अफ़ग़ानिस्तान : 24 घंटे में काबुल एयरपोर्ट से निकले थे 19 हजार लोग, अभी भी हजारों फंसे

ADVERTISEMENT

CrimeTak
social share
google news

काबुल में बम धमाके के बाद दुनिया के कई देश अपने लोगों की सुरक्षा के लिए फिक्रमंद हैं. अफ़ग़ानिस्तान में तालिबान के सत्ता में दुबारा आने के बाद ये पहला आतंकी हमला है. अमेरिकी सैनिकों और कई अन्य लोगों के मारे जाने की ख़बर सामने आ रही है. तालिबान ने अपने बयान में कहा है कि उन्होंने पहले ही अमेरिकी एजेंसियों को किसी बड़े आतंकी हमले की जानकारी दी थी. लेकिन बावजूद इसके काबुल एयरपोर्ट पर आतंकी हमला होना तालिबान को मुंह पर किसी करारे तमाचे जैसा है. तो चलिए आज आपको बताएं किस देश के कितने नागरिक अब भी अफ़ग़ानिस्तान में फंसे हैं.

कितने लोग फंसे हैं इस समय अफगानिस्तान में?

अमेरिका के राष्ट्रपति बाइडेन ने 31 अगस्त तक 6000 अमेरिकी सैनिकों को निकाले जाने की घोषणा की. पिछले 24 घंटों में अमेरिका ने 19000 से ज़्यादा लोगों को बाहर निकाला है. इस समय हर 45 मिनट में एक US फ्लाइट उड़ान भर रही है.

ADVERTISEMENT

बुधवार शाम यानी 25 अगस्त तक 82,300 लोगों को अफगानिस्तान से निकाला जा चुका है. 4 हजार से अधिक अमेरिकी नागरिकों और उनके परिवारों को निकाला जा चुका है लेकिन अब भी हजारों लोग फंसे हए हैं. कांग्रेस के अधिकारियों के मुताबिक 10 हज़ार के आसपास अमेरिकी नागरिक अफगानिस्तान में थे.

यहीं नहीं अमेरिकी मदद से अफ़ग़ान के 2.5 लाख लोगों को भी बाहर निकाला जाना है, जिस पर अमेरिका ने अब तक कोई सफ़ाई नहीं दी है.

ADVERTISEMENT

भारत ने भी वहां फंसे भारतीयों और अफगान सिख और हिंदुओं को निकालने के लिए बड़ा रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू किया है. हर रोज दो विमान दोहा के लिए निकल रहे हैं और दोहा होकर भारतीयों को अफ़ग़ानिस्तान से निकालकर स्वदेश लाया जा रहा है.

ADVERTISEMENT

अफ़ग़ानिस्तान की सीमा 5 देशों से लगती है. ईरान, पाकिस्तान, उज्बेकिस्तान, तुर्कमेनिस्तान और ताजिकिस्तान. तालिबान के पूरी तरह सत्ता में आने के महीनों पहले ही अफ़ग़ानी लोगों को खतरा साफ दिखने लगा था.

ताज़ा संकट से पहले ही अफगान शरणार्थियों को लेकर यूनाइटेड नेशंस ने अलार्मिंग रिपोर्ट दी थी. UNHCR के 2020 के आंकड़ों को देखें तो सबसे ज्यादा अफ़ग़ान शरणार्थियों का संकट पाकिस्तान को प्रभावित कर रहा है. पाकिस्तान में 14 लाख 50 हजार से अधिक अफगान लोगों ने शरण ले रखी है. इसके बाद ईरान में 8 लाख के करीब अफगान शरणार्थी पहुंचे हैं. खासकर ईरान सीमा से सटे शिया हाजरा समुदाय के लोगों मे हिंसा से तंग आकर ईरान सीमा की ओर रुख किया है. इस आकड़ें के आधार पर समझिए कहां कितने अफगान शरणार्थी हैं?

  • पाकिस्तान- 14 लाख 50 हजार

  • ईरान- 7 लाख 80 हजार

  • जर्मनी- 1 लाख 81 हजार

  • तुर्की- 1 लाख 29 हजार

  • ऑस्ट्रिया- 46 हजार

  • फ्रांस- 45 हजार

  • ग्रीस- 41 हजार

  • स्वीडन- 31 हजार

  • स्विट्जरलैंड- 15 हजार

  • भारत- 15 हजार

  • इटली- 13 हजार

  • ब्रिटेन- 12 हजार शरणार्थी

31 अगस्त के बाद क्या होगा ?

अमेरिकी अधिकारियों ने कहा कि 31 अगस्त तक सैनिकों की वापसी मुश्किल है. काबुल में मौजूद अमेरिकी सैनिकों में मरीन और पैराट्रूपर्स शामिल हैं. वे अपनी स्पीड बढ़ा रहे हैं, पर इसके बाद भी रफ्तार काफी कम है.

अब तक जितने भी लोगों को निकाला गया उसमें ज़्यादातार अमेरिकी नागरिक, नाटो सैनिक और अफगान लोग भी शामिल हैं, जो खतरे में थे. अमेरिकी राष्ट्रपति भरी सभा में सिर्फ अमेरिकियों को बाहर निकालने की बात कह रहे हैं लेकिन सैन्य अधिकारी अफ़ग़ान नागरिक को भी बाहर निकाले जाने की बात कह रहे हैं.

    यह भी पढ़ें...

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT