पोर्न देखकर इस स्पेशल हॉर्मोन की वजह से लड़के करते हैं रेप, सपा सांसद ने बताई गजब वजह, नए कानून की उठाई मांग

ADVERTISEMENT

Dr. ST Hasan
Dr. ST Hasan
social share
google news

Rape Porn Video link : देश में रेप की घटनाओं में कमी लाने के लिए समाजवादी पार्टी के मुरादाबाद सांसद डॉ. एसटी हसन (Dr. ST Hasan)ने गजब का फॉर्म्यूला दे दिया है. उन्होंने एक बयान में कहना है कि रेप की घटनाएं रोकने के लिए शरीयत कानून की जरूरत है. ये भी बताया कि रेप को रोकने के लिए पोर्न वेबसाइट और सोशल मीडिया पर अंकुश लगाना होगा. क्योंकि जैसे ही लड़के पोर्न वेबसाइट (Porn Website) पर अश्लील फिल्में देखते हैं तो उनके शरीर में स्पेशल हॉर्मोन बनता है. यही स्पेशल हॉर्मोन उन लड़कों को रेप के लिए उकसाता है. 

Rape Cases Reason in India : मुरादाबाद के समाजवादी पार्टी के सांसद डॉ. एसटी हसन ने रेप की घटनाओं पर रोक के लिए शरीयत कानून को लागू करने पर जोर दिया. साथ में ये कहा कि रेप जैसी घटनाएं रोकने के लिए सऊदी अरब का उदाहरण भी दिया. सांसद ने कहा कि सऊदी अरब में रेप और बड़ी क्राइम की घटनाएं क्यों नहीं होती हैं. उन्होंने कहा कि अरब में सख्त कानून की वजह से ऐसी घटनाएं नहीं होती हैं. इसलिए इंडिया में भी ऐसी शरीयत कानून की जरूरत है.

Next : आगे जानते हैं एक्सपर्ट की राय, क्या वाकई पोर्न से नुकसान होता है?

ADVERTISEMENT

पोर्न फिल्म देखने से क्या नुकसान होते है?

Porn Addiction : पोर्न देखने से मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य पर असर पड़ता है और यह व्यक्ति को डिप्रेशन में ला सकता है. जीवन पर नकारात्मक असर डालने के साथ ही पोर्नोग्राफी से पुरुषों में इरेक्टाइल डिस्फंक्शन तक की बीमारी लग सकती है.

पोर्न एडिक्शन क्या है?

Porn Addiction In india : लेकिन, जब पोर्न के आदी हो जाते हैं, तो आप दूसरों के साथ बातचीत करने या महत्वपूर्ण कार्यों को पूरा करने के बजाय पोर्न देखने में बहुत अधिक समय व्यतीत करते हैं. यदि पोर्न एडिक्ट के जीवन में यह व्यवहार जारी रहता है, तो यह उसके करियर, रिश्तों या यहां तक कि स्वास्थ्य को भी नुकसान पहुंचा सकता है.

ADVERTISEMENT

सांकेतिक फोटो

क्या पॉर्न नुक़सानदेह है?

कई रिसर्चों में यह साबित हुआ है कि पोर्न की लत पुरुषों में इरेक्टाइल डिस्फंक्शन की आशंका को बढ़ाती है. पोर्न की लत दिमाग में उस गंदे विचार को भरता है जो पोर्नग्राफी में देखा गया है. इससे संबंध बनाने के दौरान वास्तविकता से तुलना की जाती जो अक्सर गलत होता है और इस स्थिति में व्यक्ति डिप्रेस्ड होने लगता है.

ADVERTISEMENT

    यह भी पढ़ें...

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT