थाने में जगह कम थी तो पुलिस ने पेड़ के नीचे रख दी मर्डर केस के सबूतों की पोटली, बंदर ले भागा

Rajasthan Jaipur news : पुलिस ने बताया कि थाने के मालखाने में जगह की कमी के कारण उसे बाहर रखना पड़ा. अब थाने में एक पुराना पेड़ है. उस पेड़ के नीचे ही काफी सामान रख दिए गए.
थाने में जगह कम थी तो पुलिस ने पेड़ के नीचे रख दी मर्डर केस के सबूतों की पोटली, बंदर ले भागा
Rajasthan monkey news

Ajab Gajab Crime News : पुलिस के अजब-गजब कारनामे तो बहुत सुने होंगे. ऐसे ही कारनामों में एक और नया चैप्टर जुड़ गया है. हत्या के मामले में चाकू समेत कई सबूतों की एक पोटली को पुलिस कोर्ट में पेश नहीं कर पाई.

अब काफी समय से कोर्ट में चल रहे इस केस में जज ने पूछा कि सबूत कहां हैं और गायब क्यों हो गए. तब पुलिस ने जो जवाब दिया उसे सुनकर तो हंसी ही छूट जाएगी. दरअसल, पुलिस ने बताया कि सबूतों को जिस कपड़े में बांधकर रखा गया था उसे बंदर ले भागे.

अब भला पुलिस के थाने के अंदर मालखाने से बंदर कैसे सबूतों की पोटली ले भागेगा. ऐसे सवाल उठे तब पुलिस ने पूरी कहानी बताई. लेकिन असली कहानी से पहले ये जान लीजिए मामला यूपी या बिहार का नहीं है. क्योंकि अक्सर दिमाग इन्हीं दो राज्यों में ऐसी खुराफात में चला जाता है.

सांकेतिक फोटो
सांकेतिक फोटो

6 साल पहले हुई हत्या मामले में चल रही थी सुनवाई

ये मामला राजस्थान के जयपुर का है. हत्या की घटना तो करीब 6 साल पुरानी है. सितंबर 2016 में जयपुर के चंदवाजी इलाके में शशिकांत शर्मा नाम के शख्स की हत्या हुई थी. वो कई दिनों से लापता थे. जिनकी बाद में लाश मिली थी. शरीर पर चाकू से मारने के निशान मिले थे.

इसके बाद पुलिस ने शशिकांत के परिजनों की शिकायत पर हत्या का केस दर्ज किया था. इस घटना को लेकर काफी विरोध भी हुआ था. पुलिस ने हत्या के 5 दिनों बाद ही दो हत्यारोपियों को दबोच लिया था. एक का नाम था राहुल और दूसरे का मोहनलाल कंडेरा.

दोनों को जेल भेज दिया गया. पुलिस ने उस समय हत्या में इस्तेमाल किए चाकू बरामद कर लिया था. साथ ही क़त्ल से जुड़े कुछ सबूत भी जुटाए थे. इन सबूतों को पुलिस ने एक कपड़े के थैले में डालकर मालखाना में रख लिया था.

मालखाने में जगह कम पड़ी तो पेड़ के नीचे रख दी सबूत की पोटली

Jaipur News : उस केस की सुनवाई अभी भी चल रही है. हाल में कोर्ट ने पुलिस से सबूत मांगे थे. उसी के जवाब में पुलिस ने एक लिखित लेटर थमा दिया. उस कागजी जवाब में लिखा था कि चाकू सहित जब्त किए गए कुल 15 सबूतों को बंदर लेकर भाग गया.

अब जब पूछा गया कि आखिर बंदर ने इस काम को कैसे अंजाम दिया. तो पुलिस ने बताया कि थाने के मालखाने में जगह की कमी के कारण उसे बाहर रखना पड़ा. अब थाने में एक पुराना पेड़ है. उस पेड़ के नीचे ही काफी सामान रख दिए गए.

उन्हीं सामान में वो सबूत वाली पोटली भी थी. जिसे बंदर लेकर भाग गया. अब कोर्ट ने पुलिस के इस अजीब तर्क पर नाराजगी जताई. अब राज्य के डीजीपी से लेकर बड़े अधिकारियों से इसे लेकर जवाब मांगा गया है.

Related Stories

No stories found.