300 Cr के लिए Class One अफसर बहू ने पहले ड्राइवर को पटाया, फिर दे दी ससुर की सुपारी, Hit & Run की आड़ में हत्या

ADVERTISEMENT

CrimeTak
social share
google news

Nagpur, Maharashtra: नागपुर जिले में पिछले महीने ही एक हिट एंड रन का मामला सामने आया था। लेकिन जब पुलिस ने इस केस की गहराई में झांका तो तफ्तीश में पूरा मामला हिट एंड रन की बजाए इरादातन की गई हत्या की एक बड़ी साजिश निकला। पुलिस के मुताबिक इस साजिश की पूरी स्क्रिप्ट लिखने वाली मास्टरमाइंड मृतक की बहू निकली जिसने करीब 300 करोड़ रुपये की संपत्ति की लालच में मर्डर का प्लान बनाया था। 

ड्राइवर के साथ मिलकर बहू ने रची साजिश

ये साजिश मरने वाले बुजुर्ग की क्लास वन सरकारी अफसर बहू ने अपने ड्राइवर के साथ मिलकर रची थी। आरोपी का नाम अर्चना मनीष पुट्टेवार है, जो सरकारी नौकरी में क्लास वन अफसर भी है। जबकि हत्या की सुपारी लेने वाले की पहचान सार्थक बागड़े के रूप में पुलिस ने की है। इसके अलावा पुलिस ने तीन और लोगों को भी हत्या की वारदात में शामिल होने के आरोप में गिरफ्तार किया है। 

Hit and Run Case में मिले सुराग

दरअसल पिछले महीने की 22 मई 2024 को नागपुर के अजनी इलाके में हिट एंड रन का एक चौकाने वाला मामला आया था। हादसा दिखने वाली इस वारदात में दो कार सवार पुरुषोत्तम पुत्तेवार नाम के एक बुजुर्ग को रौंदकर फरार हो गए थे। इस हादसे में 72 साल के पुरुषोत्तम पुत्तेवार की मौके पर ही मौत हो गई थी। शुरु शुरू में यह पूरा मामला हिट एंड रन का ही नजर आ रहा था, लेकिन जब नागपुर पुलिस ने इसकी तह में झांका तो उन्हें जो सुराग मिले, उसे देखकर खुद पुलिस भी चौंक गई। 

ADVERTISEMENT

300 करोड़ की दौलत के लिए Murder

दरअसल पुलिस को खबर मिली थी कि मृतक पुरुषोत्तम पुत्तेवार की 300 करोड़ की दौलत के लिए ही उनकी हत्या की गई है और इस मामले में पुरुषोत्तम पुत्तेवार की बहू अर्चना पुत्तेवार का हाथ है। तब पुलिस इस इत्तेला को लेकर आगे बढ़ी और उसने अर्चना पुत्तेवार को खंगालना शुरू किया। खुलासा हुआ कि इस साजिश में वड़सा का रहने वाला कारोबारी और अर्चना का भाई प्रशांत के साथ उसकी पीए पायल भी शामिल थी।

Bar का लाइसेंस दिलाने का दिया लालच

असल में अर्चना गड़चिरोली नगर रचना विभाग की सहायक संचालक थी। साजिश में शामिल कारोबारी भी वड़सा का ही है। कुछ अरसा पहले ही गड़चिरोली में एक सामाजिक कार्यकर्ता की हत्या के सिलसिले में उस कारोबारी का नाम भी सुर्खियों में आया था मगर ऊंची पहुंच की वजह से वो उस केस से बच गया था।  पुलिस का खुलासा है कि अर्चना पुरुषोत्तम पुत्तेवार ने सबसे पहले अपने घरेलू ड्राइवर को पटाया और फिर उसकी मदद से एक गहरी साजिश रची। इसके लिए ड्राइवर के जरिये दो लोगों को 1 करोड़ रुपये और एक बार का लाइसेंस दिलाने का लालच देते हुए उन्हें ससुर की हत्या की सुपारी दी थी। 

ADVERTISEMENT

Nagpur Hit & Run Murder Case
हत्या के लिए खरीदी गई थी पुरानी i20 कार

एक लाख 76 हजार रुपये में खरीदी थी i 20 Car

साजिश के तहत 22 मई को इस वारदात का एक आरोपी नीरज निम्जे और उसका साथी सचिन धार्मिक ने तेज रफ्तार कार से पुरुषोत्तम पुत्तेवार को उड़ा दिया। लेकिन पुलिस को खबर मिल गई कि इस हत्या में जिस i20 कार का इस्तेमाल किया गया था वो कुछ ही दिन पहले 1 लाख 76 हजार रुपये में  खरीदी गई थी। i20 कार को खरीदने अलावा आरोपियों को इस हत्या के बदले लाखों रुपये बहू अर्चना पुत्तेवार ने ही दिए थे। 

ADVERTISEMENT

आरोपी कर रहा था अय्याशी, हो गया शक

पुलिस के सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक वारदात के उजागर होने के बाद घरेलू ड्राइवर सार्थक वैष्णोदेवी दर्शन के लिए चला गया था। उसका फोन बंद होने की वजह से पुलिस को उसकी लोकेशन नहीं मिल रही थी। लेकिन सोमवार को पुलिस ने सार्थक को भी गिरफ्तार कर लिया। इस हत्याकांड की सुपारी में आरोपी नीरज को भी मोटी रकम मिली थी। एक्सीडेंट के मामले में जमानत मिलने के बाद नीरज जमकर अय्याशी कर रहा था।  बताया जाता है कि लगातार वह अपने दोस्तों के साथ पब में जाकर महंगी शराब पिला रहा था। उसके पास इतने पैसे आने से दोस्तों को भी संदेह हुआ था।

बहू ने कबूला अपना गुनाह

नागपुर पुलिस की क्राइम ब्रांच ने जब इस केस के सिलसिले में अर्चना पुत्तेवार को पकड़ा और पूछताछ की तो उसने सब कुछ कुबूल कर लिया। अर्चना पुत्तेवार ने पूछताछ में यह कबूला है कि पूरी साजिश उसने ही रची थी। हत्या के लिए इस्तेमाल की गई सेकंड हैंड कार को खरीदने और कार से उड़ाने वाले आरोपियों को मोटी रकम और जेवरात दिए गए थे।  पुलिस ने हत्या की वारदात में शामिल कार और सुपारी के तौर पर दिए गए सोने के जेवरात समेत 17 लाख रुपये की नकदी जब्त की है। 

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT

    यह भी पढ़ें...