क्या ताजमहल के पास हिंदू लड़की की मस्जिद में बलात्कार कर हत्या कर दी गई? पुलिस की तफ्तीश में ये सच आया सामने

ADVERTISEMENT

CrimeTak
social share
google news

Agra: Twitter (X) पर #मस्जिद_में_बेटीकी_अधनंगी_मौत हैशटैग ट्रेंड कर रहा है. लोग एक महिला की मस्जिद के अंदर पत्थर से कुचल कर की गई हत्या पर सवाल उठा रहे हैं. ये भी कहा जा रहा है कि आगरा के इस मस्जिद के अंदर एक हिंदू बेटी के साथ बलात्कार कर उसकी हत्या कर दी गई. खासतौर पर इसलिये कि खून से सनी वो लाश लोगों को अर्धनग्न हालत में मिली थी. यही वजह थी कि इस हैशटैग के तहत अब तक हजारों पोस्ट किए जा चुके हैं. मगर अफवाहों से इतर कत्ल के इस मामले का सच बिलकुल अलग है.

क्यों ट्रेंड कर रहा मस्जिद से जुड़ा हैशटैग?

मस्जिद के अंदर हत्या की ये वारदात आगरा में ताज महल के पास ताजगंज इलाके में 18 मई को हुई. इस मामले में पुलिस की तहकीकात की सुस्त रफ्तार को लेकर लोग आगरा पुलिस के खिलाफ लगातार सोशल मीडिया पर अपना गुस्सा जाहिर कर रहे हैं. कुछ लोग इसे धार्मिक एंगल देने की कोशिश भी कर रहे हैं. सोशल मीडिया पर ये कहा जा रहा है कि एक हिंदू लड़की के साथ मस्जिद के अंदर बलात्कार हुआ और पत्थर से सिर कुचल कर उसकी हत्या कर दी गई. जबकी सच्चाई ये है कि वो महिला हिंदू नहीं बल्कि मुस्लिम है और इस मस्जिद के अंदर एक अरसे से साफ सफाई का काम करती आई थी. पुलिस की ओर से ये स्पष्टीकरण भी जारी किया गया कि महिला के साथ बलात्कार या फिर दुष्कर्म की घटना नहीं हुई. इसकी पुष्टी पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट से की जा चुकी है. लिहाजा सोशल मीडिया पर किया गया मस्जिद के अंदर बलात्कार का दावा पूरी तरह से मनगढंत है.

मस्जिद में महिला का सिर कुचला

दरअसल 18 मई को आगरा में ताज महल के हाई सिक्योरिटी जोन नगला पैमा की एक मस्जिद में इस 36 साल की महिला की सिर कुचलकर हत्या की गई थी. महिला का शव अर्धनग्न अवस्था में मिला था. शायद यही वजह है कि मस्जिद के अंदर बलात्कार और हत्या की अफवाह ने फौरन जोर पकड़ लिया. पुलिस के मुताबिक हत्या के बाद मस्जिद के उस हिस्से में ताला लगा दिया गया था. बताया जा रहा है कि महिला पति से अलग होकर पिछले कई साल से अपने मायके में रह रही थी. मस्जिद के प्रबंधन से ये भी पता चला कि महिला मस्जिद में सफाई का काम करती थी. लाश के पास से पुलिस को कोई फोन नहीं मिला. हालांकि सुराग के तौर पर लाश के पास से एक पर्स जरूर बरामद हुआ. पुलिस को इस पर्स में एक पासपोर्ट साइज फोटो भी मिली जिस पर आमिर खान नाम लिखा हुआ था. आगे की तफ्तीश पुलिस ने इसी फोटो को आधार बना कर बढ़ाई. 

ADVERTISEMENT

आठ दिन बाद भी नहीं लगा सुराग

शुरुआती तफ्तीश में पुलिस को कत्ल के इस मामले में कुछ करीबी लोगों पर शक था. इस सिलसिले में कई लोगों से पूछताछ भी की गई लेकिन घटना के 8 दिन बाद भी ताजगंज पुलिस इस मामले में किसी ठोस नतीजे तक नहीं पहुंच पाई. न तो पुलिस को आरोपी के बारे में जानकारी मिल पाई और न ही कत्ल करने का मकसद साफ हो पाया। चूंकि शुरुआत में ही महिला के साथ रेप की आशंका जताई जा रही थी लिहाजा पुलिस ने पोस्टमॉर्टम के जरिये इसकी पुष्टी कराने की कोशिश की। हालांकि पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में दुष्कर्म की आशंका से साफ इंकार कर दिया गया. 

आगरा पुलिस ने एक्स पर ट्वीट कर कहा , मस्जिद में मिली मृतक महिला मुस्लिम है. मृतका के साथ दुष्कर्म की पुष्टि नहीं हुई है. 

ADVERTISEMENT

वहीं 

ADVERTISEMENT

सोशल मीडिया पर वायरल हो रही तमाम अफवाहों के मद्देनजर आगरा पुलिस कमिश्नरेट की ओर से ये स्पष्टीकरण जारी किया गया. इधर पुलिस को कत्ल के इस सनसनीखेज मामले की जांच में कई व्यवहारिक दिक्कतें आ रही हैं. एक तो मरने वाली महिला मोबाइल फोन का इस्तेमाल नहीं करती थी, इसलिये वो किन किन लोगों से सम्पर्क में थी और क्या बात करती थी ये जानकारी सिरे से पुलिस के पास नहीं है. मस्जिद में सीसीटीवी न होने के कारण भी पुलिस की मुश्किलें बढ़ी हुई हैं. ताजगंज इलाके में मस्जिद के आसपास लगे सीसीटीवी कैमरों से कुछ फुटेज जरूर मिला है. इसी के चलते शक की बिनाह पर एक युवक से पूछताछ भी की गई मगर फिलहाल पुलिस को कत्ल को लेकर कोई ठोस सुराग हाथ नहीं लगा है.

    यह भी पढ़ें...

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT