Rajasthan Police Operation Khushi
Rajasthan Police Operation Khushi

Rajasthan News : राजस्थान पुलिस का ऑपरेशन खुशी, 3 हफ्ते में पुलिस ने ढूंढे 161 गुमशुदा बच्चे

राजस्थान पुलिस का ऑपरेशन खुशी: तीन सप्ताह में पुलिस ने ढूंढे 161 गुमशुदा बच्चे. राजस्थान पुलिस 16 वर्ष से कम उम्र के गुमशुदा बच्चों की तलाश के लिए ‘ऑपरेशन खुशी-5’ अभियान चला रही है.

Rajasthan Crime news : राजस्थान पुलिस ने गुमशुदा बच्चों को खोजने के लिए चलाए जा रहे अपने विशेष अभियान 'ऑपरेशन खुशी' के तहत 161 ऐसे बच्चों को तलाश किया है। एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि राजस्थान पुलिस ने ‘ऑपरेशन खुशी-5’ के तहत पहले तीन सप्ताह में 161 लापता बच्चों को तलाश किया है तथा अन्य लापता बच्चों की तलाश के लिए वह लगातार प्रयास कर रही है। उनके अनुसार पुलिस 16 वर्ष से कम उम्र के गुमशुदा बच्चों की तलाश के लिए ‘ऑपरेशन खुशी-5’ अभियान चला रही है।

अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (सिविल राइट्स) स्मिता श्रीवास्तव ने बताया कि इस अभियान में राज्य में थानास्तर पर बचाव दलों द्वारा महिला एवं बाल विकास विभाग, महिला अधिकारिता विभाग समाज कल्याण बाल कल्याण समिति के सदस्यों एवं एनजीओ के प्रतिनिधियों के साथ समन्वय स्थापित कर इन बच्चों की तलाश के लिए व्यापक कदम उठाए गए हैं।

उन्होंने बताया कि अभियान के तहत पहले सप्ताह कुल 58 बच्चों को तलाशा गया जिनमें इस साल लापता हुए बच्चों में से 51 बच्चे तथा 31 अक्टूबर 2021 तक गुमशुदा बच्चों में से सात बच्चे हैं। उनके अनुसार दूसरे सप्ताह 54 बच्चों को पुलिस ने ढूंढ निकाला जिनमें इस साल लापता हुए बच्चों में से 49 बच्चे तथा 31 अक्टूबर 2021 तक गुमशुदा बच्चों में से पांच बच्चे हैं।

श्रीवास्ताव ने बताया कि तीसरे सप्ताह 49 बच्चों को तलाशा गया जिनमें सात बच्चे 31 अक्टूबर 2021 से पहले एवं 42 बच्चे इस साल गुम हुए बच्चों में से हैं। उल्लेखनीय है कि ऑपरेशन खुशी के पहले से चौथे चरण में गुमशुदा बच्चों की तलाश, बाल श्रम की रोकथाम तथा बाल श्रमिकों की समाज में पुनर्स्थापना के लिए कार्रवाई की गई थी।

एक बयान में श्रीवास्तव ने बताया कि राज्य के सभी जिलों की पुलिस 16 वर्ष से कम आयु के गुमशुदा बच्चों की सूचना वेब पोर्टल पर डालती हैं तथा इन बच्चों की एक डायरेक्टरी तैयार कर वह अभियान से जुड़ी प्रत्येक टीम को दी जाती है। उनके अनुसार समस्त जिला पुलिस अधीक्षक इसकी निगरानीग कर अभियान से जुड़े अन्य विभागों के साथ समन्वय बनाए रखते हैं।

Related Stories

No stories found.
Crime News in Hindi: Read Latest Crime news (क्राइम न्यूज़) in India and Abroad on Crime Tak
www.crimetak.in