मानने में ही समझदारी पंजशीर में नहीं घुसेगा तालिबान, अहमद मसूद के लड़ाकों संग सीजफायर पर बनी सहमति

ADVERTISEMENT

CrimeTak
social share
google news

तालिबान ने भले ही पूरे इलाके पर कब्जा कर लिया हो, लेकिन पंजशीर तक अभी तक वह नहीं पहुंच पाया है। दोनों ही गुटों के बीच लंबे वक्त से यहां पर जंग चल रही थी, लेकिन अब सीज़फायर को लेकर समझौता हो गया है। अफगानिस्तान के पंजशीर में तालिबान और नॉर्दर्न एलायंस के बीच एक बार फिर बातचीत शुरू हो गई है। तालिबान ने भले ही पूरे इलाके पर कब्जा कर लिया हो, लेकिन पंजशीर तक अभी तक वह नहीं पहुंच पाया है। दोनों ही गुटों के बीच लंबे वक्त से यहां पर जंग चल रही थी, लेकिन अब सीज़फायर को लेकर समझौता हो गया है।

जानकारी के मुताबिक, अहमद मसूद की अगुवाई में नॉर्दर्न एलायंस और तालिबान के बीच परवान में बातचीत शुरू हो गई है। तालिबान की ओर से बातचीत की अगुवाई मौलाना अमीर खान मुक्तई कर रहा है। तालिबान की ओर से इस बातचीत को अमन जिरगा नाम दिया गया है। ये बैठक परवान जिले के चारिकर इलाके में हो रही है।

पंजशीर को लेकर तालिबान ने कहा है कि दोनों ही तरफ से सीज़फायर पर सहमति बन गई है। पंजशीर में दोनों तरफ के लड़ाके अभी किसी पर गोलीबारी नहीं करेंगे और ना ही किसी तरह का तनाव पैदा किया जाएगा।

ADVERTISEMENT

पंजशीर को नहीं जीत पाया था तालिबान

आपको बता दें कि बीते दिनों तालिबान और नॉर्दर्न एलायंस के लड़ाकों के बीच पंजशीर की सीमाओं पर गोलीबारी की खबरें सामने आई थीं, जहां करीब 300 तालिबानियों के मारे जाने की बात कही गई थी। तालिबान लगातार पंजशीर पर कब्जे की कोशिश में है, लेकिन नॉर्दर्न एलायंस ऐसा ना करने पर अड़े हैं।

ADVERTISEMENT

अहमद शाह मसूद के बेटे अहमद मसूद इस वक्त नॉर्दर्न एलायंस की अगुवाई कर रहे हैं, जबकि अफगानिस्तान के कार्यकारी राष्ट्रपति अमरुल्ला सालेह भी इसी इलाके में रुके हुए हैं। सभी की ओर से बातचीत की पेशकश की गई थी, लेकिन ये भी कहा गया था कि अगर तालिबान जंग चाहेगा तो जंग भी लड़ी जाएगी।

ADVERTISEMENT

साथ ही दोनों ओर साझा सरकार चलाने को लेकर भी बात कर रहे हैं। नॉर्दर्न एलायंस की ओर से कुछ शर्तें रखी गई हैं, जिसपर तालिबान को फैसला लेना है। वहीं तालिबान भी पंजशीर के मसले को जल्द सुलझाने का दावा कर रहा है।

    यह भी पढ़ें...

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT