"पजामा कुर्ती उतारो, मुझे चोट देखनी है" रेप पीड़िता से वाले 'जज'

ADVERTISEMENT

राजस्‍थान के करौली जिले के हिंडौन सिटी में सामूहिक दुष्‍कर्म पीड़िता महिला से कपड़े उतारने की बोलने वाले जज की मुश्किलें बढ़ सकती है, देखिए ये वीडियो

social share
google news

भारत में महिलाओं के खिलाफ बलात्कार चौथा सबसे आम अपराध है। राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) की 2021 की वार्षिक रिपोर्ट के अनुसार, देश भर में 31,677 बलात्कार के मामले दर्ज किए गए, या प्रतिदिन औसतन 86 मामले, 2020 से 28,046 मामलों की वृद्धि, जबकि 2019 में , 32,033 मामले दर्ज किये गये. आज की तारिख में बलात्कार के मामलों में पीड़ित महिला का बयान और परिस्थिति जन्य सबूत किसी भी आदमी को सज़ा दिलाने के लिए पर्याप्त हैं. अगर पुलिस ने ठीक से पीड़ित महिला का बयान दर्ज किया हो तो अपराधी को सज़ा दिलाना काफी हद तक आसान हो जाता है. ऐसे में क्या कोई पुलिसवाला या फिर कोई जज ही क्यों ना हो किसी भी महिला को चोट दिखाने के लिए मजबूर नहीं कर सकता लेकिन ये हुआ है जो कि ना सिर्फ रेप विक्टम बल्कि हर महिला अंदर तक हिल जाएगी.

ADVERTISEMENT

    यह भी देखे...

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT