Lucknow Inspactor Murder: CCTV देख पुलिस को मिली साजिश की बू, पांच गोली चलने के 65 सेकंड बाद चीखी थी पत्नी

ADVERTISEMENT

लखनऊ में पीएसी इंस्पेक्टर सतीश कुमार सिंह को उनके घर के बाहर गोली मारी गई थी
लखनऊ में पीएसी इंस्पेक्टर सतीश कुमार सिंह को उनके घर के बाहर गोली मारी गई थी
social share
google news

PAC Inspactor Murder Case: दिवाली की रात उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में पीएसी इंस्पेक्टर की हत्या के सिलसिले में पुलिस को कुछ ऐसे अहम सुराग मिले हैं जिसमें हत्या की साजिश की बू महसूस हो रही है। प्रयागराज में तैनात पीएसी इंस्पेक्टर सतीश कुमार सिंह की दिवाली वाली रात लखनऊ में गोली मारकर हत्या की गई थी। इस मामले की जांच में लगी पुलिस को अब कुछ ऐसे सुराग मिलने लगे हैं जो एक गहरी साजिश की तरफ इशारा कर रहे हैं। और अब तक जो कुछ भी खुलासे सामने आए उसने जांच करने वाली पुलिस को भी बुरी तरह से उलझा कर रख दिया है। 

प्रयागराज में तैनात पीएसी के इंस्पेक्टर सतीश कुमार सिंह और उनकी पत्नी भावना। सतीश कुमार की हत्या लखनऊ में दीवाली की रात हुई थी

दीवाली की रात घर के बाहर मारी गई थी गोलियां

दिवाली की रात इंस्पेक्टर सतीश कुमार सिंह अपनी पत्नी भावना और 10 साल की बेटी के साथ राजाजीपुरम में रहने वाले अपने रिश्तेदार के घर से दीपावली त्योहार का जश्न मनाकर लौटे थे। उस वक़्त रात का दो बजा था। लखनऊ के कृष्णानगर थाना इलाके में  रहने वाले इंस्पेक्टर सतीश कुमार सिंह जब अपनी क्रेटा गाड़ी से उतरकर गेट खोलने के लिए घर की तरफ बढ़े तभी बदमाशों ने उन्हें गोली से भून दिया। उस वक़्त इंस्पेक्टर की पत्नी गाड़ी में ही अपनी बेटी के साथ बैठी थीं। और पुलिस को दिए बयान में उन्होंने बताया था कि वारदात के बाद उन्होंने एक बदमाश को वहां से भागते हुए भी देखा था। घटना के बाद उन्होंने ही कंट्रोल रूम में फोन करके पुलिस को वारदात की इत्तेला दी थी। खबर मिलते ही पुलिस मौके पर पहुँची और गोली लगने से बुरी तरह से घायल हो चुके इंस्पेक्टर सतीश को जब तक अस्पताल पहुँचाया जाता तब तक उनकी मौत हो चुकी थी और अस्पताल में डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया गया था। 

इंस्पेक्टर को पांच गोलियां मारी गई

इंस्पेक्टर को पांच गोलियां मारी गई थीं। जिनमें से तीन गोली गर्दन में एक बाजू में और एक सीने में लगी थी। जांच में ये भी पता चला है कि इंस्पेक्टर की पत्नी भावना ने एक हुडी वाले किसी बदमाश के वहां से भागने का जिक्र किया था। जांच में अब तक जो बात सामने आई वो ये थी कि इंस्पेक्टर को गोली मारने वाले बदमाशों ने गलियों का सहारा लिया जिससे उनकी तस्वीर किसी भी सीसीटीवी कैमरे में न कैद हो सके। लेकिन इंस्पेक्टर सतीश कुमार सिंह के घर के पड़ोस में रहने वाले उनके ही भाई के घर जो सीसीटीवी लगा था उसमें न सिर्फ कुछ तस्वीरें कैद हुईं और वॉयस भी रिकॉर्ड हुई है। 

ADVERTISEMENT

इंस्पेक्टर सतीश की हत्या के बाद पुलिस को मिली साजिश की बू

सीसीटीवी फुटेज की वॉयस रिकॉर्डिंग 

असल में सीसीटीवी फुटेज की वॉयस रिकॉर्डिंग में एक दो नहीं बल्कि पूरे पांच राउंड फायरिंग की आवाज रिकॉर्ड हुई है, लेकिन उसी रिकॉर्डिंग में करीब एक मिनट और पांच सेकंड के बाद एक चीख दर्ज हुई है, जिसके बारे में कहा  रहा है कि वो चीख किसी और की नहीं बल्कि खुद इंस्पेक्टर की पत्नी की है। 

बीवी ने देखा क़ातिल को

अब पुलिस अपनी तफ्तीश के दौरान इस नतीजे पर पहुँचती दिखाई दे रही है कि हत्यारे को इंस्पेक्टर सतीश की पत्नी ने पीछे से तो देखा, मगर उसका चेहरा नहीं देख सकीं। जबकि सीसीटीवी की फुटेज में भी उस हत्यारे का चेहरा नहीं दिखाई दे रहा है। पुलिस ने इस वॉयस रिकॉर्डिंग को सबूत के तौर पर अपने पास रख लिया है। और अब कड़ी से कड़ी जोड़ने की जुगत में पुलिस लग गई है। बीते तीन दिनों के दौरान पुलिस अभी तक इंस्पेक्टर सतीश के करीब एक दर्जन से ज्यादा रिश्तेदारों से भी पूछताछ कर चुकी है। 

ADVERTISEMENT

पति के किरदार पर उठाई उंगली

इतना ही नहीं इंस्पेक्टर की पत्नी ने अपने पति के किरदार पर उंगली उठाते हुए जिन लड़कियों के साथ उनके संबंधों का जिक्र किया उनसे भी पुलिस सवाल जवाब कर चुकी है। और हत्या की इस वारदात को पुलिस ने इस एंगल से भी जोड़कर तफ्तीश का सिलसिला बनाए रखा है। 

ADVERTISEMENT

65 सेकंड बाद सुनी गई बीवी की चीख

पुलिस को अब ये समझने की कोशिश में है कि इंस्पेक्टर सतीश को पूरी पांच गोलियां मारी गईं। ये बात पोस्टमॉर्टम के साथसाथ सीसीटीवी और उसकी वॉयस रिकॉर्डिंग से भी पुष्टि हो चुकी है। और जिस वक़्त हत्या की ये वारदात हुई इंस्पेक्टर की पत्नी वहीं पास में ही गाड़ी में अपनी दस साल की बेटी के साथ मौजूद थीं और आखिरी गोली चलने के करीब एक मिनट और पांच सेकंड के बाद ही उनकी पत्नी की चीखने की आवाज भी उस रिकॉर्डिंग में सुनी जा रही है। 

हत्यारों को कैसे मिली भनक

जांच कर रही पुलिस की मानें तो अब पुलिस उन हत्यारों की तलाश में जुटी है जिन्होंने दीपावली की रात को पीएसी के इंस्पेक्टर को गोलियों से भून डाला। पुलिस अंदाजा लगा रही है कि ये इत्तेफाक तो नहीं हो सकता कि जिस वक़्त इंस्पेक्टर रात के दो बजे अपने परिवार के साथ अपने किसी रिश्तेदार के घर से अचानक लौटे थे तो हत्यारों की टोली को उनके आने की खबर कैसे हुई? इतना ही नहीं, वो घर के बाहर घात लगाकर बैठे थे तो क्या रात में कार की हेडलाइट में किसी को वो हत्यारे नज़र नहीं आए। पुलिस इस बात पर भी गौर कर रही है कि क्या हत्यारों ने पहले से ही इंस्पेक्टर के घर और उनके तमाम कार्यक्रम की रेकी कर रखी थी। 

किरायेदारों से हो रही पूछताछ

पुलिस ने इंस्पेक्टर सतीश के घर में रहने वाले किरायेदारों से भी पूछताछ शुरू कर दी है। ताकि ये पता लगाया जा सके कि घर का माहौल कैसा था और इंस्पेक्टर पर उनकी पत्नी के लगाए इल्जामों की रोशनी में घर में दोनों के बीच के रिश्ते कैसे थे। 

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT

    यह भी पढ़ें...