दबंग दारोगा की बीच बाजार गुंडई, डंडे से इतना पीटा खून की उल्टी करके मर गया मजदूर

ADVERTISEMENT

CrimeTak
social share
google news

DEORIA POLICE CRIME: उत्तर प्रदेश की पुलिस कभी भी कुछ भी ऐसा कर देती है जिससे खाकी बदनाम हो जाती है। ताजा किस्सा देवरिया से सामने आया है। बताया जा रहा है कि यहां दारोगा वीरेंद्र कुशवाहा ने बीच बाजार एक शख्स की इस कदर बेरहमी से पिटाई कर दी कि इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। इस वारदात के खुलासे के बाद से ही उत्तर प्रदेश पुलिस महकमे में अदना से लेकर आला अधिकारी तक के बीच हड़कंप मचा हुआ है। अपना दामन बचाने के लिए पुलिस की तरफ से भरोसा दिया गया है कि इस मामले की जांच के बाद कसूरवार को सख्त सजा दी जाएगी। 

दारोगा की मनमानी

ये किस्सा देवरिया के बरहज थाना इलाके का है। यहां सतराव गांव का रहने वाला 30 साल का दद्दन यादव मजदूरी करता था। लेकिन उसका गांव के प्रधान के घर भी आना जाना था। बताया जा रहा है कि दारोगा वीरेंद्र कुशवाहा कुछ दबंग किस्म का अफसर है। और आरोप तो यहां तक हैं कि वो बिना किसी बात के लोगों के चालान काटता है। कुछ अरसा पहले ही उसने ग्राम प्रधान के बेटे की गाड़ी का भी चालान काट दिया था जिसको लेकर अच्छा खासा हंगामा खड़ा हो गया था। ऐसे में दद्दन की प्रधान के परिवार से नजदीकी के बारे में जब दारोगा को पता चला तो उसने दद्दन को तंग करना शुरू कर दिया।

बीच चौराहे पर की मजदूर की धुनाई

अपनी खुन्नस निकालने के लिए सोमवार की शाम करीब 4 बजे सतराव चौराहे पर दारोगा ने जैसे ही दद्दन को देखा तो उसे ललकार कर बुलाया और दद्दन के पास आते ही उसकी डंडे से पिटाई शुरू कर दी। काफी देर तक दारोगा दद्दन की धुनाई करता रहा। सारा बाजार सांस रोककर ये तमाशा देखता रहा। मगर किसी की हिम्मत नहीं हुई कि वो दारोगा को रोक ले। दारोगा का हाथ तब रुका जब दद्दन खून की उल्टियां करने लगा। 

ADVERTISEMENT

अस्पताल में निकला दद्दन का दम

दारोगा के वहां से हटते ही दद्दन के घरवाले उसे लेकर अस्पताल पहुँचे लेकिन मंगलवार को इलाज के दौरान दद्दन ने दम तोड़ दिया। जब दद्दन को बरहज के अस्पताल ले जाया गया तो वहां उसकी हालत देखकर डॉक्टरों ने उसे देवरिया मेडिकल कॉलेज रेफर कर दिया। लेकिन दद्दन को बचाया नहीं जा सका। दद्दन की मौत की खबर पुलिस महकमे पर किसी गाज की तरह गिरी। 

वारदात पर सियासत तेज

अब इस वारदात को लेकर देवरिया से लेकर लखनऊ तक बवाल मचा हुआ है। सोशल मीडिया प्लेटफार्म X पर सपा चीफ अखिलेश यादव ने लिखा-

ADVERTISEMENT

भाजपा के राज में पुलिस प्रशासन के अंदर कुछ भ्रष्ट लोगों को ऐसा लगने लगा है कि वो कुछ भी अवैधानिक करेंगे तो उनके भाजपाई आका उनको बचा लेंगे। चुनावों में जनता इस गलतफहमी को दूर कर रही है। सरेआम अत्याचार, जनता से जानलेवा मारपीट, हिरासत में मौत, झूठे एन्काउंटर, बढ़ती वसूली जैसे मुद्दों ने भाजपा के काल में पुलिस को बेलगाम बना दिया है। देवरिया की दोषी पुलिस के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज हो और मृतक के परिवार को कम-से-कम 5 करोड़ का मुआवज़ा दिया जाए।

पुलिस महकमा सकते में 

हालांकि अब पुलिस महकमे ने अपनी खाल बचाने के लिए ये कहना शुरू कर दिया है कि इस मामले की जांच की जा रही है और जो भी कसूरवार है उसे कड़ी सजा मिलेगी। फिलहाल दारोगा फरार बताया जा रहा है।

ADVERTISEMENT

    यह भी पढ़ें...

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT