Sidhu Moosewala में बड़ा खुलासा : सेल्फी के बाद वीडियो कॉल पर सिद्धू को पहले इस गैंग्स्टर को दिखाया फिर मरवाई गोली

Punjab Sidhu Moosewala Murder : पंजाब में 29 मई को सिंगर सिद्धू मूसेवाला मर्डर में बड़ा खुलासा. केकड़ा (Kekda) ने दो के साथ की थी रेकी, फिर सचिन बिश्नोई (Sachin Bishnoi को किया था वीडियो कॉल.
Sidhu Moosewala में बड़ा खुलासा : सेल्फी के बाद वीडियो कॉल पर सिद्धू को पहले इस गैंग्स्टर को दिखाया फिर मरवाई गोली
Lawrence Bishnoi And Sidhu Moosewala

Sidhu Moosewala Investigation Today News : सिद्धू मूसेवाला की हत्या (Sidhu Moosewala Murder) की परतें अब खुलने लगीं हैं. इस मर्डर का मास्टरमाइंड लॉरेंस बिश्नोई (Lawrence Bihsnoi), गोल्डी बराड़ (Goldy Brar) के साथ सचिन बिश्नोई, अनमोल बिश्नोई और दुबई में बैठा विक्रम बराड़ है.

सिद्धू मूसेवाला की हत्या कैसे और किस तरह से अंजाम दिया गया था. इसका भी अब पता लग चुका है. सिद्धू मूसेवाला मर्डर के 15 दिन बाद कुल 10 लोग गिरफ्तार हुए हैं. लेकिन असली शूटर्स (Sidhu Shooters) अभी फरार हैं.

लेकिन हत्या से ठीक पहले लॉरेंस बिश्नोई (Lawrence Bishnoi) के एक साथी और भांजे ने पहले वीडियो कॉल पर ही पूरी तसल्ली की थी कि गाड़ी में सिद्धू मूसेवाला ही है और उसकी पोजिशन ऐसी है. जब सबकुछ ठीक से पहचान लिया. उसके बाद ही शूटर्स को बुलाकर हत्या करा दी गई थी. ये सनसनीखेज खुलासा पंजाब पुलिस की जांच में हुआ है.

असल में पंजाब पुलिस ने सिद्धू मूसेवाला मर्डर केस की पूरी तफ्तीश की एक रिपोर्ट तैयार की है. इस रिपोर्ट में 29 मई की शाम सिद्धू मूसेवाला के घर से निकलने के लेकर हत्या करने और पूरी साजिश रचने की जानकारी दी गई है.

इसमें ये भी बताया गया है कि कैसे हत्या वाले दिन दो बदमाशों ने मुखबिरी की थी. हत्या के बाद जब बदमाशों की एक गाड़ी खराब हो गई तो अल्टो कार लूटकर गैंग्स्टर फरार हुए थे. जानिए पूरी डिटेल...

लॉरेंस-गोल्डी के साथ कुल 4 गैंग्स्टर हैं मास्टरमाइंड

Who killed Sidhu moose wala : पंजाब पुलिस का दावा है कि सिद्धू मूसेवाला मर्डर का मुख्य मास्टरमाइंड लॉरेंस बिश्नोई और कनाडा में बैठा गोल्डी बराड़ है. लेकिन इनके साथ ही दो और भी मास्टरमाइंड हैं जिनके नाम अनमोल बिश्नोई और सचिन बिश्नोई हैं. चारों ने खासतौर पर विक्की मिद्दूखेड़ा की हत्या का बदला लेने के लिए सिद्धू मूसेवाला का मर्डर किया.

इसके अलावा भी कई वजहें थीं. जिसमें लॉरेंस की धमकी का जवाब देने से लेकर विरोधी गैंग से दोस्ती करना शामिल है. घटना वाले दिन यानी 29 मई की शाम को सिद्धू मूसेवाला अपने घर से थार गाड़ी में सवार होकर निकले थे. इनके साथ दो दोस्त गुरुप्रीत और गुरविंदर सिंह थे. गुरविंदर साथ में जबकि गुरुप्रीत पीछे बैठे थे.

केकड़-निक्कू ने की मुखबिरी, फिर किया वीडियो कॉल

Lawrence Bishnoi mastermind : घर से कुछ दूरी पर ही कई फैंस थे जिनमें केकड़ा उर्फ संदीप (Kekda) और निक्कू दो मुखबिर भी थे. इन दोनों ने भी सिद्धू मूसेवाला का फैंस बनकर पहले सेल्फी ली. इसके बाद वहीं से तुरंत वीडियो कॉल किया.

ये वीडियो कॉल विदेश में मौजूद सचिन बिश्नोई को हुई थी. जिसमें ये दिखाया गया कि सिद्धू मूसेवाला बिना बुलेटप्रूफ गाड़ी से निकला है. इसके अलावा वो खुद गाड़ी ड्राइव कर रहा है. साथ में कोई गनर भी नहीं है. अब ये सबकुछ खुद सचिन बिश्नोई ने अपनी आंखों से वीडियो कॉल पर देख लिया तब उसी ने शूटर्स को जानकारी दी.

इसी के बाद गोल्डी बराड़, सचिन और अनमोल बिश्नोई इन्होंने तुरंत शूटर्स को अलर्ट किया. शूटर्स कोरोला और बुलेरो लेकर पीछे लग गए. कुछ देर बाद एक जगह पर सड़क पर टर्न आया तो सिद्धू मूसेवाला की गाड़ी धीमे हुई. उसी जगह पर शूटर्स ने घेर लिया और ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू कर दी. शुरू में सिद्धू मूसेवाला ने भी एक पिस्टल से फायरिंग की लेकिन उसमें कुछ ही कारतूस थे जो खत्म हो गए. इसके बाद शूटर्स थार गाड़ी के बोनट पर चढ़कर सिर्फ सिद्धू मूसेवाला को ही टारगेट बनाकर ताबड़तोड़ गोलियां दाग दीं. ये भी पता चला है कि गोलीबारी के दौरान बुलेरो गाड़ी डैमेज हो गई. जिसके बाद शूटर्स ने वहां से गुजर रही एक अल्टो कार को लूट लिया और उसी में बैछकर फरार हो गए थे. वो कार अहले दिन लावारिस बरामद हुई थी.

पंजाब पुलिस का दावा है कि इस वारदात में विक्रम बरार भी शामिल है जो इस समय दुबई में है. वो बड़े से बड़े ऑपरेशन को विदेश से ही ऑपरेट कर रहा है.

Related Stories

No stories found.
Crime News in Hindi: Read Latest Crime news (क्राइम न्यूज़) in India and Abroad on Crime Tak
www.crimetak.in