दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल को क्या सुप्रीम कोर्ट से मिलेगी राहत या नहीं?

ADVERTISEMENT

Delhi CM Arvind Kejriwal Arrested
Delhi CM Arvind Kejriwal Arrested
social share
google news

Delhi CM Arvind Kejriwal: दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल एक तरफ अरेस्ट हुए, दूसरी तरफ वो तुरंत सुप्रीम कोर्ट पहुंच गए। थोड़ी देर में अरविंद केजरीवाल की अर्जी पर सुप्रीम कोर्ट की तीन जजों की खंडपीठ सुनवाई करेगी। ईडी ने गुरुवार को सीएम को अरेस्ट किया था। देखना होगा कि सुप्रीम कोर्ट इस मसले पर क्या रुख अपनाती है।

दिल्ली आबकारी नीति 2021-22 में कथित अनियमितताओं से जुड़े धनशोधन मामले में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को हिरासत में लेने के लिए प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) उन्हें शुक्रवार को विशेष पीएमएलए (धन-शोधन निवारण अधिनियम) अदालत में पेश करेगी।

आम आदमी पार्टी (आप) के राष्ट्रीय संयोजक केजरीवाल को दिल्ली के सिविल लाइन्स इलाके में फ्लैगस्टाफ रोड स्थित उनके आधिकारिक आवास से गुरुवार रात को गिरफ्तार किया गया था। चिकित्सकों समेत चिकित्सा कर्मियों के एक दल को मध्य दिल्ली स्थित प्रवर्तन निदेशालय के कार्यालय में सुबह के समय प्रवेश करते देखा गया, जहां केजरीवाल को गिरफ्तारी के बाद रखा गया है।

ADVERTISEMENT

ऐसा समझा जाता है कि निदेशालय ने केजरीवाल को अदालत में ले जाने से पहले उनकी चिकित्सकीय जांच के लिए चिकित्सा कर्मियों को बुलाया था।

प्रवर्तन निदेशालय केजरीवाल पर जांच में लगातार ‘‘असहयोग’’ करने का आरोप लगाते हुए और शराब नीति में कथित अनियमितताओं से उनकी पार्टी का संबंध और उनकी व्यक्तिगत भूमिका का पता लगाने के लिए अदालत से उन्हें 10 दिन की हिरासत में भेजने का अनुरोध कर सकता है।

ADVERTISEMENT

ऐसी संभावना है कि एजेंसी अदालत से यह भी कहेगी कि बीआरएस (भारत राष्ट्र समिति) की नेता के. कविता समेत अन्य गिरफ्तार आरोपियों और गवाहों का केजरीवाल से आमना-सामना कराए जाने की आवश्यकता है।

ADVERTISEMENT

केजरीवाल के वकीलों द्वारा इसका विरोध किए जाने की संभावना है। उन्होंने प्रवर्तन निदेशालय की कार्रवाई को ‘‘अवैध’’ बताया था।

प्रक्रिया के अनुसार, एजेंसी रिमांड संबंधी कागजात तैयार करने से पहले गिरफ्तार व्यक्ति से संक्षिप्त पूछताछ भी करती है, जिसे उसकी हिरासत के अनुरोध के लिए अदालत के समक्ष रखा जाता है।

इस बीच, ए पी जे अब्दुल कलाम रोड स्थित ईडी कार्यालय एवं मुख्यमंत्री के आधिकारिक आवास के आसपास सुरक्षा कड़ी कर दी गई है और दिल्ली पुलिस एवं केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल (सीएपीएफ) के जवानों ने अतिरिक्त अवरोधक लगाए हैं।

ईडी के आरोप पत्र में केजरीवाल के नाम का उल्लेख कई बार किया गया है। एजेंसी का आरोप है कि आरोपी आबकारी नीति बनाने के लिए केजरीवाल के संपर्क में थे। यह नीति बनाने और इसे लागू करने के लिए आप पर रिश्वत लेने का आरोप है।

इस मामले में अब तक कुल 16 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है और ईडी ने छह आरोप पत्र दाखिल किए हैं।

    यह भी पढ़ें...

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT