूरत में एक साथ सात लोगों की सामूहिक आत्महत्या मामले में सूरत पुलिस ने बड़ा खुलासा किया है। घटना के 12 दिन के बाद पुलिस ने एक आरोपी को गिरफ़्तार किया है। गिरफ़्तार व्यक्ति मृतक मनीष सोलंकी का बिज़्नेस पार्टनर इंदरपाल शर्मा है। दोनों फ़र्नीचर के व्यवसाय में भागीदार थे। पुलिस के मुताबिक़ इंदरपाल को मनीष सोलंकी से बीस लाख रुपए लेने थे। इंदरपाल ने मनीष को यह पैसे दिवाली तक चुकाने के लिए दबाव दे रहा था।  

पैसे दिवाली तक चुकाने का दबाव

ADVERTISEMENT

मामले की जानकारी देते हुए सूरत पुलिस के डीसीपी राकेश बारोट ने बताया की गत 29 अक्तूबर की सुबह अड़ाजन पुलिस थाना क्षेत्र के पालनपुर पाटीया इलाक़े एक फ़्लैट से एक साथ सात लोगों का शव बरामद हुआ था। प्राथमिक दृश्या यह सामूहिक आत्महत्या का मामला लगा। पुलिस ने तफ़तीश शुरू की तो पाया की मृतक मनीष सोलंकी ने फाँसी लगाया था जबकि उसके माता-पिता, पत्नी और तीन बच्चों की मौत ज़हर पीने से हुई थी।  

माता-पिता, पत्नी और तीन बच्चों की मौत ज़हर पीने से हुई

ADVERTISEMENT

पुलिस को मौक़े पर एक सुसाइड नोट भी मिला था जिसमें उसने किसी का नाम लिए बिना ही पैसे वापस नहीं मिलने की बात लिखी थी। पुलिस के लिए यह गुत्थी सुलझा पाना बहुत ही मुश्किल था। पुलिस ने इस मामले की गहराई से जाँच में जुटी रही इसी बीच पुलिस को मृतक मनीष की एक और चट्ठी मिली जिसने उसने अपने भागीदार इंदरपाल शर्मा द्वारा बिल का बीस लाख रुपए दीपावली तक चुकाने को लेकर दबाव देने की बात लिखी थी। 

ADVERTISEMENT

फ़र्नीचर की दुकान के लिए क़र्ज़

पुलिस की माने इंदरपाल और मृतक मनीष ने भागीदारी में सूरत के भटार इलाक़े में निधि प्लायवुड नाम से दुकान शुरू की थी। मनीष का फ़र्निचर का काम था और दुकान से उसने माल समान लिया था जिसका पैसा उसे चुकाना था और भागीदार इंदरपाल ने बाक़ी रक़म दीपावली तक चुकाने को कहा था। 

एक लोन मौत के दूसरे दिन अप्रूव हुआ

पुलिस ने तफ़तीश में पाया की मृतक मनीष ने बैंक से लोन लेने के लिए भी कोशिश किया था। उसने दस-दस लाख के क़रीब एक करोड़ दस लाख का लोन के लिए अप्लाय किया था लेकिन उसका लोन रिजेक्ट हो गया था जबकि एक लोन घटना के दूसरे दिन अप्रुवल मिल गया था। पुलिस ने इंदरपाल शर्मा के ख़िलाफ़ धारा 306 यानि ख़ुदकुशी के लिए उकसाना के तहत मामला दर्ज उसे गिरफ़्तार कर लिया है।

नोट:- (अगर आपके या आपके किसी परिचित के मन में आता है खुदकुशी का ख्याल तो ये बेहद गंभीर मेडिकल एमरजेंसी है. तुरंत भारत सरकार की जीवनसाथी हेल्पलाइन 18002333330 पर संपर्क करें. आप टेलिमानस हेल्पलाइन नंबर 1800914416 पर भी कॉल कर सकते हैं. यहां आपकी पहचान पूरी तरह से गोपनीय रखी जाएगी और विशेषज्ञ आपको इस स्थिति से उबरने के लिए जरूरी परामर्श देंगे. याद रखिए जान है तो जहान है.)

    यह भी पढ़ें...

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT