माशूक़ के सीने में खंजर भूल गया आशिक़, लव लेटर से खुला क़त्ल

ADVERTISEMENT

CrimeTak
social share
google news

12 घंटे में केस सुलझाने का दावा

Latest Crime News: 3 फरवरी को पालघर अहमदाबाद हाईवे पर शाम को एक शख्स ने फोन करके पुलिस को इत्तेला दी कि नाले में दो पाइप के बीच एक इंसानी लाश फंसी हुई है जो शायद काफी सड़ चुकी है। खबर मिलते ही पुलिस मौके पर पहुँची और अगले कुछ ही मिनटों के भीतर लाश बरामद कर ली।

शुरुआती तफ़्तीश में पता चला कि लाश एक लड़की ही है जिसका चेहरा भारी चीज़ से बुरी तरह कुचला गया था और शरीर पर चाकुओं के वार के कई निशान मौजूद थे। मगर पुलिस ने जब लाश बरामद की तो उसका एक बड़े हिस्से को नाले के पानी में पल रहे पानी के जीवों ने अपना निवाला भी बना लिया था।

ADVERTISEMENT

लाश से लिपटे मिले ढेरों सवाल

Latest Crime News in Hindi:एक नौजवान लड़की की लाश मिलने के बाद पुलिस अब उसकी शिनाख्त की तलाश में जुट गई। लाश को पोस्टमॉर्टम के लिए भिजवाने के बाद पुलिस ने आस पास के इलाक़े में किसी नौजवान लड़की के लापता होने की तलाश तेज़ कर दी।

ADVERTISEMENT

पुलिस की ये कोशिश जल्दी ही रंग लाई और उसे पता चला कि दस रोज पहले ही मुंबई के सांत्राक्रूज थाने में एक नौजवान लड़की की गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई गई थी। दर्ज कराई गई रिपोर्ट के मुताबिक उस गुमशुदा लड़की का नाम कैरोल मिस्कीटा था जिसकी उम्र 29 साल लिखी हुई थी।

ADVERTISEMENT

वो आख़िरी फोन और लापरवाह पुलिस

Latest Murder News: लड़की के गुमशुदा होने की लिखी रिपोर्ट के मुताबिक 24 जनवरी की रात को वो लड़की अपने घर से गायब हो गई थी। कॉल सेंटर में काम करने वाली कैरोल लेकर घर से निकलते वक़्त अपनी मां से कह कर गई थी कि वो डॉक्टर को अपनी कुछ मेडिकल रिपोर्ट्स दिखाने जारही है। लेकिन फिर इसके बाद वो वापस नहीं लौटी।

हालांकि उसी रात उसने अपनी मां को फ़ोन कर ये बताया था कि उसे लौटने में थोड़ी देर हो जाएगी...

इसके बाद सुबह तक जब लड़की अपने घर नहीं लौटी तो कैरोल की मां कैथरीन ने सांताक्रूज़ थाने में रिपोर्ट दर्ज करवाने पहुंची, लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी कि सांताक्रूज़ की पुलिस इस रोज़ अपने थाने में निर्भया हेल्पलाइन के उद्घाटन में इतनी बिज़ी थी कि उसने एक दूसरी निर्भया यानी कैरोल की गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करने तक की ज़रूरत नहीं समझी।

लव लेटर ने दिखाई अंधे क़त्ल को रोशनी

Latest Crime News: कैरोल की मां अगले दिन फिर थाने पहुंची और किसी तरह मिसिंग रिपोर्ट दर्ज करवाने में कामयाब रही, लेकिन पुलिस का रवैया कमोबेश वैसा ही रहा, जैसा हेल्पलाइन की शुरुआत होने से पहले था।

इसी बीच अपनी बेटी की तलाश में लगे घरवालों को कैरोल के सामान में एक चिट्ठी मिली जो शायद उसने अपने ब्यॉयफ्रेंड को लिखी थी लेकिन उसे दे नहीं सकी थी। उस चिट्ठी को पढ़कर पुलिस के सामने पूरी कहानी शीशे की तरह साफ हो गई।

चिट्ठी से पहले ही कैरोल के घरवालों ने पुलिस को ज़िको के नाम पर अपना शुबहा ज़ाहिर भी किया था। और चिट्ठी से ये जाहिर हो गया था कि कैरोल और ज़िका के बीच रिश्ते ठीक नहीं चल रहे थे।

पहली बार नज़र आया पुलिस को क़ातिल

Crime story Update: पुलिस की तफ्तीश में ये बात भी साफ हो गई कि ज़िको के साथ पूछताछ के बाद सांत्राक्रूज पुलिस पहले ही उसे क्लीन चिट देकर आज़ाद कर चुकी है। लिहाजा ज़िको पर हाथ डालने से पहले पुलिस ने अपनी तफ़्तीश मुकम्मल करना ज़्यादा मुनासिब समझा।

पुलिस ने हाई-वे में मौक़ा ए वारदात के आस-पास लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज चेक करने के साथ-साथ कैरोल के घरवालों से थोड़ी और पूछताछ करने का फ़ैसला किया। इस कोशिश में पुलिस को जो सीसीटीवी फुटेज हाथ लगी, इत्तेफ़ाक से उसमें कैरोल ज़िको के साथ मौका-ए-वारदात की तरफ़ जाती हुई दिखाई दे रही थी। साथ ही ज़िको एक दोस्त भी अपनी स्कूटी पर दोनों को फॉलो करता हुआ नज़र आया। अब पुलिस की तफ़्तीश ज़िको पर ही टिक गई।

सूनसान रास्तों पर क़त्ल की कहानी

Palghar Murderख़त और सीसीटीवी फुटेज के बाद पूरी कहानी तो नहीं, लेकिन इतना ज़रूर साफ़ हो चुका था कि इस क़त्ल के पीछे ज़िको ही है... अब पालघर पुलिस ने ज़िको को हिरासत में लिया और उससे पूछताछ शुरू की, ज़िको ने थोड़ी हिला-हवाली भी की, लेकिन आख़िरकार पुलिस के सामने वो टूट गया और उसने जो कहानी सुनाई वो रौंगटे खड़े करनेवाली थी।

असल में ज़िको ने केरौल से पीछा छुड़ाने के लिए भयानक फ़ैसला कर लिया था। लिहाजा उसने पहले बातचीत के बहाने से कैरोल को अपने पास बुलाया और फिर उसे स्कूटी पर लेकर पालघर के सुनसान रास्ते में ले गया।

ज़िको के इरादे ठीक नहीं थे। वो कैरोल का क़त्ल कर उससे हमेशा-हमेशा के लिए जान छुड़ाना चाहता था। इसके लिए वो ना सिर्फ़ अपने साथ एक चाकू लेकर आया था, बल्कि उसने क़त्ल में मदद के लिए अपने दोस्त देवेंद्र को भी अपने साथ बुला लिया था।

क़त्ल के बाद ऐसे मिटाई पहचान

Murder Solve Case: 24 और 25 जनवरी की रात को दोनों देर रात पालघर हाई-वे पर रुके और बातचीत शुरू की। बातचीत लड़ाई झगड़े में तब्दील हो गई और तब ज़िको ने कैरोल का गला घोंटना शुरू कर दिया। उसके दोस्त देवेंद्र ने ना सिर्फ़ क़त्ल करने में उसका साथ दिया, बल्कि दोनों ने गला घोंटने के बाद कैरोल की मौत को कन्फर्म करने के लिए उस पर ताबड़तोड़ चाकू बरसाए।

ज़िको के पिता कैटरिंग का काम करते हैं और ये चाकू वो अपने पिता के कैटरिंग ऑफ़िस से ही उठा लाया था... कैरोल के क़त्ल के दौरान एक वक़्त ऐसा भी आया, जब उसकी जान नहीं जा रही थी, तब देवेंद्र ने भी कैरोल पर चाकू मारे और इस तरह मारे कि चाकू का हैंडल टूट गया। जिसे क़ातिलों ने वहीं जंगल में फेंक दिया और चाकू लाश में ही छोड़ दिया इसके बाद दोनों ने उसकी पहचान छुपाने के लिए चेहरे को पत्थरों से कुचल दिया और लाश को हाई-वे के बगल से बहते नाले में फेंक कर फ़रार हो गए।

12 घंटों की मेहनत ने दिखाया रंग, केस सॉल्व

इसके बाद सांताक्रूज़ पुलिस की लापरवाही से ये लाश पूरे दस दिनों वहीं नाले में पड़ी पड़ी सड़ती रही। लेकिन आख़िरकार इस लाश ने ही क़ातिल का पता दिया। और सच्चाई सामने आ गई।

हालांकि इस सच्चाई तक पहुँचने में पालघर पुलिस को पूरे 12 घंटों तक पसीना बहाना पड़ा। और ज़िको और देवेंद्र को पकड़कर पुलिस ने क़त्ल की गुत्थी सुलझा दी।

    यह भी पढ़ें...

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT