चेर्नोबिल प्लांट में रेडिएशन बढ़ा, अब रूसी सेना भागने लगी, यूक्रेन में अब बड़ी तबाही का अंदेशा

यूक्रेन पर 24 फरवरी से शुरू हुआ रूसी मिलिट्री ऑपरेशन फिलहाल थमने का नाम तो नहीं ले रहा है अलबत्ता अब ये लड़ाई तबाही और बर्बादी के एक नए और ख़ौफनाक दलदल की तरफ ज़रूर जाती दिखाई देने लगी है। क्योंकि यूक्रेन के शहर चेर्नोबिल के परमाणु पॉवर प्लांट में रेडिएशन का ख़तरा और स्तर दोनों बढ़ने लगा।
चेर्नोबिल प्लांट में रेडिएशन बढ़ा, अब रूसी सेना भागने लगी, यूक्रेन में अब बड़ी तबाही का अंदेशा
यूक्रेन का चेर्नोबिल न्यूक्लियर पॉवर प्लांट

मंडराने लगा है अब परमाणु रेडिएशन का नया भयानक ख़तरा

Russia Ukraine War: आखिर कब खत्म होगी ये जंग, ये सवाल और बारूद का उड़ता हुआ गुबार, बस यूक्रेन में यही दो चीज़ें ही दिख रही हैं। जिधर भी नज़र दौड़ाओ तो एक शोर दिखाई पड़ता है, जिसका लब्बोलुआब यही है कि आखिर और कितना तबाह होगा यूक्रेन?

37 दिन हो चुके हैं, लेकिन रूस के ताबड़तोड़ हमले रूकने का नाम ही नहीं ले रहे। उधर रूसी सेना के रॉकेट के खाली सिलेंडर और इधर यूक्रेन के शहरों के खंडहर नज़र आ रहे हैं।

लेकिन इस बीच जो खबर यूक्रेन के चेर्नोबिल से सामने आई है उसने पूरी दुनिया को बुरी तरह से झकझोर दिया है। बताया जा रहा है कि यूक्रेन के चेर्नोबिल शहर में अब रेडिएशन का ख़तरा बहुत तेजी से बढ़ने लगा है। आलम ये है कि पिछले क़रीब 20 दिनों से जिस पॉवर प्लांट पर रूसी सेना का कब्ज़ा हुआ करता था उसे छोड़कर रूसी सैनिक वहां से भाग खड़े हुए हैं।

एक रिपोर्ट के हवाले से बताया गया है कि चेर्नोबिल पॉवर प्लांट में रेडिएशन का स्तर सामान्य से ज़्यादा देखा गया है, जिसकी वजह से उसके आस पास तैनात हुए रूसी सैैनिकों को कुछ ऐसी दिक्कतें होने लगी जिससे वहां मौजूद रूसी टुकड़ी में घबराहट फैल गई और तमाम रूसी सैनिक वहां से भागते दिखाई दिए।

आलम ये है कि 37वें दिन रूसी सैनिकों ने चेर्नोबिल पॉवर प्लांट को पूरी तरह से खाली कर दिया। खबर यही है कि मॉस्को के आदेश के बाद चेर्नोबिल परमाणु प्लांट के पास तैनात 700 यूनिट को वहां से पीछे हटा लिया गया है।

शहरों में ही बन गए दो बॉर्डर

Russia Ukraine War: इन दिनों यूक्रेन का अजीब हाल है, यूक्रेन के जिस भी शहर को देखों वहां दो बॉर्डर बन चुके है। एक ओर रूसी सेना तैनात है तो दूसरी तरफ यूक्रेन के जांबाज़ मोर्चा संभाले हुए हैं। दोनों सेनाओं की ये खींचतान अपने साथ तबाही लेकर आई है। शहर के शहर तबाह हो रहे हैं। क्योंकि जिन हथियारों का इस्तेमाल किया जा रहा है उनका मकसद सिर्फ जंग जीतना है

इरपिन पूरी तरह से तबाह हो चुका है। तो राजधानी कीव पर आखिरी लड़ाई लड़ी जा रही है। जहां रह रह कर धमाकों का शोर सुनाई देता है। इस बीच बातचीत का दौर तो शुरू हुआ है. लेकिन कोई ठोस नतीजा सामने आएगा, इसको लेकर शक भी है। मौजूदा हालात और दोनों तरफ के बंधे हुए मोर्चों को देखते हुए कहा जा सकता है कि टशन बता रही है ये जंग अभी फिलहाल थमने वाली नहीं हैं। शायद अभी यूक्रेन को और तबाह होना है। अभी यूक्रेन के बुरे दिन पूरे नहीं हुए हैं। लड़ाई अभी लंबी चलनी है।

Related Stories

No stories found.