चालबाज़ दुल्हन की शातिर नज़र, 2 महीने पहले बनाए प्लान के लिए 6 लाख रुपए में हायर किए कॉन्ट्रेक्ट किलर

मानो पिता सतपाल को ज़िंदगी की हर वो खुशियां मिली जिसकी वो कल्पना करता था.लेकिन इन खुशियों को किसी की नज़र लग गई.बड़े बेटे संजीव की मौत 2018 में हार्टअटैक से होते ही.बीवी शालिनी की गंदी नज़र ससुराल की संपत्ति पर आ टिकी.
चालबाज़ दुल्हन की शातिर नज़र, 2 महीने पहले बनाए प्लान के लिए 6 लाख रुपए में हायर किए कॉन्ट्रेक्ट किलर

उत्तरप्रदेश के जिला मेरठ के मवाना में 28 जून के दिन अचानक 60 साल के सतपाल सिंह को मौत के घाट उतार दिया जाता है.सतपाल अपने घर से बाहर निकले ही थे की बाइक सवार दो युवकों ने ताबड़-तोड़ गोलियों से उन्हें छलनी कर दिया.इलाक़े में दहशत के माहौल के बीच आनन फानन में पुलिस मौक़ा-ए-वारदात पर पहुंची.लेकिन बाइक के पहियों के निशान के सिवा सबूत के तौर पर कुछ ना था.तो वहीं पुलिस के लिए ब्लाइंड मिस्ट्री बन चुका ये केस दिन ब दिन चुनौती बनता जा रहा था.इसके बाद पुलिस ने जब अपनी जांच का रुख परिवार के लोगों की ओर मोड़ा तो कई चौंकाने वाले खुलासे हुए.

सतपाल की हत्या के बाद मेरठ जिले में मचा हाहाकार ?

यूं तो सतपाल सिंह का नाम इलाक़े में नामी किसानों में से एक था.पैसों और धन दौलत की रत्ती भर कमी नहीं.मवाना इलाक़े में 40 बीघा ज़मीन जिसमें लहराते हुए फसलों की बुआई आसपास के खेतों से पैदावार कई गुना ज़्यादा होती.यहां फसलों और ज़मीन जयदाद से संपन्न 60 साल के सतपाल के घर दो बेटे भी थे.दोनों ही बेटों ने सॉफ्टवेयर इंजीनियर की पढ़ाई पूरी कर एक अच्छी ज़िंदगी बसर कर रहे थे.इसी बीच 32 साल के बड़े बेटे संजीव की शादी 2014 में 30 साल की शालिनी से हुई.2018 आते आते शालिनी और संजीव के घर 4 साल का बेटा और दो साल की बेटी भी हुई.काम के सिलसिले में संजीव, शालिनी और बच्चों संग दिल्ली में ही रहता था.

प्रतीकात्मक तस्वीर
प्रतीकात्मक तस्वीर

सतपाल के पास थी ज़िंदगी की हर खुशियां

मानो पिता सतपाल को ज़िंदगी की हर वो खुशियां मिली जिसकी वो कल्पना करता था.लेकिन इन खुशियों को किसी की नज़र लग गई.बड़े बेटे संजीव की मौत 2018 में हार्टअटैक से होते ही.बीवी शालिनी की गंदी नज़र ससुराल की संपत्ति पर आ टिकी.पैसों और आपार संपत्ती के लालच में शालिनी अपने मायके के लोगों के साथ .संजीव के छोटे भाई यानी अपने देवर से शादी के लिए दबाव बनाने लगी.लेकिन ससुर सत्यपाल और ससुराल के बाक़ि लोगों को यह रास नहीं आया.उसका फेंका हुआ हर दांव आसमान में उछाले हुए पत्थर जैसा था.कई नाकाम कोशिशों के बाद शालिनी ससुराल को छोड़ अपने बच्चों के साथ मायके चली गई. संजीव की मौत पर 35 लाख रुपए का जो इंश्योरेंस मिला, वो भी शालिनी ने अपना हक़ जताते हुए पूरी रक़म अपने पास रख ली.

शातिर बहू की चाल में फंसे ससुराल वाले, 1 करोड़ से ज़्यादा हड़पा

इतने सारे पैसों को एक साथ देख शालिनी को समझ नहीं आया ओ अब इनका क्या करे.शालिनी ने इंश्योरेंस के मिलने के ठीक बाद पति का लोनी में प्लॉट भी मायके वालों के साथ मिलकर बेच डाला.पति और ससुराल द्वारा दिए गए सारे गहने और सारे कैश भी शालिनी अपने साथ ले आई.अगर एक एक कर सबका हिसाब किया जाए तो करीब 1 करोड़ की संपत्ति शालिनी अपनी ससुराल से ले चुकी थी.पैसों और गहने के बाद बीवी की नज़र सतपाल की 40 बीघा ज़मीन पर थी.शालिनी लगातार अपने ससुर पर दबाव बनाने लगी कि पति के हिस्से की 20 बीघे की ज़मीन उसके नाम करा दिया जाए.

लेकिन पहले से ही एक करोड़ से ज़्यादा ले चुकी शालिनी की इस बात से सतपाल खासे नाराज़ हुए और उन्होंने ज़मीन का एक भी टुकड़ा देने से मना कर दिया.बक़ायदा इलाक़े में पंचायत बुलाई गई जहां.प्रति वर्ष 80 हज़ार रुपए सतपाल को शालिनी को देने के लिए कहा गया जिसके लिए सतपाल खुशी खुशी तैयार हो गया.लेकिन प्रतिशोध की आग में जलती शालिनी सतपाल को रास्ते से हटा किसी भी तरीके से पूरे संपत्ती कब्ज़ा करना चाहती थी.जिसके लिए उसने 5 लाख में दो शूटर को ढूंढा जो उसके इस काम को बिना किसी शक़ और सबूत को पूरी सफ़ाई से अंजाम दे सके.

लेकिन हत्या के बीस दिन बाद पुलिस केस की हर एक परतों को कुछ ऐसे खंगाला की शालिनी की हर एक चाल पुलिसिया दांव के सामने फेल होती चली गई.पुलिस ने शालिनी और उसके साथ छह लोगों को गिरफ्तार किया.फिलहाल पुलिस दोनों शूटरों की तलाश भी कर रही है जो वारदात को अंजाम देने के बाद से ही फरार चल रहे हैं.

Related Stories

No stories found.
Crime News in Hindi: Read Latest Crime news (क्राइम न्यूज़) in India and Abroad on Crime Tak
www.crimetak.in