नेपाल के नामी क्रिकेटर पर T-20 वर्ल्ड कप से पहले लगा ये संगीन इल्जाम

ADVERTISEMENT

CrimeTak
social share
google news

Nepal Cricketer Sandeep Lamichhane: ये नेपाल क्रिकेट के लिहाज से बहुत बड़ी खबर है, क्योंकि नेपाल के खिलाड़ी और लेग स्पिनर संदीप लामिछाने को नेपाल की पाटन हाईकोर्ट ने रेप के मामले में बेकसूर करार करके बाइज्जत बरी कर दिया है। इस खबर के बाद अब ये साफ हो गया कि आने वाली T-20 क्रिकेट विश्व कप में संदीप नेपाल की टीम का प्रतिनिधित्व कर सकेंगे। आईपीएल खेल चुके संदीप लामिछाने को पाटन कोर्ट ने पूरी तरह से निर्दोष साबित किया है। 

हाईकोर्ट ने पलटा निचली अदालत का फैसला

इस खबर के सामने आने के बाद नेपाल क्रिकेट टीम के चयन के लिए अब संदीप लामिछाने का नाम भी उपलब्ध रहेगा। पाटन हाईकोर्ट ने बुधवार को इस मुकदमें का फैसला सुनाया। लामिछाने पर यौन शोषण का आरोप लगाया गया था। कोर्ट ने कहा कि संदीप पूरी तरह से निर्दोष है। हाईकोर्ट ने एक तरह से निचली अदालत के फैसले को पलट दिया। दरअसल, काठमांडू जिला अदालत ने संदीप लामिछाने को रेप के एक मामले में दोषी पाया था और उन्हें आठ बरस की जेल की सजा सुनाई थी इसके अलावा पांच लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया गया था। पिछले साल 13 दिसंबर को कोर्ट ने उन्हें रेप का दोषी ठहराया था। 

पीड़ित ने लगाया इल्जाम, फायदा उठाया

जिला अदालत ने पिछले साल 13 दिसंबर को माना था कि क्रिकेटर संदीप ने पीड़ित की खराब आर्थिक स्थिति का फायदा उठाकर पीड़िता के साथ दुष्कर्म किया। जिला अदालत ने अपने फैसले में कहा था कि पीड़िता और संदीप लामिछाने काठमांडू से नगरकोट गए और वापस काठमांडू आए और होटल के एक ही कमरे में रुके। पक्ष और विपक्ष के बयान, गवाहों के बयान और घटना का विवरण, सीसीटीवी फुटेज के आधार पर अदालत ने फैसला सुनाया कि संदीप ने पीड़िता के साथ इसी होटल के कमरे में दुष्कर्म किया।

ADVERTISEMENT

अदालत के फैसले के खिलाफ हाईकोर्ट में अपील

तब क्रिकेटर लामिछाने का वकील सरोजकृष्ण घिमिरे ने कहा कि जिला अदालत का फैसला संतोषजनक नहीं होने के कारण आगे के कानूनी उपायों के लिए उच्च न्यायालय जाएंगे। अब उच्च न्यायालय ने जिला अदालत के फैसले को पलटते हुए लामिछाने को निर्दोष करार दिया। असल में आरोप लगाने वाली लड़की ने साल 2022 में छह सितंबर को मेट्रोपॉलिटन पुलिस सर्कल, गौशाला में 22 साल के क्रिकेटर के खिलाफ मामला दर्ज कराया था।लड़की का आरोप था कि लामिछाने ने 2022 में उन्हें 21 अगस्त को काठमांडू और भक्तपुर में अलग अलग जगहों पर घुमाया। इसके बाद काठमांडू के सिनामंगल के एक होटल में ले जाकर दुष्कर्म किया। इस शिकायत के बाद लामिछाने को नेपाल क्रिकेट टीम के कप्तान पद से निलंबित कर दिया गया था।

अमेरिका और वेस्टइंडीज की मेजबानी में वर्ल्ड कप

अगला T-20 विश्व कप अगले महीने अमेरिका और वेस्टइंडीज की मेजबानी में होने जा रहा है जिसमें 20 टीमें शामिल होंगी और ऐसे में नेपाल के लिए खुद को साबित करने का ये बड़ा मौका होगा। इससे पहले नेपाल की टीम के लिए एक अच्छी खबर सामने आई है। टीम के पूर्व कप्तान और आईपीएल में खेल चुके लेग स्पिनर संदीप लामिछाने दुष्कर्म मामले में निर्दोष करार दिए गए हैं और उन्हें कोर्ट ने बरी कर दिया है। 

ADVERTISEMENT

6 अक्टूबर को किया था गिरफ्तार

हैरानी की बात ये है कि जिस समय ये इल्जाम लगा उस समय लामिछाने कैरेबियन प्रीमियर लीग में खेलने के लिए त्रिनिदाद और टोबैगो में थे। नेपाल पुलिस ने उन्हें पिछले साल 6 अक्तूबर को त्रिभुवन अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट से गिरफ्तार किया था। आरोप पत्र के माध्यम से, जिला अटॉर्नी ने पीड़िता की कथित शारीरिक और मानसिक यातना के लिए लामिछाने से मुआवजे की मांग की थी। आरोप पत्र दाखिल होने के बाद लामिछाने का बैंक खाता और संपत्ति जब्त कर ली गई थी।

ADVERTISEMENT

पोस्टर बॉय संदीप

संदीप एक लेग स्पिनर हैं। 2016 अंडर-19 वर्ल्ड कप में उनका प्रदर्शन शानदार रहा था। तब उस टूर्नामेंट में नेपाल की टीम आठवें स्थान पर रही थी। इसके बाद 2018 में उन्हें आईपीएल का कॉन्ट्रैक्ट मिला। दिल्ली कैपिटल्स ने संदीप को नीलामी में खरीदा था। वह आईपीएल का कॉन्ट्रैक्ट हासिल करने वाले नेपाल के पहले क्रिकेटर बने थे। दिल्ली ने संदीप को उनके बेस प्राइस 20 लाख रुपये में खरीदा था। संदीप तब नेपाल क्रिकेट के पोस्टर ब्वॉय बन चुके थे।

    यह भी पढ़ें...

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT