बमबारी और बर्बादी के दमघोटू धुएं में निकले 58 दिन, यूक्रेन का एक और शहर अब है निशाने पर

Russia Ukraine War: ना रूस की बमबारी रुकी, ना यूक्रेन की तबाही और दहशत के 58 दिन बीत गए। अभी तक तो राहत की कोई ख़बर कहीं से भी आती दिखाई नहीं दे रही है।
बमबारी और बर्बादी के दमघोटू धुएं में निकले 58 दिन, यूक्रेन का एक और शहर अब है निशाने पर
यूक्रेन का शहर रूबिझने, जहां तबाही का सिलसिला अब शुरू हुआ है

Russia Ukraine War: यूं तो यूक्रेन के कई शहर पूरी तरह से बर्बाद हो चुके हैं। रूसी सेना की बमबारी ने न जाने कितने शहरों को कचूमर निकाल दिया। वहां कुछ बचा है तो तबाही और बर्बादी के वो निशान जिनसे ये अंदाज़ा हो जाता है कि कभी इस शहर में भी आशियाना हुआ करते थे। मारियूपोल का ऐसा ही हाल है। इसी तरह यूक्रेन का एक शहर है रुबिझने। रूस ने यहां इस कदर बमबारी की है कि पूरा शहर धमाकों की तपिश में दहल उठा।

डोनबास रीजन पर पूरी तरह रूस अपना कब्जा चाहता है। लेकिन यूक्रेन की सेना रूसी मंसूबों के सामने फिलहाल तो चट्टान बनकर खड़ी है। हालांकि भीषण जंग में जब रूस को कोई नतीजा निकलता नहीं दिखा तो उसने भयानक हवाई हमले कर दिए।

रूस के निशाने पर अब डोनबास रीजन

Russia Ukraine War: यूक्रेन के दो हिस्सों में तोड़ने की मंशा लिए रूस का अब पूरा फोकस डोनबास और मारियूपोल पर है। जिस तरह से डोनबास रीजन में रूस अब भीषण हवाई हमले कर रहा है। ठीक उसी तरह से रूस ने मारियूपोल पर कहर बरपाया था। स्थिति ये है कि मारियूपोल का 95 फीसदी हिस्सा पूरी तरह से तबाह हो चुका है। और वो रूस के नियंत्रण में आ गया है।

मारियूपोल, पुतिन का वो प्रोजेक्ट था जिसकी जिम्मेदारी उन्होंने अपने सबसे ख़ास जनरल एलेक्जेंडर ड्वार्निकोव को दी थी। ड्वार्निकोव ने पहले मारियूपोल को हवाई हमलों से तबाह कर दिया, फिर चेचेन लड़ाकों की मदद से जमीन पर नियंत्रण हासिल कर लिया। इस पूरे मिशन में सैकड़ों लोगों के मारे जाने का दावा किया जा रहा है।

क़ब्रों से निकलकर 9 हज़ार लाशों ने सुनाई तबाही की कहानी

Russia Ukraine War: मारियूपोल से सामूहिक कब्र की एक सेटेलाइट तस्वीर ने सामने आकर जो गवाही दी उसने मारियूपोल में रूसी सेना की मचाई गई तबाही की कहानी ही सुनाई है। यहां 9 हजार से ज्यादा लोगों को दफनाया गया है।

यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोडीमिर जेलेंस्की को अब ये डर सताने लगा है कि पुतिन रेफरेंडम के जरिए मारियूपोल को उनसे छीन न लें

रूस की प्लानिंग ही यही है कि डोनबास के साथ साथ मारियूपोल को छीनकर क्रीमिया तक एक लैंड कॉरिडोर बना लिया जाए। जिससे यूक्रेन दो हिस्सों में बंट जाए। जेलेंस्की रूस की सेना पर युद्ध अपराध का आरोप लगा रहे हैं। उनके मुताबिक रूसी सैनिक मारियूपोल में आम नागरिकों को निशाना बना रहे हैं। हलांकि युद्ध खत्म करने या रूस की शर्तें मानने को लेकर वो तैयार नहीं है। इसके इतर वो पश्चिमी देशों से मिल रहे हथियारों के लिए उनके शुक्रगुजार हैं।

यूक्रेन के शहरों में अब रॉकेट के धमाके बच्चों का खेल हो गया
यूक्रेन के शहरों में अब रॉकेट के धमाके बच्चों का खेल हो गया

यूक्रेन के सैनिक लड़ तो रहे मगर तबाही नहीं रोक पा रहे

Russia Ukraine War: पूर्वी यूक्रेन पर रूस की सेना के हमले बढ़े तो उनके निशाने पर एक बार फिर खारकीव आ गया। खारकीव पर फिर से बमबारी शुरू हो गई है। इस शहर में अब तक रूसी बमबारी से करीब 2 हजार घर तबाह हो चुके हैं।

खारकीव के मेयर के मुताबिक शहर में करीब दस लाख लोग रहते हैं। उनमें से 30 फीसदी लोगों को सुरक्षित निकाला गया है। उनमें ज्यादातर महिलाएं, बुजुर्ग और बच्चे हैं।

रूस के हमलों की दूसरी लहर में दो तरह की ही स्थिति बनती दिख रही है। या तो रूस के टारगेट पर आया कोई शहर उसके नियंत्रण में आता जा रहा है। या फिर वो उस शहर को पूरी तरह से बर्बाद कर दे रहा है। यूक्रेनी सैनिक रूस से टकराने में पीछे नहीं है। लेकिन अपने देश के शहरों को ध्वस्त होने से बचाना, उनके बस में भी नहीं है।

Related Stories

No stories found.