तालिबान राज में महिलाएं सिर्फ बच्चा पैदा करने वाली मशीन बन जाएंगी, अफ़ग़ान में जन्मी बॉलीवुड एक्ट्रेस का बयान

ADVERTISEMENT

CrimeTak
social share
google news

20 साल बाद एक बार फिर से अफगानिस्तान पर तालिबानियों ने कब्जा कर लिया है। तालिबान के कब्जा करने के बाद अफगानिस्तान में हालात काफी बिगड़ते नजर आ रहे हैं। तालिबान के खौफ से दुनियाभर में चिंता का माहौल है। दुनियाभर के लोग अफगानिस्तान की जनता की सलामती के लिए दुआएं कर रहे हैं।

अफगानिस्तान के बिगड़ते हालातों पर अब उसी देश में जन्मीं सलमान खान की एक्ट्रेस वरीना हुसैन (Warina Hussain) ने अपनी राय सामने रखी है।दर्द के इस माहौल के बीच वरीना हुसैन का दर्द भी छलक आया है। उन्होंने कहा है कि उन्हें उनका पुराना दर्द ताजा हो गया है जब उनके परिवार को तालिबान के कारण अफगानिस्तान छोड़ना पड़ा था।

एक रिपोर्ट में मुताबिक, वरीना ने कहा है कि ये उनके परिवार और उनके लिए काफी मुश्किल भरा समय रहा, क्योंकि मौजूदा समय में जो अफगानिस्तान में हो रहा है वो बिल्कुल वैसा ही है जैसा 20 साल पहले उनके परिवार के साथ हुआ था.

ADVERTISEMENT

वरीना ने आगे बताया उन्हें उस वक्त अफगानिस्तान छोड़ने पर मजबूर किया गया था। हालांकि, वो अब एक दशक से ज्यादा समय से इंडिया में हैं, लेकिन वो इस बात को समझती हैं कि एक अच्छी जिंदगी की तलाश में एक देश से दूसरे देश में जाना कितना मुश्किल है।

वरीना ने भारत की तारीफ करते हुए कहा कि वो खुद को खुशकिस्मत समझती हैं कि भारत ने उन्हें स्वीकार किया और तब से यही उनका घर है। लेकिन वरीना इस बात को लेकर काफी दुखी हो गई कि ऐसा सभी लोगों के लिए नहीं है।

ADVERTISEMENT

अफगानिस्तान की खराब स्थितियों के चलते इमरजेंसी इमिग्रेशन हो सकता है। ऐसे में हजारों रिफ्यूजी और शरण चाहने वाले लोग पड़ोसी देशों में पहुंचते हैं। इन हालातों में अपने लिए नई जगह तलाश करना मुश्किल होगा।

ADVERTISEMENT

वरीना ने ये भी कहा है कि इतने सालों में वहां जो भी विकास हुआ वो तालिबान के आने से तहस नहस हो जाएगा। और तालिबान राज के बाद अफगानिस्तान की महिलाएं सिर्फ फर्टिलिटी की एक मशीन बनकर रह जाएंगी. मतलब वो सिर्फ बच्चे पैदा करने वाली मशीन बन जाएंगी और युवाओं की मानसिकता नफरत और बदले की भावना से भर जाएगी.

आपको बता दें कि एक्ट्रेस ने यूनाइटेड नेशन (UN) से इस मामले को लेकर अपील की है कि ये एक ऐसी महिला की इच्छा और अपील है जो नहीं चाहती कि उसकी साथी अफगान महिलाओं को अपने ही देश में दूसरे दर्जे का नागरिक माना जाए.

    यह भी पढ़ें...

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT