UP ELECTION 2022 पहला चरण: चवन्नी भर उम्मीदवार तो अपराधी हैं, रंगबाज़ प्रत्याशियों का कच्चा चिट्ठा

ADVERTISEMENT

CrimeTak
social share
google news

UP ELECTION 2022: 10 फरवरी को पहले चरण के मतदान के लिए 623 उम्मीदवार 58 सीटों पर अपनी ताल ठोंक रहे हैं। मगर उम्मीदवारों की तरफ से दिए गए हलफनामें की ADR पड़ताल के बाद जो बात सामने आई वो बेहद चौंकाने वाली है, क्योंकि पहले चरण के चुनावी दंगल में ताल ठोंकने उतरे तमाम उम्मीदवारों में से चवन्नी के बराबर यानी 25 प्रतिशत उम्मीदवारों के ख़िलाफ़ आपराधिक मामले दर्ज हैं। यानी 623 उम्मीदवारों में से 121 ऐसे उम्मीदवार हैं जिन पर गंभीर धाराओं में मुकदमें दर्ज हैं।

हैरान करने वाली बात ये है कि 12 ऐसे प्रत्याशी भी मैदान में अपनी क़िस्मत आजमाने उतरे हैं जिनके ख़िलाफ़ महिलाओं के साथ किए गए जुर्म के मामले दर्ज हैं। और एक ऐसा उम्मीदवार भी इस चुनाव में वोट मांगने निकला है जिस पर रेप का मुकदमा चल रहा है।

UP ELECTION 2022: छह ऐसे चुनावी रंगबाज़ हैं जिनका नाम पुलिस की डायरी में हत्या के मामले में दर्ज किया गया है। जबकि 30 उम्मीदवारों के ख़िलाफ़ हत्या की कोशिश का इल्ज़ाम लगा है।

ADVERTISEMENT

पहले चरण के 58 विधान सभा सीटों में से क़रीब 31 ऐसे विधानसभा क्षेत्र हैं जिन्हें इसलिए संवेदनशील माना जा रहा है क्योंकि उन विधान सभा सीटों पर कम से कम तीन ऐसे उम्मीदवार मैदान में हैं जिनके ख़िलाफ़ कोई न कोई गंभीर मुकदमा तो दर्ज है ही।

चलिए उन महानुभावों का भी तार्रुफ़ कर लिया जाए जिनके ख़िलाफ़ मामले हैं। पहले चरण में वो कौन से उम्मीदवार हैं और किस पार्टी से चुनाव मैदान में अपनी क़िस्मत आज़माने उतरे हैं, उनका भी परिचय कराना ज़रूरी है।

ADVERTISEMENT

UP ELECTION 2022: अतुल प्रधान- मेरठ (सरधना सीट)- (समाजवादी पार्टी)- समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार अतुल प्रधान मेरठ की सरधना सीट से अपनी क़िस्मत आज़माने उतरे हैं। लेकिन उनके ख़िलाफ़ 38 मामले दर्ज हैं। अतुल प्रधान के ख़िलाफ़ 105 IPC की धाराओं में मुकदमें दर्ज हुए हैं जिनमें से 26 धाराएं बेहद गंभीर और संगीन मानी जाती हैं।

ADVERTISEMENT

अतुल प्रधान के ख़िलाफ़ दंगा भड़काने, हत्या की कोशिश करने, सरकारी काम काज में बाधा डालने, घर और संपत्ति जलाने के अलावा तोड़ फोड़, लूटपाट और शांति भंग जैसे कई संगीन इल्ज़ाम हैं।

UP ELECTION 2022: योगेश वर्मा- मेरठ (हस्तिनापुर, सुरक्षित सीट)- समाजवादी पार्टी- मेरठ की ही एक और विधानसभा सीट है हस्तिनापुर। यहां से समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार योगेश वर्मा चुनाव मैदान में उतरे हैं। लेकिन उनके दामन में क़रीब 32 आपराधिक मामलों के गहरे दाग हैं। माना जा रहा है कि वो सबसे ज़्यादा रंगबाज़ टाइप के उम्मीदवार हैं।

योगेश के ख़िलाफ़ IPC की 145 धाराओं में केस दर्ज हुए जिनमें से 71 धाराएं ऐसी हैं जो बेहद गंभीर हैं। जान से मारने की धमकी देने के 15 मामले योगेश वर्मा के ख़िलाफ दर्ज हुए हैं। जबकि 13 मामलों ऐसे हैं जब उन्होंने हत्या की कोशिश भी की।

सात मामले लूट और डकैती के भी लगे हुए हैं। जबकि सरकारी काम में बाधा डालने के पांच मुकदमें की वजह से उनका कचहरी आना जाना लगा रहता है। योगेश के ख़िलाफ़ महिलाओं से बदतमीजी करने का भी आरोप लगा है, जबकि कोरोना प्रोटोकॉल को तोड़ने का भी एक मामला योगेश के दामन पर है।

UP ELECTION 2022: मनिंदर पाल – मेरठ (सिवालखास)- (भारतीय जनता पार्टी)- उत्तर प्रदेश में सत्ता धारी भारतीय जनता पार्टी ने मेरठ की इस विधानसभा सीट से जिस उम्मीदवार मनिंदर पाल को मैदान में उतारा है उनका दामन भी दूध से धुला नहीं है।

वो भी आपराधिक छवि वाले प्रत्याशियों की कतार में खड़े हैं। मनिंदर पाल के ख़िलाफ IPC की 36 धाराओं में कुल 18 मुकदमें दर्ज हैं। मनिंदर पाल के ख़िलाफ 18 ऐसे मामले हैं जिनमें धोखाधड़ी का केस है।

UP ELECTION 2022: नाहिद हसन – कैराना (शामली)- (समाजवादी पार्टी)- नाहिद हसन का ज़िक्र आते ही कैराना याद आता है। और कैराना की सबसे चर्चित शामली सीट पर समाजवादी पार्टी ने आपराधिक छवि वाले नाहिद हसन को टिकट दिया है।

नाहिद हसन पर 16 मुकदमें हैं। जिनमें कुल जमा 65 धाराएं लगी हुई हैं। और इनमें से 23 ऐसी धाराएं हैं जो किसी भी लिहाज से गंभीर कहलाती हैं। धोखाधड़ी, दंगा भड़काना, धर्म के नाम पर लोगों को भड़काने के अलावा किडनैपिंग, जान से मारने की कोशिश और फर्जीवाड़ा के मुकदमों को लेकर नाहिद हसन चुनाव के मैदान में उतरे हुए हैं।

UP ELECTION 2022: अमित जानी- मेरठ - (सिवालखास)- (ऑल इंडिया फारवर्ड ब्लॉक)- मेरठ की सिवालखास सीट से चुनाव में अपनी क़िस्मत आज़माने उतरे अमित जानी उन उम्मीदवारों में से एक हैं जिनके ख़िलाफ़ गंभीर धाराओं में 14 केस दर्ज हैं।

घूस लेने और लोगों को भड़काने के दाग़ के साथ अमित जानी चुनाव के मैदान में अपनी ताल ठोंक रहे हैं। अमित पहले शिवपाल यादव की प्रगतिशील समाजवादी पार्टी में थे लेकिन इस बार ऑल इंडिया फॉरवर्ड ब्लॉक के टिकट पर चुनाव मैदान में उतरे हैं।

UP ELECTION 2022: बुलंदशहर से चुनाव मैदान में उतरे राष्ट्रीय लोकदल पार्टी यानी रालोद के उम्मीदवार मोहम्मद यूनुस इकलौते ऐसे प्रत्याशी हैं जिनके ख़िलाफ़ बलात्कार का मामला दर्ज है।

आपराधिक छवि वाले यूनुस अकेले ऐसे उम्मीदवार हैं जिनके ख़िलाफ रेप के मामले समेत 156 धाराओं में 20 मुकदमें दर्ज हैं। लेकिन उनमें से सात ऐसे हैं जो बेहद गंभीर हैं।

UP ELECTION 2022: इस पहले चरण के चुनावों में छह ऐसे भी उम्मीदवार हैं जिनके ख़िलाफ हत्या के सबसे संगीन मामले तक दर्ज हैं।

भूपेंद्र सिंह – मेरठ - (सिवालखास)- आज़ाद समाज पार्टी (कांशीराम)- मेरठ की सिवालखास इस पहले चरण के चुनाव के सबसे संवेदनशील विधानसभा क्षेत्रों में शायद सबसे ऊपर है क्योंकि यहां चुनाव के मैदान में भूपेंद्र सिंह ऐसे प्रत्याशी हैं जिनके ख़िलाफ़ हत्या के तीन तीन मुकदमें दर्ज हैं।

देवेंद्र अग्रवाल – मथुरा- (समाजवादी पार्टी)- मथुरा की विधानसभा सीट से चुनाव मैदान में अपनी क़िस्मत आजमाने उतरे देवेंद्र अग्रवाल इलाक़े में रंगबाज़ प्रत्याशी के तौर पर बदनाम हैं। चुनाव से पहले ही उनका रिकॉर्ड पुलिस के पास दर्ज हैं। देवेंद्र के दामन में हत्या का मामले का बेहद संगीन दाग मौजूद है।

UP ELECTION 2022: अमरपाल - ग़ाज़ियाबाद (साहिबाबाद)- (समाजवादी पार्टी)- समाजवादी पार्टी के एक और नामी उम्मीदवार हैं अमरपाल शर्मा। कई सियासी पार्टियों में रह चुके अमरपाल शर्मा के ख़िलाफ़ हत्या का एक मामला दर्ज है।

आरिफ़- हापुड़ (धौलाना), AIMIM - खुद को मुसलमानों का रहनुमा करार देने में तुले असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी ने इस बार हापुड़ की धौलाना विधानसभा सीट से आरिफ़ को चुनाव मैदान में उतारकर वोट बटोरने की रणनीति बनाई है। आरिफ़ पर भी हत्या के एक मुकदमे समेत चार मामले दर्ज हैं।

UP ELECTION 2022: नाज़िम- हापुड़ (धौलाना)- (जन अधिकार पार्टी)- हापुड़ की धौलाना विधान सभा सीट भी संवेदनशील सीटों में गिनी जाती है। और इस बार इसे जन अधिकार पार्टी के उम्मीदवार नाज़िम ने औरभी ज़्यादा संवेदशन बना दिया।

क्योंकि नाज़िम के ख़िलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज है जिसका ज़िक्र उन्होंने खुद अपने हलफ़नामें में किया है। इसके अलावा उनके ख़िलाफ एक और मामला है, यानी कुल जमा दो मुकदमें नाज़िम के ख़िलाफ़ दर्ज हैं और दोनों ही मामले संगीन हैं।

मनमोहन झा --ग़ाज़ियाबाद (साहिबाबाद)-AIMIM -ग़ाज़ियाबाद की साहिबाबाद विधान सभा सीट उत्तर प्रदेश के चुनावों के पहले चरण में संवेदनशील विधानसभा चुनाव क्षेत्र के एकदम नज़दीक है।

यहां AIMIMपार्टी के उम्मीदवार के तौर पर मनमोहन झा चुनाव मैदान में हैं, जिनके दामन पर भी संगीन मामलों के गहरे दाग़ हैं लेकिन उनके ख़िलाफ एक हत्या का मुकदमा भी चल रह है।

    यह भी पढ़ें...

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT