रूस के ख़िलाफ़ अमेरिका खुलकर आया सामने यूक्रेन के लिए USA ने खोला ख़ज़ाने का दरवाज़ा

Russia Ukraine War: रूस और यूक्रेन की ये लड़ाई किसको खोखला कर रही है और किसका कचूमर निकाल रही है ये तो कोई भी पूरे यक़ीन से नहीं कह सकता, मगर ये ज़रूर है कि इस जंग की आग में दुनिया की बेतहाशा दौलत ज़रूर स्वाहा हो रही है।
रूस के ख़िलाफ़ अमेरिका खुलकर आया सामने यूक्रेन के लिए USA ने खोला ख़ज़ाने का दरवाज़ा
रूसी हमले से तबाह यूक्रेन का शहर

रूसी हथियारों के सामने डॉलर की दीवार

Russia Ukraine War:रूस अपने गोदामों में रखे बमों से यूक्रेन की ज़मीन को झुलसा देने पर आमादा है तो यूक्रेन को सामने रखकर अमेरिका और दूसरे पश्चिम देश अपने अपने हिस्से की आहुति देने में भी पीछे नहीं हट रहे हैं। आलम ये है कि अमेरिका ने रूस को नीचा दिखाने के लिए यूक्रेन की ख़ातिर अपने ख़ज़ाने के दरवाजे खोल दिए हैं। (60,9072,00,000) 60 अरब 90 करोड 72 लाख रुपये। ये इतनी रकम है कि दुनिया के कई छोटे मुल्कों पूरे साल अपनी सारी आबादी को घर बैठकर खाना खिला सकते हैं। लेकिन इस युद्ध काल में अमेरिका सिर्फ इतनी रकम के हथियार यूक्रेन को दे रहा है।

अमेरिका ने जिन हथियारों के लिए अपना खजाना खोला है वो कितने घातक हैं और इससे यूक्रेन को कितनी ताक़त मिल जाएगी इसे समझना भी ज़रूरी है। अमेरिका ने यूक्रेन को इतनी रकम के न सिर्फ हथियार देगा बल्कि उन्हें संभालने और इस्तेमाल करने की ट्रेनिंग भी मुहैया करवाएगा। वो ख़र्च अलग है।

अमेरिका खुलकर सामने आया जंग में रूस के
अमेरिका खुलकर सामने आया जंग में रूस के

कीव में गूंजे धमकी के सायरन

Russia Ukraine War: रूस के हमले हर दिन तेज होते जा रहे हैं। रूस ने धमकी दी है कि अगर यूक्रेन की विदेशी मदद नहीं रुकी तो वो यूक्रेन की उन जगहों पर हमले करेगा जहां से फैसले लिए जा रहे हैं। मतलब साफ है कि वो जेलेंस्की के अड्डे को ऩिशाना बनाने से नहीं चूकेगा। बहुत दिन बाद गुरूवार को पूरा दिन कीव में इस धमकी के सायरन सुनाई देते रहे।

इससे पहले अमेरिका ने यूक्रेन को ऐसे ड्रोन भी दिए थे जो रूसी टैंक और बख्तरबंद गाड़ियों के लिए काल साबित हुए थे। रूस के मजबूत से मजबूत टैंक को अमेरिकी ड्रोन मिट्टी के खिलौनों की तरह तबाह और बर्बाद कर रहे थे।

चीन की मिसाइल सर्बिया पहुँची

Russia Ukraine War: उधर यूक्रेन विरोधी मोर्चा भी अपने साथियों की मदद के लिए हथियार इधर से उधर कर रहे हैं। चीन ने दो दिन पहले ही अपना सबसे बड़ा हवाई ऑपरेशन चला कर रूस के दोस्त सर्बिया के पास HQ22 मिसाइल भेजी हैं।

जबकि नाटो की तरफ ललचाई नज़रों से देख रहे फिनलैंड की सीमा की तरफ रूस ने अपनी घातक मिसाइलों की खेप भेज दी हैं। साथ में धमकी भरा पैग़ाम भी दे दिया कि पूरी पश्चिमी दुनिया मिल कर भी हमें नुकसान नहीं पहुंचा पायी है और न पहुंचा पाएगी

इस बीच अब ये तस्वीर तो पूरी तरह से साफ हो गई है कि अमेरिका खुल कर इस जंग में सामने आ गया है। अमेरिका के सामने आने और मदद को बढ़ाने से युद्ध की दिशा और दशा दोनों ही बदल सकती है। अब यहां सबको रूस की उस धमकी का डर ज़रूर सता रहा है जिसमें पुतिन ने कहा था कि यूक्रेन की मदद करने जो सामने आएगा उसे भी बम से उड़ा दिया जाएगा।

Related Stories

No stories found.