ये क्या हो रहा है बिहार में ! बिहार में अपराधियों का बोलबाला ! कटिहार में बदमाशों ने की मेयर शिवराज पासवान की गोली मारकर हत्या

ADVERTISEMENT

CrimeTak
social share
google news

बिहार के कटिहार में गुरुवार देर रात अपराधियों ने बड़ी वारदात को अंजाम देते हुए मेयर शिवराज पासवान की गोली मारकर हत्या कर दी। इससे पहले उन्हें आनन फानन में निकट के अस्पताल में ले जाया गया, जहां डॉक्टर ने शिवराज को मृत घोषित कर दिया। घटना से बाद से इलाके में भारी पुलिस बल तैनात है। अब पुलिस लकीर पीट रही है . आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए जगह जगह छापेमारी की जा रही है.

कैसे हुई वारदात

पुलिस के मुताबिक, नगर थाना क्षेत्र के संतोषी मंदिर चौक के पास अज्ञात अपराधी पहले से घात लगा कर बैठे हुए थे. उन्हें पता था कि मेयर शिवराज मंदिर जरूर आएंगे... मेयर ड्राइवर टोला स्थित अपने घर से संतोषी मंदिर जाने के लिए मोटरसाइकिल से निकले। मेयर शिवराज पासवान संतोषी मंदिर चौक के पास जैसे ही पहुंचे . पहले से इंतजार में बाइक सवार दो से तीन अज्ञात अपराधियों ने उनपर ताबड़तोड़ फायरिंग कर दी। लहुलुहान हालत में उन्हें अस्पताल ले जाया गया, जहां डाक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया...

ADVERTISEMENT

चिराग पासवान ने दुख जताया

लोजपा सांसद चिराग पासवान ने घटना को लेकर सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर दुख जाहिर करते हुए कहा कि "कटिहार के मेयर शिवराज पासवान जी की हत्या का समाचार सुनकर स्तब्ध हूं। 17 जुलाई 2021 को 'आशीर्वाद यात्रा' के दौरान उनसे कटिहार में मुलाकात हुई थी। वह बेहद ही सरल स्वभाव के व्यक्ति थे। मैं ईश्वर से उनकी आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना करता हूं। दुख की इस घड़ी में मैं उनके परिवार के साथ खड़ा हूं। यह घटना सुशासन के दावों की पोल खोलती है। प्रशासन से यह मांग करता हूं कि जल्द से जल्द दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा दी जाए।

ADVERTISEMENT

कटिहार के पहले निर्विरोध मेयर बने थे शिवराज

ADVERTISEMENT

कटिहार के मेयर रहे विजय सिंह बरारी से जेडीयू के विधायक हो गए। उनके इस्तीफा देने की वजह से महापौर का पद खाली हुआ था। जिसके बाद 24 मार्च को चुनाव कराया गया। इसके पहले उपमेयर सूरज प्रकाश राय प्रभारी मेयर के रूप में काम देख रहे थे। नगर निगम के पार्षद शिवराज पासवान निर्विरोध मेयर निर्वाचित हुए थे। कटिहार नगर निगम के पहले निर्विरोध मेयर बने थे। 45 निगम पार्षद में विजय सिंह के विधायक बनने के बाद पार्षदों की संख्या 44 थी। मगर शिवराज पासवान बिना किसी रुकावट के महापौर निर्वाचित हुए थे।

तो आखिर हमलावर कौन ?

कटिहार के महापौर पर ये हमला क्यों किया गया? उन्हें किस मंशा से गोलियां से भूना गया? अबतक ये साफ नहीं हो पाया है कि आखिर शिवराज पासवान की हत्या की वजह क्या रही और हमलावर कौन थे.. पुलिस मामले की तफ्तीश कर रही है.

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT

    यह भी पढ़ें...