Shams Ki Zubani: क़त्ल से पहले वो SOCIAL MEDIA पर टीज़र डालता रहा,फिर मशहूर होने के लिए क़त्ल का वीडियो डाला

Shams Ki Zubani: वो मशहूर होना चाहता था और इसके लिए उसने वो किया जिसे सोचकर किसी की भी रुह कांप जाए।
Shams Ki Zubani: क़त्ल से पहले वो SOCIAL MEDIA पर टीज़र डालता रहा,फिर मशहूर होने के लिए क़त्ल का वीडियो डाला
Tanseem Haider

Shams Ki Zubani: ये कहानी कनाडा के मोंट्रियाल के लूका मैगनोटा नाम के शख्स की है। ठीक-ठाक परिवार में जन्मा युवक था लूका। हां बस उसके स्कूल में उसके साथ कुछ ठीक ठाक नही हुआ लिहाजा उसने 17  साल मे स्कूल छोड़ दिया। दरअसल लूका मशहूर होना चाहता था। जिसके लिए शुरुआत में उसने सोशल मीडिया का सहारा लिया। फिर पोर्न फिल्मों में काम किया लेकिन बात नहीं बनी। एक बार तो उसने चोरी भी की चोरी में पकड़ा गया जेल गया ताकि मशहूर हो सके। फिर फेमस होने के लिए कई तरह के काम करने लगा लेकिन कुछ बात बन नहीं रही थी।

सन् 2010 आ गया। एक रोज लूका ने साइट bestgo.com पर एक वाडियो डाला। इस वीडियों मे दिखाया गया कि दो बिल्लियों को एक पॉलिथीन मे डाला जा रहा है। वो शूट करता रहा लेकिन पॉलीबैग में ऑक्सीजन नही आ रही थी लिहाजा दोनों बिल्लियों ने तड़पकर दम तोड़ दिया। ये मंजर कैमरे में कैद हो गया। लोगों ने गुस्सा जाहिर किया एनीमल राइट्स वाले सामने आ गए। जिसके बावजूद भी वो ऐसी ही हरकतें करने लगा।

इसी दौरान साल 2012 में एक चाइनीज छात्र कनाडा पढ़ने आया था। छात्र का नाम जुन यान था। मोंट्रियाल यूनिवर्सिटी में पढ़ता था और किराए पर रहता था। यह छात्र चीन के वुहान से आया था। 24 मई 2012 को अचानक जुन यान गायब हो गया। वो दोस्तों को भी जवाब नहीं दे रहा था। दोस्त सभी परेशान थे। जहां पार्ट टाइम मौकरी करता था वो लोग भी उसकी तलाश में लग गए लेकिन उसका कोई सुराग नहीं लग पा रहा था। 25 मई 2012 को bestgo.com में एक वीडियो अपलोड होता है।

वीडियो मे दिखाया गया कि एक शख्स कुर्सी पर बंधा हुआ है। उसके जिस्म पर चाकू और कटर से हमला किया जा रहा है। जिस्म के अंगों को काटकर कुत्तों को खिलाया जा रहा है। ये वीडियो बेहद वीभत्स था। देख रहे लोग डर गए सिहर उठे। जिसको बाद कई लोगों ने पुलिस को खबर दी गई। शरुआत में पुलिस ने इस केस को सीरियसली नहीं लिया। लोग लगातार पुलिस को फोन कर रहे थे। जब बात ज्यादा बढ़ने लगी तो पुलिस ने जांच करने का फैसला किया।

पुलिस ने सबसे पहले वेबसाइट की जांच शुरु की तो पता चला कि वेब साइट पर 10 दिन से एक टीजर आ रहा था जिसमें कहा जा रहा है था कि जल्द ही एक लाइव कत्ल का वीडियो दिखाया जाएगा। यह वीडियो देखकर आप दहल जाएंगे। 29 मई को सुबह 11 बजे ठीक जिस जगह कंजरवेटिव पार्टी का दफ्तर था जहां एक पैकेट आता है पैकेट से खून रिस रहा था।

पैकेट में बदबू आ रही थी। पैकेट खुला तो उसमें से इंसानी बाएं पैर का हिस्सा निकलता है। पैकेट पर लाल रंग दिल बना हुआ था। अगले ही दिन यानि 30 मई को एक दूसरा पैकेट लिबरल पार्टी के दफ्तर आता है उस पैकेट में एक शख्स का बायां हाथ निकलता है। अभी पुलिस परेशान ही थी कि 5 जून की तारीख आ जाती है दो अलग अलग स्कूलों में किंग जार्ज और ब्रिटिश कोलंबिया में दाहिना हाथ और पैर के टुकडे पैकेट में भेजे जाते हैं।

Shams Ki Zubani: जांच चल ही रही थी कि इसी मोंट्रियाल में कूड़े में सूटकेस मिलता है। बैग खोलते ही उसमें से इंसानी शरीर के हिस्से निकलते हैं। कूड़े से खून से सने कपड़े और इंसानी जिस्म के टुपड़े मिलने से सनसनी फैल जाती है। यहां पुलिस को एक नोट भी मिलता है जिसमें लिखा था कि हमने जिस्म के टुकड़े करके पैकेट कई जगह भेज दिए जल्द ही एक ऐसा ही कत्ल और होगा। दूसरी कत्ल ना हो इसके लिए पुलिस ने सीसीटीवी खंगालने शुरु किए तो कैमरे में एक शख्स नजर आया जिसकी तलाश शरु हुई। 

मोंट्रियाल के एक अपार्टमेंट के सीसीटीवी में भी ये शख्स नजर आता है जब पुलिस वहां पूछताछ करती है तो पता चलता है कि ये शख्स यहीं रहता था और किराए पर रहता था लेकिन उसने 1 जून तक का किराया दिया था। वह पिछले कुछ दिनों से गायब है। गौरतलब है कि लाश के टुकड़ों के मिलने का सिलसिला 25 मई से शुरु हुआ था।

जांच में पुलिस को पता चलता है कि किराए दार का नाम लूका मैगनोटा है। फिर पुलिस लूका की तलाश में जुट जाती है। जांच में पता चलता है कि लूका ने 25 मई को ही यूरोप की राउंड टिकट बुक करवा रखी थी यानि लूका कनाडा से फरार हो चुका था। कनाडा सरकार ने लूका की गिरफ्तारी के लिए इंटरपोल से मदद मांगी तो पता चला कि लूका पेरिस में है। जिसके बाद पेरिस में अलर्ट जारी किया गया। यहां पता चला कि लूका एक होटल में ठहरा था वहां पुलिस पहुंची तब तक वो फरार हो चुका था।

जिसके बाद 04 जून को मुखबिर से खबर मिली कि बर्लिन में एक शख्स इंटरनेट कैफे में बैठा है उसकी शक्ल लूका जैसी है। पुलिस वहां पहुंचती है वो यहां लूका कई वेबसाइट्स पर अपनी खबरों को पढ़ रहा था। लूका को हिरासत में ले लिया गया। शुरुआत में लूका ने पुलिस को गुमराह करने की कोशिश की लेकिन पुलिस ने फिंगर पप्रिंट के जरिए उसका पहचान कर ली।

18 जून 2012 को लूका को कनाडा पुलिस के हवाले किया जाता है। स्पेशल प्लेन यानि कैनेडा रॉयल केनेडियन एयर के सीसी 150 प्लेन से उसे कनाडा लाया गया। उसने पुलिस के सामने खुलासा किया कि उसने मशहूर होने के लिए जुन यान का कत्ल किया और चीनी छात्र को घर लेकर आया। उसके जिस्म के टुकड़े टुकड़े कर दिए और ग्यारह मिनट का वीडियो साइट पर अपलोड कर दिया। फरार होने के लिए उसने टिकट पहले से बुक करवा रखा था और वो फरार हो गया।

जांच में पता चला कि दिमागी रुप से वह ठीक ठाक था। इस केस का करीब 12 हफ्ते ट्रायल चला। बहस हुई। गवाहों की दलील हुई। 15 दिसंबर 2017 को फैसला सुनाते हुए जजों ने लूका को उम्रकैद की सजा सुनाई। साथ ही बाकी अपराधों के लिए 19 साल की सजा सुनाई गई। हाल ही में जेल से खबर आई है कि जेल में ही उसने एक कैदी से शादी कर ली है। अभी लूका को बाहर निकलने में 17 साल और लगेंगे।

Related Stories

No stories found.
Crime News in Hindi: Read Latest Crime news (क्राइम न्यूज़) in India and Abroad on Crime Tak
www.crimetak.in