अनंतनाग के जंगल में घिरे हैं आतंकी, 50 घंटे से ज़्यादा देर से जारी ऑपरेशन

ADVERTISEMENT

अनंतनाग में एनकाउंटर जारी
अनंतनाग में एनकाउंटर जारी
social share
google news

Anantnag Encounter: जम्मू कश्मीर के अनंतनाग जिले में सेना और आतंकियों के बीच मुठभेड़ अब भी जारी है। करीब 50 घंट से ये मोर्चा बंधा हुआ है। कोकेरनाग के जंगलों में लगातार तीसरे दिन आतंकियों का सफाया करने के लिए सुरक्षा बल का ऑपरेशन जारी है। 

मुठभेड़ में एक और जवान की मौत 

इसी बीच एक और गहरी चोट लगने वाली खबर सामने आई। खुलासा हुआ है कि मुठभेड़ में एक और जवान की मौत हो गई जबकि दो जवान बुरी तरह से जख्मी हो गए। घायल जवानों को अस्पताल में भर्ती करवाया गया है।  दक्षिण कश्मीर के अनंतनाग में ऑपरेशन जारी है। लश्कर के दो आतंकी इसी पहाड़ी पर घिरे हुए हैं। सुरक्षा बल ने चारो तरफ घेरा लगाया हुआ है। क्वाड कॉप्टर और ड्रोन से आतंकियों पर नजर रखी जा रही है। 

पैरा कमांडो ने मोर्चा संभाला

इसी बीच खबर सामने आई है कि ऑपरेशन में अब पैरा कमांडो ने भी मोर्चा संभाल लिया है। जिस जंगल में ऑपरेशन चल रहा है वो बेहद घना है और इलाका पहाड़ी ऐसे में ऑपरेशन को आगे बढ़ाने के लिए कमांडो के विशेष दस्ते को आगे बढ़ाया गया है। सारा इलाका सेना ने घेर रखा है। जंगल में झांकने की गरज से जंगल के ऊपर से ड्रोन और क्वाड कॉप्टर से नजर रखी जा रही है। सेना को पहाड़ी पर आतंकियों के छुपे होने की आशंका है। लिहाजा उन्हें वहां से खदेड़ने के लिए सेना की तरफ से रॉकेट भी दागे गए। ऐसी आशंका जताई जा रही है कि लश्कर के इन दो आतंकियों में से एक उजैर है जिस पर 10 लाख रुपये का इनाम भी है। 

ADVERTISEMENT

 मेजर आशीष को अंतिम विदाई 

इसी बीच खबर सामने आई है कि पानीपत में मेजर आशीष को अंतिम विदाई देने के लिए सारा पानीपत उमड़ पड़ा है। इस शहादत पर यूं तो हर किसी को नाज हो रहा है, मगर सारा आलम उदास है। रह रह कर हो रही बरसात भी पानीपत के इस गम में अपने हिस्से का रोल अदा कर रही है। 

इससे पहले, बुधवार की रात गुजरने के बाद गुरुवार को  सुरक्षाबलों ने सुबह करीब छह बजे दोबारा दहशतगर्दों के खिलाफ ऑपरेशन शुरू किया। इस दौरान सुबह से देर शाम तक रुक-रुक कर फायरिंग की गई। आतंकियों से संपर्क साधने के लिए सुरक्षाबलों ने टोह लेने के लिए फायरिंग की। 

ADVERTISEMENT

आतंकियों के होने की आहट

यही बात काबिले गौर है कि अनंतनाग के कोकेरनाग के गडूल के जंगलों में आतंकियों के होने की आहट मिलने के बाद सेना की 19 राष्ट्रीय राइफल्स और जम्मू-कश्मीर पुलिस के साथ साथ CRPF की टीम संयुक्त पार्टी ने बुधवार तड़के सर्च ऑपरेशन शुरू किया था। और उसी ऑपरेशन के दौरान ही कर्नल मनप्रीत सिंह, मेजर आशीष धोंचैक और डीएसपी हुमायूं भट शहीद हो गए थे। 

ADVERTISEMENT

10 लाख रुपये इनामी आतंकी उबैर खान

सेना की टीम पर किए गए एंबुश के बारे में पुलिस का अंदाजा है कि इस हमले में जम्मू कश्मीर का कट्टर आतंकी उजैर खान भी शामिल था जो कोकेरनाग के नागम गांव का रहने वाला है। पुलिस को उसकी जुलाई 2022 से तलाश है। पुलिस को यही खबर मिली है कि अपनी फरारी के दौरान ही उजैर लश्कर से जुड़ गया। और लश्कर के आतंकियों के साथ मिलकर उसने कई आतंकी हमलों को अंजाम दिया। इसी लिए उसे A+ कैटेगरी का आतंकी बताया जा रहा है उस पर दस लाख रुपये का इनाम भी है। इसके अलावा खबर तो ये भी है कि इस ऑपरेशन में दूसरा आतंकी विदेशी है जिसकी अभी तक शिनाख्त नहीं हुई है। 

    यह भी पढ़ें...

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT