9 साल के बच्चे ने गूगल पर सर्च कर अकेले बिना टिकट 2700 किमी तक प्लेन में ऐसे किया सफर

अजब-गजब कहानी : इस बच्चे को हमेशा कुछ नया करने का जुनून था. इसलिए गूगल पर उसने सर्च किया कि हवाई जहाज में बिना किसी को पता चले कैसे सफर करें. यानी how to get on a plane unnoticed. फिर एयरपोर्ट की सुरक्षा की पोल खोल डाली.
9 साल के बच्चे ने गूगल पर सर्च कर अकेले बिना टिकट 2700 किमी तक प्लेन में ऐसे किया सफर
Emanuel Marques de Oliveira

World News in Hindi: इंटरनेट ने हमारी जिंदगी काफी आसान कर दी है. तो कई मामलों में बेहद पेचिदा भी. कुछ समझ ना आए तो हम इंटरनेट पर सर्च कर लेते हैं. उसके बारे में जान लेते हैं. अब वो काम चाहे अच्छे के लिए हो या बुरे के लिए. अब एक मासूम बच्चा. उम्र सिर्फ 9 साल. घर से सिर्फ अकेले कहीं चला जाए. तो मन में डर लग जाता है. लेकिन क्या हो वो अकेले हवाई सफर पर निकल जाए. वो भी बिना किसी को बताए. बिना किसी के मदद के. और बिना टिकट के.

बिना टिकट के ट्रेन में सफर करने के किस्से तो खूब आते हैं. लेकिन हवाई सफर के बारे में सोचना भी मुश्किल लगता है. लेकिन 9 साल के एक बच्चे ने हैरतअंगेज तरीके से सिर्फ गूगल पर कुछ सर्च किया और बिना टिकट और बिना किसी सिक्योरिटी की नजरों में आए प्लेन से करीब 2700 किमी की यात्रा कर चुका. इसके बाद उस पर प्लेन के क्रू मेंबर्स की नजर पड़ी तब उससे पूछताछ की गई. इसके बाद जो सामने वो बेहद ही चौंकाने वाला था. आज क्राइम की कहानी (Crime Stories in Hindi) में ये दिलचस्प और हैरतअंगेज मामला.

Latam Airlines
Latam Airlines

26 फरवरी को ब्राजील की लैटम एयरलाइंस में हुआ ये वाकया

Brazil Manaus Child Story : ये रियल कहानी है साउथ अमेरिकी देश ब्राजील की. वही ब्राजील जो दुनिया के सबसे बड़े देशों में पांचवें नंबर पर आता है. आबादी के मामले में दुनिया में ब्राजील का छठवां स्थान है. ये मामला है इसी साल 26 फरवरी 2022 का. ब्राजील के उत्तरी पश्चिमी इलाके में एक खूबसूरत शहर है. उसका नाम है मनौस (Manaus).

यहां के खूबसूरत जंगल और वॉटरफॉल लोगों के लिए टूरिस्ट स्पॉट बनाते हैं. ये अमेजन के जंगलों से जुड़ा भी है. यहां जंगल होटल में आने के लिए दूर देश से भी लोग आते हैं. इसी शहर में एक इंटरनेशनल एयरपोर्ट है. उसका नाम है मनौस इंटरनेशनल एयरपोर्ट. वैसे इसका नाम अब एडुराडो गोम्स रख दिया गया.

जो ब्राजील के एक जाने-माने पॉलिटिशियन के नाम पर है. जैसे हर इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर चाक-चौबंद सुरक्षा व्यवस्था होती है. वैसी ही सिक्योरिटी यहां भी है. लेकिन अब यहां की सुरक्षा एजेंसियां इन दिनों अपनी खामियों पर रिसर्च कर रही हैं. क्योंकि 26 फरवरी को जो एक घटना हुई उसने पूरी दुनिया को चौंका दिया.

असल में, 26 फरवरी को लैटम एयरलाइंस (Latam Airlines) की एक फ्लाइट मनौस से ग्रेटर साओ पाउलो (Greater Sao Paulo) के लिए उड़ी थी. ये फ्लाइट समय पर चली गई. और अब साओ पाउलो पहुंचने वाली भी थी.

Emanuel Marques de Oliveira
Emanuel Marques de Oliveira

क्रू मेंबर की नजर जब बच्चे पर पड़ी तो चौंक गए

Viral Story in hindi : फ्लाइट में सबकुछ ठीक था. उसी दौरान प्लेन क्रू मेंबर्स के सामान रखने वाले एक केबिन में अचानक किसी की नजर पड़ी. उसे देखते ही पहले तो किसी को भरोसा नहीं हुआ. ये कैसे हो सकता है. क्योंकि वहां एक मासूम बच्चा छुपा हुआ था.

उम्र 9 साल. वो बिल्कुल डरा सहमा नहीं था. लेकिन उसे देखकर क्रू मेंबर ज्यादा डर गए. क्योंकि इतनी सिक्योरिटी के बाद भी वो कहां से आ पहुंचा. क्या उसके साथ कोई और है. ये पता लगाने के लिए सभी यात्रियों से पूछा गया. लेकिन कोई जवाब नहीं मिला. फिर उस बच्चे ने खुद ही बताया. मैं अकेले सफर कर रहा हूं.

प्लेन स्टाफ ने पूछा कि क्या उसके पास कोई टिकट या फिर कोई दूसरा डॉक्युमेंट है. उसने ऐसा कुछ होने से सीधे मना कर दिया. अब बच्चा कहीं संदिग्ध तो नहीं है. ये सोचकर उसकी तलाशी ली गई. लेकिन ऐसा कुछ नहीं मिला. जिससे उसे संदिग्ध माना जाए. इसके बाद उसकी पूरी डिटेल ली जाती है. नाम और पता. फिर फ्लाइट जब साओ पाउलो पहुंच जाती है. तब उस बच्चे की तरफ से दी गई जानकारी का सच की पड़ताल होती है.

बच्चे के परिवार ने 26 फरवरी को कराई थी लापता की रिपोर्ट

26 फरवरी की रात के 10 बज चुके थे. प्लेन स्टाफ की तरफ से उसके परिवार में फोन लगाया जाता है. तब पता चलता है कि वाकई ये बच्चा घर से सुबह 7 बजे से ही लापता हुआ था. परिवार के लोगों ने पुलिस में भी गुमशुदगी में शिकायत की थी. ये जानकर बच्चों को दूसरी फ्लाइट से अगले दिन सुबह मनौस स्थित उसके घर पहुंचाया जाता है.

पर इस दौरान तक ये रहस्य बना हुआ था कि आखिर 9 साल का एक बच्चा कैसे अकेले हवाई सफर कर सकता है. बस या ट्रेन या किसी दूसरी गाड़ी से जाने की बात तो समझ में आती है. लेकिन प्लेन से सफर करना कैसे हो सकता है. इस बारे में जब बच्चे से पूछताछ की गई तो उसका जवाब जानकर हर कोई हैरान हो गया था.

उस बच्चे ने बताया कि सिर्फ उसने गूगल पर सर्च किया था. कि हवाई जहाज में बिना किसी को पता चले कैसे सफर करें. बस इसे सर्च करने के बाद उसे ऐसी जानकारी मिली जिसका पता लगाने के लिए वो घर से निकल गया. और कामयाब भी हुआ.

Emanuel Marques de Oliveira
Emanuel Marques de Oliveira

मां ने बताई, कैसे इमैनुएल हुआ था गायब

अब आप जरूर जानना चाहेंगे कि वो बच्चा कौन था. दरअसल, उस बच्चे का नाम है इमैनुएल मार्क्स डे ओलिवेरा (Emanuel Marques de Oliveira). परिवार मनौस में रहता है. मां का नाम है डेनियल मॉर्कस ( Daniele Marques). मां ने लोकल मीडिया को बताया कि 26 फरवरी की सुबह करीब साढ़े 5 बजे जब उनकी नींद खुली तो इमैनुएल के कमरे में देखा था.

उस समय वो सो रहा था. इसके बाद मां फिर से अपने कमरे में सो गई. लेकिन सुबह साढ़े 7 बजे नींद खुली और बेटे के कमरे में पहुंची तो वो नहीं दिखा. पहले घर में और फिर बाहर देखा वो कहीं नहीं मिला. आसपास के लोगों से भी पूछा पर कोई जानकारी नहीं मिली. इस तरह पूरा दिन निकल गया और शाम हो गई. फिर भी कुछ अता-पता नहीं चला. इसलिए पुलिस में भी शिकायत की.

इसके बाद रात 10 बजे जब लैटम एयरलाइंस के क्रू मेंबर्स और फेडरल पुलिस का फोन आता है तब बेटे के साओ पाउलो में होने की जानकारी मिलती है. पुलिस ने इस पूरे मामले में पहले ये शक जताया कि बच्चे को घर में प्रताड़ित किया जाता रहा होगा. इसलिए नाराज होकर उसने ये कदम उठाया. लेकिन जब बच्चे की काउंसलिंग कर पूछताछ हुई तब उसने पूरा वाकया बताया.

उसने बताया कि उसके करीबी परिवार के लोग साओ पाउलो में रहते हैं. वो जगह काफी दूर है और प्लेन से ही जा सकते हैं. ऐसे में उसे उनसे मिलने की इच्छा हुई थी.

लेकिन अकेले नहीं जा सकता था. चूंकि उसे घूमने और हमेशा कुछ नया करने का जुनून था. इसलिए गूगल पर सर्च करने लगा. उसने सर्च किया कि हवाई जहाज में बिना किसी को पता चले कैसे सफर करें. यानी how to get on a plane unnoticed.

अब ये सर्च करने पर तमाम जगह से उसे काफी सारी जानकारी मिली. गूगल से जानकारी पाकर उसने यूट्यूब पर वीडियो भी देखे. फिर मनौस एयरपोर्ट के वीडियो भी देखे. प्लेन के अंदर कैसे क्या होता है. एयरपोर्ट पर कैसे एंट्री कर सकते और प्लेन तक कैसे जा सकते हैं. ये सबकुछ जानने के बाद ही वो अपने जुनून को पूरा करने के लिए घर से निकल जाता है.

लेकिन इस घटना से एयरपोर्ट और प्लेन की सिक्योरिटी पर सवाल उठ गए हैं. लिहाजा, ब्राजील ही नहीं बल्कि दुनिया की तमाम एयरपोर्ट अथॉरिटी की सिक्योरिटी अब अपनी खामियों का पता लगा रही हैं. ताकी भविष्य में कोई इन खामियों का फायदा उठाकर कोई बड़ा नुकसान ना पहुंचा सके.

Related Stories

No stories found.