'I am sorry' CJI एनवी रमणा ने कार्यकाल के आखिरी दिन ऐसा क्यों कहा?

Court News: सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस एनवी रमणा के कार्यकाल का आज आखिरी दिन है. इस मौके पर एनवी रमणा ने शुक्रवार को समारोह पीठ को संबोधित किया.
'I am sorry' CJI एनवी रमणा ने कार्यकाल के आखिरी दिन ऐसा क्यों कहा?

Court News: सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के चीफ जस्टिस एनवी रमणा (Chief Justice NV Ramana) के कार्यकाल का आज आखिरी दिन है. इस मौके पर एनवी रमणा ने शुक्रवार को समारोह पीठ को संबोधित किया. उन्होंने कहा कि 16 महीनों में सिर्फ 50 दिन ही प्रभावी और पूर्णकालिक सुनवाई कर पाया हूं. CJI एनवी रमणा ने अपने कार्यकाल में जल्दी सुनवाई के लिए मुकदमों की लिस्टिंग करवाने पर ध्यान केंद्रित न कर पाने के लिए अपने आखिरी समारोह पीठ में माफी मांगी. इस दौरान CJI ने कहा I Am Sorry.

माना जा रहा है कि इस वक्तव्य के पीछे उनका मतलब पिछले 3 महीनों से पूरी तरह फिजिकल हियरिंग के दौरान कोर्ट रूम में हुई सुनवाई को लेकर था. क्योंकि उनके कार्यकाल में अधिकतर समय वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए ही सुनवाई हुई. CJI रमना ने कहा कि मुझे खेद है कि मैं मामलों की लिस्टिंग और पोस्टिंग पर अधिक ध्यान केंद्रित नहीं कर सका.

8 आठ साल तक सुप्रीम कोर्ट के जज और पिछले 16 महीनों से चीफ जस्टिस के तौर पर भारत की न्यायपालिका का नेतृत्व करते हुए शुक्रवार को रिटायर हुए जस्टिस रमणा जब अंतिम बार पीठ की अगुवाई करने बैठे, तो विदाई जैसा माहौल हो गया. सीनियर एडवोकेट दुष्यंत दवे तो ऐसे भावुक हुए कि कई मिनटों तक उनके आंसू रुक ही नहीं पाए.

उनके भाषण के कई वाक्य तो भरे गले और आंसुओं के साथ निकले. बस इतना ही सुना जा सका कि आपका कार्यकाल जबरदस्त रहा. आपने अपनी ड्यूटी मजबूती से निभाई है. नागरिकों के जज के तौर पर आपके इरादों और कार्यशैली से न्यायपालिका मजबूत हुई है. आप इस कोर्ट को जस्टिस ललित और जस्टिस हिमा कोहली जैसे सुरक्षित हाथों में सौंपकर विदा हो रहे हैं.

Related Stories

No stories found.
Crime News in Hindi: Read Latest Crime news (क्राइम न्यूज़) in India and Abroad on Crime Tak
www.crimetak.in