आतंकियों की ऐसी ट्रेनिंग देखकर दिमाग़ घूम जाएगा, पाकिस्तान में चलता है ट्रेनिंग कैंप

ADVERTISEMENT

CrimeTak
social share
google news

हाल फिलहाल में नागरिकों पर हमला करने वाले आतंकियों को हाइब्रिड आतंकी कहा जा रहा है. हाइब्रिड आतंकी ऐसे आतंकी हैं जो आम लोगों के साथ मिलकर रहते हैं. इन हाइब्रिड आतंकियों का इस्तेमाल कश्मीर में सांप्रदायिक माहौल को बिगाड़ने के लिए किया जा रहा है.

इस बार आतंकी Hit & Run रणनीति पर काम कर रहे हैइसके तहत सुरक्षाबलों और नागरिकों को खासतौर से निशाना बनाया जा रहा है. हमले के बाद आतंकी Over Ground Worker के साथ काम करने लगते हैं. Over Ground Worker वे लोग हैं जो आम लोगों के बीच मिलकर रहते हैं. ये तमाम हमले ऐसे आतंकी कर रहे हैं जो अभी नए-नए भर्ती हुए हैं.

नए आतंकियों को ट्रैक करना मुश्किल होता है क्योंकि उनका कोई रिकॉर्ड नहीं होता. यही वजह है कि NIA और पुलिस मिलकर नए आतंकियों की कमर तोड़ने के लिए अलग से ऑपरेशन चला रही है.

ADVERTISEMENT

नए आतंकियों की भर्ती लश्कर से जुड़े आतंकी संगठन द रेजिस्टेंस फ्रंट यानी TRF कर रहा है. TRF कश्मीर के युवाओं को अपने संगठन से जोड़कर Target killing करवा रहा है.

जिस युवा को हमले के लिए चुना जाता है, उसे पैसा और हथियार दिए जाते हैं. पैसा और हथियार स्थानीय आतंकियों की मदद से मिलता है. नए हाइब्रिड आतंकियों को निर्देश होता है कि मारो और भाग जाओ. हाइब्रिड आतंकी हमला करने के बाद छिपते नहीं बल्कि अपनी रोजमर्रा की जिंदगी में चले जाते हैं. क्योंकि उनको दिया गया टास्क पूरा हो चुका होता है.

ADVERTISEMENT

चुने हुए लोगों पर हमला करने और फिर वापस अपनी सामान्य जिंदगी में लौट जाने वाले इन आतंकियों का ब्रेन वॉश लश्कर के कमांडर करते हैं. इन लोगों को छोटे हथियारों से हमला करने की ट्रेनिंग दी जाती है.

ADVERTISEMENT

    यह भी पढ़ें...

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT