पांच साल बाद मिली टीवी एंकर सलमा की लाश? खुदाई के बाद पालीथिन में लिपटा मिला शव, डीएनए से होगी पहचान

ADVERTISEMENT

Chhattisgarh Anchor Murder Case: पुलिस टीम ने मौके पर हाइड्रा मशीन और जेसीबी से मिट्टी हटाने का काम किया तो एक पॉलीथीन में लिपटे शव के अवशेष मिले हैं।

social share
google news

कोरबा से गेंदालाल शुक्ला की रिपोर्ट

Chhattisgarh Anchor Murder Case:  छत्तीसगढ़ के कोरबा जिले में 5 साल पहले लापता हुई न्यूज़ एंकर सलमा सुल्ताना की हत्या का इनपुट मिलने के बाद पुलिस ने उसकी लाश बरामद करने के लिए नेशनल हाइवे से मिट्टी हटाने का काम मंगलवार को दोबारा शुरू किया। सुबह से शाम तक कि कार्रवाई में अब तक पुलिस को डेडबॉडी रिकवर हो गई। पुलिस टीम ने मौके पर हाइड्रा मशीन और जेसीबी से मिट्टी हटाने का काम किया तो एक पॉलीथीन में लिपटे शव के अवशेष मिले हैं। पुलिस अफसरों का कहना है कि डीएनए जांच के जरिए पता लगाया जाएगा कि लाश सलमा की है या किसी और की।

मशहूर एंकर सलमा सुल्ताना अचानक गायब हुई थी

साल 2018 में छत्तीसगढ़ की मशहूर एंकर सलमा सुल्ताना अचानक गायब हो गई थीं। पांच साल बाद अब पुलिस नें चौंकाने वाला खुलासा किया है। पुलिस अफसरों के मुताबिक सलमा की हत्या हो चुकी है। पुलिस ने सलमा की हत्या के तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस जांच में खुलासा हुआ है कि मुख्य आरोपी मधुर साहू के 200 से ज्यादा लड़कियों से रिश्ते थे। आरोपी मधुर लड़कियों को अपने जाल में फंसाता था। बताया जा रहा है कि एंकर सलमा सुल्ताना को भी आरोपी ने प्रेमपाश में फंसाया। सलमा ने जब मधुर पर शादी का दबाव बनाया तो उससे पीछा छुड़ाने के लिए उसकी गला घोंट कर हत्या कर दी। । गौरतलब है कि कोरबा के कुसमुंडा की रहने वाली 18 साल की सलमा सुल्ताना एक सामान्य परिवार से थी। कोरबा के केबल चैनल में न्यूज एंकर थी। महज 10 वीं पास करने के बाद वो टीवी स्क्रीन पर आ गई थी। 

ADVERTISEMENT

ADVERTISEMENT

टीवी एंकर सलमा सुल्ताना हत्याकांड 

सलमा की हत्या 21 अक्टूबर 2018 को कोतवाली इलाके के शारदा विहार के उसके घर में चुनरी में गला घोंटकर की गई। घटना के वक्त मधुर साहू का साथ उसके साथी जिम ट्रेनर कौशल श्रीवास ने दिया। जिसके बाद तीसरे दोस्त की मदद से सलमा की लाश को ठिकाने लगाया गया। दरअसल साल 20 जनवरी 2019 में सलमा सुल्ताना के पिता का देहांत हुआ था अंतिम संस्कार कार्यक्रम में सलमा उपस्थित नहीं हुई थी काफी दिनों से सलमा के परिजनों का सलमा से सपर्क नहीं हुआ था। पिता के अंतिम संस्कार में सलमा का आना रिश्तोदारों को हैरान परेशान कर रहा था। जिसके बाद परिजनों ने किसी अनहोनी की आशंका में कुसमुण्डा थाने में सलमा की गुमशुदगी दर्ज कराई थी। यूं तो कई साल तक ये मामला पुलिस की फाइलों मे दफ्न रहा। इसी दौरान कोरबा पुलिस में तैनात आईपीएस व सिटी एस पी रॉबिन्सन गुड़िया के नजर सलमा की फाइल पर पड़ी।  

यहां से शुरु हुई सलमा हत्याकांड की जांच 

दरअसल मार्च 2023 में इन्ही आईपीएस अफसर ने राज्य स्तरीय आपरेशन मुस्कान में गुम इंसान महिलाओं एवं बच्चों का पता तलाश करने की मुहिम शुरु की थी। इसी कड़ी में थाना कुसमुण्डा के गुम इंसान सलमा सुल्ताना की केस डायरी का भी बारीकी से जांच शुरु की गई। जांच के दौरान पता चला यूनियन बैंक से सुल्ताना द्वारा लोन लिया गया था। इस संबंध में यूनियन बैंक से जानकारी प्राप्त की गयी। बैंक से पता चला कि अभी भी बैंक एकाउंट में पैसा डिपोजिट हो रहा है एवं यह पैसा ईएमआई के तौर पर गंगाश्री जिम का मालिक एवं जिम इंस्ट्रक्टर मधुर साहू जमा करवा रहा है। ये जानकारी मिलते ही कुसमुण्डा पुलिस ने मधुर साहू का पता तलाश किया लेकिन वह अपने फरार हो गया था। मधुर साहू और गुमशुदा सलमा से संबंधित उनके सभी दोस्तों एवं जान पहचान वाले एवं उनसे जुड़े लोगों का बयान लिए गए। पुलिस ने सलमा सुल्ताना के 05 साल पहले के मोबाइल सीडीआर एनालिसिस किया गए। 

ADVERTISEMENT

भवानी मंदिर के सामने दफनाई लाश! 

बयान लेने दौरान दो महिला एवं तीन पुरुषों के कथन में विरोधाभाष सामने आया। इन सबसे कड़ाई से पूछताछ करने पर 21 अक्टूबर 2018 एलजी 17 शारदा बिहार में मधुर साहू एवं कौशल श्रीवास के द्वारा सलमा सुल्ताना का गला घोटकर हत्या किया जाना एवं डेड बाडी को अतुल शर्मा की मदद से भवानी मंदिर के सामने कोहडिया पुल के आस-पास दफनाए जाने की पुष्टि हुई। जहां सलमा की डेड बाडी दफनाया गया है उनकी वास्तविक जानकारी सिर्फ तीन लोगों को ही पता था। शुरुआती पूछताछ में मिली जानकारी अनुसार सस्पेक्टेड जगह के आस-पास में सेटेलाईट डेटा, थर्मल इमेजिंग एवं ग्राउण्ड पेनेट्रेशन राडार मशीन के माध्यम से डेडबाडी के बारे में पता करने का प्रयास किया गया था, किन्तु उस स्थान पर वर्तमान में नेशनल हाईवे बन चुका है। गवाहों के कथन के आधार पर सलमा सुल्ताना की हत्या होने की तस्दीक हो गई। जल्द ही पुलिस टीम ने मुखबिर की सूचना पर आरोपियों मधुर साहू एवं कौशल को गिरफ्तार कर लिया। कड़ाई से पूछताछ करने पर आपसी संबंधों में अनबन होने एवं चरित्र शंका के कारण सलमा सुल्ताना का गला घोटकर हत्या करना कबूल किया।  

आरोपी अजय कुमार साहू, कौशल व अतुल शर्मा को गिरफ्तार

आरोपी के पास से हार्ड डिस्क एवं लैपटाप जब्त किया गया है जिसके तस्दीक करने पर घटना के संबंध में कुछ आडियो क्लिप के बारे में पता चला एवं जिस वाहन से डेडबाडी को दफनाने में उपयोग किया गया था उस वाहन की जप्ती किया जा चुका है। पुलिस ने मुख्य आरोपी अजय कुमार साहू, कौशल व अतुल शर्मा को गिरफ्तार किया है। हैरान करने वाली कहानी छत्तीसगढ़ के कोरबा जिले की है। यहां पुलिस महकमे के तेज तर्रार एसपी ने पांच साल से लापता एंकर की गुमशुदगी का राज खोलने का बीड़ा उठा। पुलिस एंकर की लाश खोजने के लिए हाईटेक तकनीक 3D स्कैनर का सहारा लेगी। आपको पुलिस अफसर, एंकर की गुमशुदगी और लाश की थ्रीडी स्कैनर से तलाश की पूरी कहानी बताएं उससे पहले एंकर की गुमसुदगी और हत्या कब कैसे हुई ये सिलसिलेवार जान लेते हैं। दरअसल साल 2018 के अक्टूबर महीने में कोरबा की उभरती हुई मशहूर टीवी एंकर सलमा सुल्ताना घर से निकली और अचानक गायब हो गईं। सलमा के परिजनों ने पुलिस में बेटी की गुमशुदगी की शिकायत दर्ज कराई। कई दिनों तक तो पुलिस ने सलमा की तलाश की लेकिन फिर ये मामला पुलिस की फाइलों में दफ्न हो गया। कई बार एंकर सलमा सुल्ताना के बारे में कई तरह की अफवाहें भी उड़ी। कभी उसके मुम्बई चले जाने की चर्चा सामने आई तो कभी अफेयर की बात उड़ाई गई। हैरानी की  बात ये है कि पुलिस ने भी इन सभी बातों पर भरोसा किया। तमाम आधुनिक सुविधाओं के बावजूद सलमा की तलाश में पुलिस ने कोई गंभीरता नहीं दिखाई। 

आईपीएस व सिटी एस पी रॉबिन्सन ने खोली फाइल

एक रोज कोरबा पुलिस में तैनात आईपीएस व सिटी एस पी रॉबिन्सन गुड़िया के नजर सलमा की फाइल पर पड़ी। आईपीएस रॉबिंसन को थाने के लंबित मामलों की समीक्षा के दौरान सलमा की फाइल दिखाई दी। इस अफसर ने देखा कि सलमा गुमसुदगी केस में ठीक से जांच नहीं की गई। जिसके बाद सिटी एस. पी. रॉबिन्सन गुड़िया ने नए सिरे से छानबीन शुरू की। एक एक कर सलमा से जुड़े लोगों से पूछताछ करने पर कई तथ्यों का खुलासा हुआ। जांच में यह भी पता चला कि सलमा ने कोरबा के एक बैंक से लोन ले रखा था, जिसका भुगतान 2018 तक कोरबा का एक युवक कर रहा था। इस सनसनीखेज खुलासे ने पुलिस को चौंका दिया। जिसके बाद गोपनीय रूप से मामले की जांच की जाने लगी। विगत 30 मई को सलमा का शव दफनाने के संभावित स्थान की जानकारी पुलिस को मिली। एक दिन बाद दर्री के सिटी एस. पी. रॉबिन्सन गुड़िया ने उस जगह पर सलमा की डेड बॉडी बरामद करने के लिए जे.सी.बी. मशीन लगाकर जमीन की मिट्टी हटाने का काम शुरु किया था।

 

    यह भी देखे...

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT