बुर्का पहन कट्टर मुस्लिम महिलाएं बन अफगानिस्तान से भागे ब्रिटिश सेना की स्पेशल यूनिट के 20 जवान

ADVERTISEMENT

CrimeTak
social share
google news

इस बीच 15 अगस्त को तालिबान ने काबुल पर कब्जा कर लिया। ब्रिटिश सेना की इस 20 सैनिकों वाली टुकड़ी को तुरंत मिशन छोड़कर काबुल आने को कहा, उनको बताया गया कि उनको देश से बाहर भेजने या उन्हें काबुल तक लाने के लिए हेलीकॉप्टर की व्यवस्था नहीं हो पाएगी। जवानों को ये भी कहा गया कि वो अपना सारा सामान वहीं पर छोड़ दे और जल्द से जल्द काबुल आने की कोशिश करें।

सेना की इस टुकड़ी ने पांच टैक्सियां ली और हर टैक्सी में चार-चार सैनिक सवार हो गए। काबुल तक पहुंचने के लिए इन सैनिकों ने अफगान पुलिस की मदद मांगी। अफगानी पुलिस ने इनको अलग-अलग रंग के कई बुर्के लाकर दिए। इसके बाद इन सभी सैनिकों ने बुर्का पहन लिया और काबुल की ओर रवाना हो गए। कुछ हथियारों को छोड़कर सैनिकों ने अपना सारा सामान पहले ही छोड़ दिया था।

रास्ते में पड़ने वाले तालिबान चैकपोस्ट को धोखा देने के लिए इन सभी सैनिकों ने तालिबान के झंडे अपने हाथ में लिए हुए थे। जैसे ही कोई तालिबान की चैक पोस्ट आती ये उससे पहले ही कार से बाहर झंडे लहराने लगते । तालिबान को मानो लगता था कि ये सभी महिलाएं तालिबान समर्थक हैं और तालिबान की जीत का जश्न मनाने के लिए काबुल जा रही हैं।

ADVERTISEMENT

पंजशीर पर जीत की झूठी ख़बर पर तालिबान का जश्न, जश्न में फायरिंग के दौरान मारे गए 17, 41 हुए घायल

सैनिकों के मुताबिक कुछ पल ऐसे भी आए जब तालिबान चैक पोस्ट पर उन्हें रोका गया लेकिन उन्होंने तालिबान के सवालों का जवाब नहीं दिया क्योंकि तालिबान के मुताबिक कोई भी अफगानी मर्द अपनी पत्नी या रिश्तेदार को छोड़कर किसी महिला से बात नहीं कर सकता। तालिबान ने भी उनका बुर्का हटाने की जहमत नहीं उठाई।

काबुल पहुंचने के बाद उन्होंने एयरपोर्ट के नजदीक से नजदीक पहुंचने की कोशिश की और जब वो एयरपोर्ट के पास पहुंच गए तो उन्होंने टैक्सियां छोड़ दीं। कई चैक पोस्ट से होते हुए ये सैनिक आखिरकार उस गेट तक पहुंच गए जहां पर अमेरिकी सैनिक तैनात थे।

ADVERTISEMENT

ब्रिटिश सैनिकों ने जब बुर्के के अंदर से अपनी पहचान बताई तो अमेरिकी सैनिक भी हैरान रह गए क्योंकि एयरपोर्ट पर बहुत ज्यादा भीड़ थी लिहाजा ब्रिटिश सैनिक सब के सामने अपने बुर्के नहीं निकाल सकते थे।

ADVERTISEMENT

लिहाजा उन्हें एक कमरे में ले जाया गया जहां पर उन्होंने अपने बुर्कों से आजादी पाई लेकिन इन्हीं बुर्कों को चलते ये सैनिक अफगानिस्तान के दूरदराज वाले इलाके से काबुल तक पहुंच पाए। सैनिकों के मुताबिक सेना की स्पेशल यूनिट के होने की वजह से उन्हें तालिबान से बेहद ज्यादा खतरा था। अगर वो तालिबान के हाथ लग जाते तो उनका बचना मुश्किल ही था।

अशरफ गनी और बाइडेन की फोन पर हुई बात लीक, गनी का दावा : पाकिस्तान के सपोर्ट से तालिबान ने अफ़ग़ान पर किया कब्जातालिबान की सरकार का ब्लू प्रिंट तैयार, कभी भी हो सकता है एलान!Justice For Sabiya : दिल्ली की इस बेटी की बर्बरता से हुई हत्या का क्या है रहस्य? उस आखिरी कॉल में कैसे छुपा है बड़ा राज

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT

    यह भी पढ़ें...