8 साल पहले हुए मर्डर का राज़ ऐसे आया सामने

ADVERTISEMENT

CrimeTak
social share
google news

मध्य प्रदेश के छिंदवाड़ा इलाका यहांपर पुलिस ने हत्या का एक ऐसे मामले का खुलासा किया है जिससे पूरे छिंदवाड़ा में हड़कंप मचा हुआ है। यहां पर पुलिस ने करीब 8 साल पहले गायब हुए बच्चे का शव बरामद किया है।

2013 में ये बच्चा आम के पेड़ से आम तोड़ने गया था लेकिन उसके आसपास करंट लगा हुआ था जिसकी चपेट में आकर बालक की मौत हो गई थी।जिसके बाद उस पेड़ के मालिक ने लाश को जमीन में गाड़ दिया लेकिन साल 2021 में पुलिस ने आखिरकार गायब हुए इस बच्चे की गुत्थी को सुलझा लिया।और इस केस को लेकर कुछ हैरान करने वाली बातें भी बताई।

छिंदवाड़ा के पुलिस अधीक्षक (एसपी) विवेक अग्रवाल ने बताया कि उमरेठ थाना क्षेत्र के दबक गांव का रहने वाला 16 साल का बालक 4 दिसंबर 2013 को लापता हो गया था। तब से उसके बारे में कोई सुराग नहीं मिल पा रहा था।

ADVERTISEMENT

पुलिस की तरफ से गुम हुए बालक बालिकाओं के लिए ऑपरेशन मुस्कान के तहत अभियान चलाया जा रहा है। इसी के तहत जब थाना उमरेठ में एक बालक के गुम होने के आठ साल से लंबित मामले की फिर से जांच शुरु की गई तो जांच के टीम के सामने जो सच्चाई सामने आई उससे पूरा पुलिस महकमा हिल गया।

छिंदवाड़ा के पुलिस अधीक्षक (एसपी) विवेक अग्रवाल ने बताया कि उमरेठ थाना क्षेत्र के दबक गांव का रहने वाला 16 साल का बालक 4 दिसंबर 2013 को लापता हो गया था। तब से उसके बारे में कोई सुराग नहीं मिल पा रहा था।

ADVERTISEMENT

पुलिस की तरफ से गुम हुए बालक बालिकाओं के लिए ऑपरेशन मुस्कान के तहत अभियान चलाया जा रहा है। इसी के तहत जब थाना उमरेठ में एक बालक के गुम होने के आठ साल से लंबित मामले की फिर से जांच शुरु की गई तो जांच के टीम के सामने जो सच्चाई सामने आई उससे पूरा पुलिस महकमा हिल गया।

ADVERTISEMENT

पुलिस ने बताया कि गुम हुआ बालक आखिरी बार अपने एक दोस्त के साथ आम तोड़ने की बात कहकर निकला था लेकिन शाम को सिर्फ उसका दोस्त ही वापस लौटा। दोस्त भी तब नाबालिग था लेकिन अब बालिग हो चुका है।

लिहाज़ा पुलिस ने उससे कड़ाई से पूछताछ की तो उसने पीरी वारदात का सच बताया कि दोनों जिस बाग में आम खाने गए थे उसके मालिक ने आम के पेड़ के चारो ओर करंट बिछा रखा था जिससे कोई जानवर या कोई अन्य शख्स उसके आम ना तोड़ सके। जब दोनों ने पेड़ से आम तोड़ने की कोशिश की तो उन्हे करंट लगा और दोनों झटका खाकर जमीन पर गिर पड़े।

दोस्त के मुताबिक गुम हुए बालक को जोर का झटका लगा था जिससे वो उठ नहीं पाया जबकि उसे हल्का झटका लगा था। वो चुपचाप अपने घर आ गया। उसकी उम्र छोटी थी और वो अचानक हुए घटनाक्रम से बेहद सदमे में था और चीजें समझ नहीं पाया तो घर पर आकर भी किसी को कुछ नहीं बताया।

अब 8 साल बाद जब उसने इस खतरनाक सच को सामने लेकर आया तो उस समय बाग के मालिक रामदास को गिरफ्तार कर लिया गया और उससे पूछताछ की गई। तो उसने बताया कि उसने जब बालक के शव को आम के पेड़ के पास देखा तो शव को कुछ दूरी पर गड्डा खोद कर दफना दिया और किसी को भी इस वारदात की जानकारी नही दी।

पुलिस के मुताबिक पेड़ के मालिक के बयान के आधार पर मृत बालक के कंकाल को न्यायायिक दंडाधिकारी की उपस्थिति में जमीन से खोदकर निकाला गया और पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है।इसके साथ ही बाग के मालिक को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है।

    यह भी पढ़ें...

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT