एल्विश को नहीं दिख रहे अच्छे दिन, दोस्तों ने किया किनारा, मोबाइल बंद करके हुए लापता

ADVERTISEMENT

नोएडा के बाद अब गुरुग्राम की पुलिस ले सकती है एल्विश को रिमांड में
नोएडा के बाद अब गुरुग्राम की पुलिस ले सकती है एल्विश को रिमांड में
social share
google news

Elvish Yadav in jail : लगता है कि एल्विश यादव को किसी की नज़र लग गई। लगता है कि एल्विश यादव के अच्छे दिन अभी दूर हैं। ये बात खुद एल्विश के नजदीकी लोग अब कहते घूम रहे हैं। और ऐसा इसलिए कह रहे हैं कि इतनी शोहरत और दौलत के बावजूद फिलहाल उन्हें कानून के शिकंजे से बचने का कहीं कोई रास्ता नहीं दिख रहा। दूर दूर तक उनकी मुसीबतों का जाल सा बिछा दिखाई दे रहा है। 

जहरीली पार्टी और एनडीपीएस

पहले तो नोएडा और दिल्ली एनसीआर की जहरीली पार्टी के मामले में पुलिस ने उन्हें उठाकर जेल भेज दिया। और उनके खिलाफ एनडीपीएस की तगड़ी धाराएं लगा दीं। और इससे पहले एल्विश को उस संगीन धाराओं के भंवर जाल और एनडीपीएस एक्ट के पंजे से राहत मिल पाती, एक और मारपीट वाला मामला लेकर पुलिस अब फिर अदालत की चौखट में खड़ी है। 

एल्विश पर लगी हैं संगीन धाराएं

एल्विश के कई दोस्त रडार पर

नोएडा पुलिस के भीतर से सामने आई जानकारी पर यकीन किया जाए तो अब एल्विश के कई दोस्त पुलिस की रडार में आ गए हैं। इस सांप कांड के सिलसिले में नोएडा पुलिस कभी भी एल्विश के कुछ दोस्तों को बुलाकर पूछताछ कर सकती है। खासतौर पर वो लोग तो पुलिस की नज़रों में हैं ही जो एल्विश के साथ या तो वीडियो या तस्वीरों ने दिखाई पड़ रहे हैं।

ADVERTISEMENT

दोस्तों ने बंद किए मोबाइल

सांप का जहर रेव पार्टी में जहरीला नशा परोसने के मामले में फंसे एल्विश यादव के आस-पास रहने वाले दोस्तों ने अब अपने अपने मोबाइल बंद कर लिये है। कहा जा रहा है कि जो कल तक एल्विश के सबसे खास बनते थे उन्होंने कन्नी काटनी शुरू कर दी है। खोंपचा रेस्टोरेंट के मालिक विनय यादव व ईश्वर यादव की गिरफ्तारी के बाद कई दोस्त तो अंडरग्राउंड हो गए। 

अगला नंबर फाजिलपुरिया का 

एल्विश के जिन दोस्तों पर पुलिस की खास नज़र बनी हुई है उसमें इस वक्त राहुल फाजिलपुरिया का नाम सबसे ऊपर चल रहा है। क्योंकि एल्विश की जो सांपों के साथ रील इस वक्त छोटे पर्दे पर छाई हुई है वो दरअसल राहुल फाजिलपुरिया की एक पार्टी में बनाया गया था। 

ADVERTISEMENT

दो दोस्त कानून के शिकंजे में

असल में एल्विश के अच्छे दिन दूर हो गए ये बात इसलिए भी कही जा रही है क्योंकि सोहना रोड पर एक खोंपचा रेस्टोरेंट है जिसका मालिक विनय यादव है। वो एल्विश यादव का बेहद खास दोस्त है। खोंपचा रेस्टोरेंट की शहर के पॉश इलाकों में अलग-अलग कई शाखाएं हैं। उसे भी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। और जैसे ही उसकी गिरफ्तारी हुई उसके संपर्क में रहने वाले तमाम लोग अपना मोबाइल बंद करके लापता हो गए।  दूसरा आरोपी ईश्वर यादव है जिसका एक बरात घर है। कहते हैं कि उसी बारात घर में पार्टी के लिए प्लानिंग होती थी। गिरफ्तार आरोपियों के यहां सत्ताधारी पार्टी के कई नेताओं का आना जाना है। लेकिन एल्विश को फंसता देख लोग उसके परिजन और बाकी लोगों से दूरी बनाने लगे हैं। बादशाहपुर, वजीराबाद, सिंकदरपुर, चक्करपुर, पटौदी, फर्रुखनगर के जो नौजवान एल्विश की माला जपते रहते थे, उसके साथ रहने के लिए कुछ भी करने को तैयार नज़र आते थे, वो सब एल्विश का नाम लेने से कतरा रहे हैं।

ADVERTISEMENT

एक के बाद एक मुसीबत में घिरने लगे हैं एल्विश यादव

पिटाई के वीडियो पर अब बवाल

बीती 8 मार्च को सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुआ था।   उस वीडियो में एल्विश यादव का ठाकुर की पिटाई करते हुए एक वीडियो वायरल हुआ था। सागर ठाकुर को जमीन पर गिराते और फिर थप्पड़ मारते हुए एल्विश को देखा गया था। जैसे ही ये वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ तब यूट्यूबर सागर ठाकुर ने गुरुग्राम के सेक्टर 53 पुलिस थाने में जाकर शिकायत दर्ज करवाई थी और उसमें एल्विश के साथ साथ अन्य का नाम लिखा था। 

अगले हफ्ते एल्विश की होगी पेशी

अब अगले हफ्ते यूट्यूबर एल्विश यादव को सागर ठाकुर उर्फ मैक्सटर्न के साथ मारपीट करने के मामले में गुरुग्राम की एक अदालत में पेश किया जाएगा। 27 मार्चको पुलिस एल्विश को गुरुग्राम की अदालत में हाजिर करेगी। गुरुग्राम पुलिस के मुताबिक गुरुग्राम के न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी हर्ष कुमार की अदालत ने पुलिस की तरफ से दायर प्रोडक्शन वारंट के आवेदन पर 27 मार्च को पेशी तय की है। 

जहरीली पार्टी के चक्कर में अब एल्विश के दोस्त हैं पुलिस के रडार पर

रिमांड में ले सकती है पुलिस

गुरुग्राम की अदालत ने यह फरमान नोएडा में जेल प्रशासन को भेज दिया है. एल्विश को उत्तर प्रदेश पुलिस 27 मार्च को गुरुग्राम अदालत में पेश करेगी और फिर गुरुग्राम पुलिस पूछताछ के लिए उसे रिमांड पर लेगी। पुलिस अधिकारी राजेंद्र कुमार ने ये भी बताया है कि इससे पहले एल्विश यादव को जांच में शामिल होने के लिए दो नोटिस भेजे गए थे लेकिन वो हाजिर नहीं हुआ। हालांकि इस मामले में उस वक्त पेंच फंस गया जब एल्विश ने एक वीडियो ऑनलाइन शेयर करते हुए दावा कर दिया कि पूरा मामला ही फेक है क्योंकि सागर ने पूरी प्लानिंग के तहत इस घटना को अंजाम दिया। बाद में उन्होंने अपने सोशल मीडिया हैंडल से एक और वीडियो शेयर किया था और अपने किए हुए पर माफी भी मांगी थी। एल्विश ने अपने सोशल मीडिया हैंडल से ठाकुर के साथ एक फोटो भी शेयर की थी और कैप्शन में लिखा था- भाईचारा सबसे ऊपर।

लेकिन इस वीडियो के बाद ही अगले रोज नोएडा पुलिस ने उसे धर लिया और तब से वो जेल में ही है। 

    यह भी पढ़ें...

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT