कर्नाटक में अंगीठी बनी मौत की वजह, चार लोगों की गई जान

ADVERTISEMENT

 दम घुटने की वजह से हुई मौतें
दम घुटने की वजह से हुई मौतें
social share
google news

Karnataka Four Persons Died: कर्नाटक के बेंगलुरु ग्रामीण जिले के एक मुर्गी पालन केंद्र में पश्चिम बंगाल के रहने वाले एक ही परिवार के चार लोग संदिग्ध परिस्थितियों में मृत पाए गए। शुरुआती तौर पर पुलिस का कहना है कि दम घुटने की वजह से इनकी मौत हो है, हालांकि पीएम रिपोर्ट से स्थिति साफ होगी। फिलहाल पुलिस मामले की जांच कर रही है। 

मृतकों की पहचान काले सारिकी (60), लक्ष्मी सारिकी (50), उषा सारिकी (40) और पूल सारिकी (16) के रूप में हुई है।

पुलिस के मुताबिक, सभी पश्चिम बंगाल के अलीपुरद्वार जिले के रहने वाले थे और पिछले दस दिनों से कर्नाटक के डोड्डाबल्लापुर तालुक में डोड्डाबेलावंगला के पास होलेयाराहल्ली में एक मुर्गी पालन केंद्र में काम कर रहे थे।

ADVERTISEMENT

रविवार सुबह घटना का पता चला

टपुलिस के मुताबिक, घटना का पता रविवार सुबह उस वक्त चला जब पास के गांव में काम करने वाली काले सारिकी की बेटी ने पुलिस से संपर्क किया। उसने बताया कि लड़की ने अपने परिवार को कई बार फोन किया लेकिन जब किसी भी सदस्य ने उसके फोन का जवाब नहीं दिया, तब वह उन्हें देखने मुर्गी पालन केंद्र आई और वहां घर की बंद खिड़कियों से धुआं निकलते देखा।

ADVERTISEMENT

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा, ‘पुलिस की टीम मौके पर पहुंची और घर का दरवाजा तोड़ा। घर का दरवाजा अंदर से बंद था और पूरा कमरा धुएं से भरा हुआ था। हमें एक अंगीठी, कुछ पत्तियां और परिवार के लोगों के शव मिले। फोरेंसिक विज्ञान प्रयोगशाला के विशेषज्ञों को भी बुलाया गया और मौके से नमूने लिए गए। बेंगलुरु के विक्टोरिया अस्पताल में पोस्टमार्टम के बाद रविवार को शव उनके रिश्तेदारों को सौंप दिए गए।’

ADVERTISEMENT

शुरूआती जांच से पता चला कि शनिवार की रात, खाना खाने के बाद परिवार के सदस्य हमेशा की तरह अपने कमरे में जाकर सो गये। कमरा हवादार नहीं था। अधिकारी ने बताया कि चूंकि बारिश हो रही थी, इसलिये संभवत: परिवार के लोगों ने खुद को गर्म रखने और मच्छरों से बचने के लिये अंगीठी का इस्तेमाल किया होगा।

पुलिस ने घटना में किसी भी तरह की साजिश से इनकार करते हुए कहा कि शवों पर कोई चोट का निशान नहीं पाया गया तथा जहरीले पदार्थ के भी कोई संकेत नहीं मिले।

इनपुट - पीटीआई

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT

    यह भी पढ़ें...