UP Crime: बहन के प्रेमी से लिया खूनी इंतकाम, प्रेमिका की सगाई रोकी तो प्रेमी को मिली ऐसी मौत!

Jhansi Murder: सगाई का कार्यक्रम चल रहा था तभी वहां प्रेमी पहुंच गया और उसके रिश्तेदारों से लड़की की सगाई करने से मना किया, प्रेमी ने सबके सामने अपने प्रेम संबंधों का खुलासा कर दिया।
झांसी का अरुण हत्याकांड
झांसी का अरुण हत्याकांड

UP Crime News: यूपी के झांसी जिले में प्रेम संबंधों (Love Affair) के खूनी इंतकाम (Revenge) का सनसनीखेज मामला (Case) सामने आया है। बहन (Sister) के आशिक (Boyfriend) की हत्या (Murder) का पुलिस ने खुलासा कर दिया है। दरअसल झांसी पुलिस को रहस्यमय परिस्थितियों में लापता एक युवक की लाश मध्य प्रदेश की सीमा पर बेतवा नदी में तैरती मिली थी।

पुलिस ने जांच शुरु की तो बेहद चौंकाने वाला खुलासा हुआ। पुलिस ने बताया कि मरने वाले का नाम अरुण था और अरुण 12 जनवरी को कोतवाली के बड़ागांव गेट स्थित देव लाल चौबे का अखाड़ा जाने की बात कहकर घर से निकला था लेकिन वापस नहीं आया तो परिजनों ने पुलिस में गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई था।

पुलिस ने जांच शुरु ही की थी कि 14 जनवरी को खबर मिली कि एक युवक का शव बेतवा नदी में तैर रहा है। पुलिस की टीमों ने मौके पर पहुंचकर लाश को कब्जे में ले लिया और पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया। पीएम रिपोर्ट में खुलासा हुआ कि अरुण परिहार के सिर और शरीर में चोट के कई निशान हैं। पुलिस ने हत्या की धाराओं में केस दर्ज कर जांच शुरु कर दी।

पुलिस ने जांच आगे बढ़ाई तो छानबीन में पता चला कि अरुण परिहार का बड़ागांव गेट के पास रहने वाली एक लड़की से प्रेम संबंध थे। दोनों के प्रेम संबंधों की बात परिजनों को पता चली तो युवती के भाई अंकित बॉथम ने अरुण को कई बार समझाया और बहन से रिश्ता तोड़ लेने की धमकी भी दी।

लड़की के भाई की धमकी के बाद भी अरुण परिहार ने प्रेमिका से मिलना जुलना नहीं बंद किया। हद तो तब हो गई जब लड़की के परिजनों ने लड़की की शादी करने का फैसला कर लिया। घटना के कुछ दिनों पहले ही अंकित बाथम की बहन की सगाई का कार्यक्रम चल रहा था तभी वहां पर अरुण परिहार पहुंच गया।

अरुण ने अंकित के रिश्तेदारों से लड़की की सगाई करने से मना किया। इतना ही नहीं अरुण ने सबके सामने अपने प्रेम संबंधों का खुलासा कर दिया। सगाई के दौरान हुई इस बेइज्जती का बदला लेने के लिए अंकित ने ही अरुण की हत्या की साजिश रची थी। इस बेइज्जती का बदला लेने के लिए अंकित ने अपने बाकी साथियों के साथ मिलकर अरुण के कत्ल की प्लानिंग की।

प्लानिंग के तहत अरुण को पार्टी के बहाने नंदराम के आवास पर बुलाया गया। अंकित ने अपने साथियों के साथ मिलकर अरुण के सिर पर लाठी डंडों से वार शुरु कर दिए। अरुण को तब तक पीटा गया जब तक उसकी मौत नहीं हो गई। अरुण की हत्या करने के बाद आरोपियों ने उसकी लाश एक कार में रखी और उन्नाव बालाजी ले जाकर पहुंज नदी में फेंक दी।

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक राजेश एस. ने बताया कि इस केस में पुलिस अंकित बाथम और उसके 6 साथियों को गिरफ्तार कर लिया है। इस हत्या के आरोपी नन्दराम, विशाल वंशकार, मीना वंशकार, रितिक वंशकार और विकास ठाकुर को गिरफ्तार किया गया है।

हत्या आरोपियों की निशानदेही पर पुलिस ने हत्या में प्रयुक्त लाठी डंडे तथा कार के अलावा मृतक अरुण की मोटरसाइकिल भी बरामद कर ली है। हत्या के इस मामले में अंकित का भाई नितिन तथा एक अन्य आरोपी राहुल फरार है। फिलहाल पुलिस उन दोनों आरोपियों की तलाश कर रही है।

Related Stories

No stories found.
Crime News in Hindi: Read Latest Crime news (क्राइम न्यूज़) in India and Abroad on Crime Tak
www.crimetak.in