छत्तीसगढ़: प्रेमी ने प्रेमिका को पाने के लिए ऐसी साजिश रची जो कभी आपने सोचा भी नहीं होगा...

ADVERTISEMENT

Chhattisgarh Crime News
Chhattisgarh Crime News
social share
google news

रघुनंदन पंडा के साथ चिराग गोठी की रिपोर्ट

Chhattisgarh Crime News: प्यार में इंसान अंधा हो जाता है, ये कहावत बिल्कुल सही है। एक शख्स को एक युवती से प्यार हो गया, लेकिन युवती के घरवालों ने उसकी शादी किसी और से करा दी। बाद में युवक की भी किसी और से शादी हो गई, लेकिन दोनों के बीच प्यार खत्म नहीं हुआ। अब दोनों शादीशुदा होने के बावजूद छिप-छिप कर मिलते थे। दोनों ने ये तय कर लिया था कि आने वाले वक्त में साथ में ही रहेंगे। अब युवक ने एक साजिश रची और वो साजिश, जिससे वो पकड़ा भी जा सकता है, लेकिन उसके ऊपर प्यार का भूत इस कदर सवार था कि उसे कुछ नहीं सूझा।

युवक ने एक बुजुर्ग महिला का कत्ल किया और उसके शव को अपनी प्रेमिका के घर पर फेंक दिया ताकि लोग समझे कि उसकी प्रेमी मर गई है, लेकिन एक गलती कातिल को भारी पड़ गई।

ADVERTISEMENT

ये कैसा प्यार?

ये मामला है छत्तीसगढ़ के दुर्ग शहर का है। दुर्ग शहर के गिरधारी नगर इलाके में रहने वाली सुप्रिया का चक्कर उमेश साहू से चल रहा था। उमेश गंडई का रहने वाला था। गंडई दुर्ग से 70 किलोमीटर दूर है। सुप्रिया का मायका गंडई में है। उमेश का वहां क्लीनिक है। वो झोला छाप डॉक्टर है। दोनों एक-दूसरे से शादी करना चाहते थे, लेकिन ऐसा हो नहीं पाया। सुप्रिया की शादी भूपेंद्र से हो गई। अब सुप्रिया गिरधारी नगर में शिफ्ट हो गई। दोनों के बच्चे भी हुए, लेकिन सुप्रिया छिप-छिप कर उमेश से मिलती रही और उमेश भी उससे मिलता रहा।

ADVERTISEMENT

आरोपी पुलिस गिरफ्त में 

ये प्यार है या कुछ और...

ADVERTISEMENT

अब सुप्रिया भूपेंद्र के साथ नहीं रहना चाहती थी, लिहाजा उसने ये बात उमेश को बताई। दोनों ने प्लानिंग रची। पुलिस के मुताबिक, उमेश को लगा कि अगर वो किसी महिला का मर्डर कर दे और लाश को सुप्रिया के घर के पास स्टोर रूम में फेंक दे तो उसके घरवालों को लगेगा कि सुप्रिया मर गई है। तब वो साथ में रह सकते हैं, लेकिन ये प्लानिंग इतनी आसानी नहीं थी। पहले तो ऐसी महिला को तलाशना था, जिसकी हत्या की जा सके और दूसरा लाश को ठिकाने लगाकर ये सिद्ध करना था कि सुप्रिया मर गई है।

टारगेट की तलाश हुई शुरू

उमेश की नजर एक बूढ़ी महिला पर थीं। ये बूढ़ी महिला उमेश के क्लीनिक पर आती थीं। उसे लग रहा था कि अगर इस महिला का मर्डर कर दिया जाए तो कोई फर्क नहीं पड़ेगा, क्योंकि महिला के आगे-पीछे कोई नहीं था। लोग समझेंगे कि महिला बुढ़ापे में गायब हो गई। अब उसे महिला के क्लीनिक में आने का इंतजार था।

पहले मर्डर किया, फिर लाश को फ्रिज में रखा

पुलिस के मुताबिक, 15 अगस्त को महिला क्लीनिक पर आई। उमेश ने मौका पाकर महिला का मुंह दबाकर मर्डर कर दिया। इसके बाद उमेश ने ये बात सुप्रिया और इस साजिश में उसका साथ दे रहे अपने दोस्त को बताई। मर्डर करने के बाद उसने महिला की लाश को अपनी क्लीनिक में मौजूद फ्रिज में रखा।

स्टोर में लाश को जलाया गया

अब लाश को ठिकाने लगाना था। इसके लिए उसने अपने दोस्त प्रदीप को क्लीनिक बुलाया। फिर लाश को अपनी कार में रखा और गंडई से गिरधारी नगर इलाके में दोनों सुप्रिया के घर पर पहुंच गए। तीनों ने रात के अंधेरे में सुप्रिया के घर के पास एक स्टोर में लाश को आग लगाई और उसके आसपास सुप्रिया के कंगन और दूसरी चीजें फेंक दी ताकि सबको लगे कि सुप्रिया की मौत हो गई है। इसके बाद तीनों फरार हो गए। जब काफी देर तक घरवालों को सुप्रिया का पता नहीं चला तो उन्हें स्टोर से जलने की बदबू आई। वो वहां पहुंचे तो लाश जल रही थी। 15 अगस्त की देर रात महिला की लाश मिलने पर सुप्रिया के घरवालों ने मोहन नगर थाने को सूचना दी। शुरू में सबको लगा कि सुप्रिया की जलने से मौत हो गई है। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए राजनंद गांव मेडिकल कॉलेज भिजवाया।

... जब पता चला कि सुप्रिया तो मायके में है

इस दौरान पता चला कि सुप्रिया तो अपने मायके में है। तुरंत पुलिस वहां पहुंची और जब उससे सख्ती से पूछताछ हुई तो उसने सारा राज खोल दिया।  सुप्रिया ने पुलिस को बताया कि उसने अपने प्रेमी उमेश साहू और उसके दोस्त प्रदीप जंघेल के साथ मिलकर इस वारदात को अंजाम दिया।

जांच में पता चला कि उमेश ने तकिये से मुंह दबाकर महिला की हत्या की थी। आरोपी ने बताय कि उसने पहले महिला की लाश फ्रीजर में रखी और फिर  होंडा अमेज कार में दोस्त प्रदीप जंघले के साथ लाश लेकर देर रात सुप्रिया के घर पहुंच गया।

सुप्रिया के घर के पास एक स्टोर रूम है, जिसमें गोबर के कंडे और लकड़ियां रखीं रहती हैं। उमेश, प्रदीप और सुप्रिया ने बुजुर्ग महिला की लाश उस स्टोर रूम में रखकर उसके ऊपर पेट्रोल छिड़का और रात के समय ही आग लगा दी। 

हत्या के बाद आरोपी के साथ रही सुप्रिया

जांच में पता चला है कि वारदात को अंजाम देने के बाद सुप्रिया अपने प्रेमी उमेश के साथ उसके मेडिकल स्टोर गंडई आ गई और रात वहीं काटी। अगले दिन उमेश ने उसे उसके ससुराल के पास छोड़ दिया और वहां से फरार हो गया। यहां से सुप्रिया अपने मायके चली गई।

क्राइम पेट्रोल सीरियल देखकर बनाया प्लान

पुलिस ने बाद में उमेश, सुप्रिया और उसके दोस्त को अरेस्ट कर लिया। दुर्ग एसपी शलभ सिन्हा ने बताया कि आरोपियों ने टीवी सीरियल क्राइम पेट्रोल देखकर पूरी वारदात को अंजाम दिया। तीनों को कोर्ट में पेश कर जेल भेज दिया गया है।

    यह भी पढ़ें...

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT