बिहार की जेलों में होगी सख्ती, 15 जेलों में लगेंगे हार्मोनियस कॉल ब्लॉकिंग सिस्टम टावर

ADVERTISEMENT

जांच में जुटी पुलिस
जांच में जुटी पुलिस
social share
google news

Bihar Crime News: बिहार सरकार ने जेल परिसरों से अनधिकृत फोन कॉल रोकने के लिए राज्य की सभी 15 जेलों में ‘हार्मोनियस कॉल ब्लॉकिंग सिस्टम’ (एचसीबीएस) के टावर लगाने का अहम फैसला किया है। ये एचसीबीएस टावर केंद्रीय कारागार (बेउर, पटना), केंद्रीय कारागार (बक्सर), केंद्रीय कारागार (मोतिहारी), शहीद खुदीराम बोस केंद्रीय कारागार (मुजफ्फरपुर), केंद्रीय कारागार (पूर्णिया), शहीद जुब्बा सहनी केंद्रीय कारागार (भागलपुर), विशेष केंद्रीय कारागार (भागलपुर), केंद्रीय कारागार (गया), जिला कारागार (छपरा), जिला कारागार (दरभंगा), जिला कारागार (सहरसा), जिला कारागार (मुंगेर), जिला कारागार (फुलवारी शरीफ), उप-जेल ( दानापुर) और उप-जेल (पटना सिटी) में स्थापित किए जाएंगे।

बिहार की जेलों में होगी सख्ती

अपर मुख्य सचिव एस (गृह सचिव) सिद्धार्थ ने बुधवार को पीटीआई-भाषा को बताया, ‘‘गृह विभाग (कारागार) का जेल और सुधार सेवाएं प्रदेश की जेलों में सुरक्षा प्रणालियों को बढ़ाने पर ध्यान दे रहा है। जेल परिसरों से प्रतिबंधित संचार उपकरण (मोबाइल फोन) की बरामदगी लंबे समय से एक चुनौती रही है। हमने सभी जेलों में तलाशी बूथ स्थापित करने की योजना को मंजूरी दे दी है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि मोबाइल या प्रतिबंधित वस्तुएं जेल परिसर के अंदर नहीं ले जाई जा सकें।” उन्होंने कहा, “इसके साथ ही राज्य की 15 जेलों में एचसीबीएस टावर लगाने के प्रस्ताव को भी मंजूरी मिल गई है और इस बाबत प्रक्रिया शुरू हो गई है। इससे जेल परिसर से अनधिकृत फोन कॉल को रोका जा सकेगा और जेल के अंदर से अनधिकृत तौर पर फोन कॉल करने के किसी भी प्रयास को पकड़ा जा सकेगा।’’

15 जेलों में लगेंगे हार्मोनियस कॉल ब्लॉकिंग सिस्टम 

उन्होंने कहा कि राज्य की 15 जेलों में एचसीबीएस टावर लगाने की प्रक्रिया बहुत जल्द पूरी हो जाएगी। सिद्धार्थ ने कहा कि विभाग ने परियोजना के लिए पात्र कंपनियों की पहचान करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। उन्होंने कहा, ‘‘परियोजना को पात्र कंपनियों को आवंटित किए जाने के बाद उन्हें इसे समयबद्ध तरीके से पूरा करना होगा।’’ विभागीय नोट के अनुसार, ‘‘केंद्रीय गृह मंत्रालय के दिशा-निर्देशों के अनुसार जेल परिसरों और उनके आसपास के क्षेत्रों में सिग्नल की कवरेज, क्षमता और गुणवत्ता का सर्वेक्षण करने के लिए दूरसंचार विभाग को कुछ निर्देश दिए गए थे। विभिन्न दूरसंचार सेवा प्रदाताओं (टीएसपी) द्वारा सर्वेक्षण किया गया था।”

ADVERTISEMENT

15 जेलों में एचसीबीएस टावर स्थापित करने का निर्णय 

उसमें कहा गया है कि सर्वेक्षण के बाद दूरसंचार विभाग ने पाया कि जेल परिसरों में अभी भी सिग्नल की उपलब्धता है और अनधिकृत तौर पर फोन कॉल करने की संभावनाएं हैं। नोट के मुताबिक, जेल परिसर से अनधिकृत फोन कॉल को रोकने और दूरसंचार विभाग के सुझावों के तहत विभाग ने राज्य की 15 जेलों में एचसीबीएस टावर स्थापित करने का निर्णय लिया है। इस नोट की प्रति पीटीआई-भाषा के पास है। पिछले साल दिसंबर में आरा (भोजपुर जिला) जेल से करीब 35 मोबाइल फोन जेल अधिकारियों ने बरामद किए थे जिन्हें पांच-छह फुट के गड्ढों में छुपाया गया था।

(PTI)

ADVERTISEMENT

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT

    यह भी पढ़ें...