MP: 15 साल से तीन प्रेमिकाओं से LOVE AFFAIRS, अब बनाया बीवियां !

Viral News in Hindi | MP News in Hindi
MP: 15 साल से तीन प्रेमिकाओं से LOVE AFFAIRS, अब बनाया बीवियां !
शख्स ने तीनों प्रेमिकाओं से रचाई शादी

रवीश पाल सिंह/चंद्रभान सिंह भदौरिया के साथ चिराग गोठी की रिपोर्ट

MP News : यहां कुछ लोगों से एक बीवी नहीं संभलती है, दूसरी ओर एक शख्स ने 3 प्रेमिकाओं से शादी करके उन्हें अपनी बीवियां बन लिया। ये घटना है मध्य प्रदेश के आदिवासी बाहुल्य अलीराजपुर जिले की। यहां एक दूल्हे ने आदिवासी रीति-रिवाज से अपनी 3 प्रेमिकाओं के साथ शादियां कर ली।

पूरा मामला जानिए

Viral News in Hindi: 15 सालों में समरथ मौर्या को तीन युवतियों से प्रेम हुआ। वह बारी-बारी से तीनों को भगाकर घर ले आए और तीनों को पत्नी की तरह रखा। आदिवासी भिलाला समुदाय में लिव-इन (Live-In) में रहने और बच्चे करने की छूट है, लेकिन जब तक विधि-विधान से शादी नहीं होती, तब तक ऐसे लोगों को समाज के मांगलिक कार्यों में शामिल होने की इजाजत नहीं होती, इसलिए 15 साल और 6 बच्चों के होने के बाद समरथ मौर्या ने अपनी तीनों प्रेमिकाओं के साथ शादी रचाई।

6 बच्चों की मौजूदगी में हुई शादी

दूल्हे समरथ मौर्या ने यह शादी उन तीनों प्रेमिकाओं से हुए 6 बच्चों की मौजूदगी में रचाई। समरथ नानपुर इलाके का पूर्व सरपंच भी रह चुका है। दूल्हे समरथ मौर्या और उनके बच्चे इस शादी से काफी खुश हैं। उन्होंने शादी समारोह में जमकर डांस भी किया। इस दौरान स्थानीय लोग भी शादी समारोह में शामिल हुए। शादी के निमंत्रण कार्ड में दूल्हे के नाम के साथ उसकी तीनों प्रेमिकाओं का भी नाम लिखवाया गया था। गरीबी की वजह से वो शुरुआत में शादी नहीं कर पाया था।

कानून देता है इजाजत

हालांकि कानून भी इसकी इजाजत देता है, भारतीय संविधान का अनुच्छेद 342 आदिवासी रीति-रिवाज और विशिष्ट सामाजिक परंपराओं को सरंक्षण देता है, लेकिन यहां कई सवाल खड़े होते है।

क्या उसकी प्रेमिकाओं को एक-दूसरे से कोई तकलीफ नहीं है ?

समरथ की आय का स्रोत क्या था, जो वो तीन प्रेमिकाओं के खर्चों को झेल पाया ?

समरथ क्यों तीनों के साथ ही शादी करना चाहता था ?

क्या इन तीनों के अलावा भी उसकी जिंदगी में कोई और है ?

इन तमाम सवालों के जवाब से ही स्थिति साफ होगी।

Related Stories

No stories found.
Crime News in Hindi: Read Latest Crime news (क्राइम न्यूज़) in India and Abroad on Crime Tak
www.crimetak.in