Italy Mafia: महंगी घड़ी ने पकड़ा दिया इटली का ‘दाऊद’,एसिड में घोल दिया था 12 साल का बच्चा

Don Arrest: सिसिली के जिस डॉन को पुलिस ने 30 सालों बाद पकड़ा है उसका क़िस्सा सुनते ही दाऊद इब्राहिम याद आ सकता है क्योंकि इत्तेफाक से दोनों का गुनाह एक जैसा है।
पुलिस की गिरफ्त में डॉन Matteo Messina Denaro
पुलिस की गिरफ्त में डॉन Matteo Messina Denaro

Mafia Don : इटली में एक जगह है सिसिली(Sisily)। ये इलाक़ा अपने बीहड़ जंगलों, अपने बागों और यहां के माफिया (Mafia) और अंडरवर्ल्ड (Underworld) की वजह से पूरी दुनिया में मशहूर है। माफिया और अंडरवर्ल्ड शब्द की इजाद भी इसी सिसिली से हुई थी। उसी सिसिली के सबसे बड़े माफियाओं की फेहरिस्त में शामिल एक डॉन (Don) को आखिरकार इटली की पुलिस ने दबोच ही लिया और वो भी तीस सालों की कड़ी मशक्कत के बाद।

हैरानी की बात ये है कि जिस डॉन की परछाईं तक को इटली की पुलिस पिछले तीस सालों से नहीं तलाश कर पाई थी, उसे बस एक छोटी सी खबर और डॉन के एक महंगे शौक ने क़ानून के शिकंजे में ला खड़ा किया। जानकर हैरान हो जाएंगे कि जिस डॉन की दहशत से इटली में सिसिली का सारा पोर्ट का इलाका कांपता था, वो अपनी एक महंगी घड़ी की वजह से पकड़ा गया।

जी हां। उस डॉन की 35000 पाउंड की उस घड़ी ने उसका वक़्त ऐसा बदला कि आराम से अपने फ्लैट में पूरे ऐशो आराम से रहने वाला डॉन आखिरकार अब इटली के सबसे सुरक्षित और कड़े पहरे वाले जेल ‘ल अकिला’ में रहेगा।

Matteo Messina Denaro: इस डॉन का नाम है माटेओ मसिना डेनारो। अगर इसे इटली का दाऊद कहा जाए तो कोई गलत नहीं होगा क्योंकि हिन्दुस्तान की सुरक्षा एजेंसियां तो दाऊद का पता जानते हुए भी पिछले तीस सालों से उसे हाथों में हथकड़ी पहनाने को तरस रही हैं।

क्या अजीब इत्तेफाक है कि हिन्दुस्तान की पुलिस भी दाऊद को मुंबई में हुए सीरियल बम धमाकों के लिए ही कानून के शिकंजे में लाना चाहती है। और इटली का ये डॉन भी 30 साल पहले 1992 में तीन बम धमाकों की बड़ी वारदात में शामिल था।

सबसे दिलचस्प ये है कि उसे पकड़ने के लिए इटली की पुलिस ने 100 सिपाहियों की टीम बनाई, लेकिन जब वो जिस अंदाज में पकड़ा गया वो किसी फिल्मी कहानी से कम नहीं है।

ये क़िस्सा उस दौर का है जब इटली अपने यहां माफिया की जंग से जूझ रहा था। बात 1993 के वक़्त की है। उसी दौर में माटेओ मसिना डेनारो का एक बेरहम क़िस्सा इस कदर मशहूर हो गया था जिसकी वजह से उसकी गिरफ्तारी के बाद इटली के लोगों को उसकी बेरहमी की कोई दूसरी मिसाल नहीं याद आई।

बदले की आग में झुलस रहे माटेओ मसिना डेनारो ने उस दौरान एक 12 साल के बच्चे गिजपे डी मातियो (Giuseppe Di Matteo ) को सिर्फ इसलिए अगवा करके तेजाब में घोल दिया था ताकि उसका पिता माफिया के खिलाफ पुलिस को सबूत न दे सके।

Matteo Messina Denaro Arrest : असल में माटेओ मसिना डेनारो की गिरफ्तारी की वजह बनी थी उसके हाथों में बंधी एक बेहद क़ीमती घड़ी जिसकी क़ीमत कई हजार डॉलर में आंकी गई। मजे की बात ये है कि जो घड़ी उसने पहन रखी थी उस क़ीमत की घड़ी इटली में भी बहुत कम लोगों के पास है।

माफिया को गिरफ्तार करने के बाद जब उसके घर की तलाशी ली गई तो वहां जो कुछ बरामद हुआ उससे लोगों की हैरानी का ठिकाना नहीं रहा। महंगे और ब्रांडेड जूतों की कई दर्जन जोड़ियों के साथ साथपुलिस को बेहिसाब कंडोम और वियाग्रा जैसी चीजें मिली है। और जिस बात ने सबसे ज़्यादा लोगों को हैरत में डाला कि एक माफिया के घर से पुलिस को एक भी हथियार नहीं मिला। पुलिस के लिए सबसे ज़्यादा चौंकाने वाली बात ये थी कि इस माफिया को पिछले तीस सालों से तलाश कर रही थी लेकिन तीस सालों तक उसकी परछाई तक को पुलिस नहीं पकड़ सकी थी।

बताया जा रहा है कि मंगलवार को इटली की पुलिस ने जाने माने माफिया माटेओ मसिना डेनारो को हथकड़ी में जकड़ने के तीन दशक पुराने सपने को पूरा कर लिया। पुलिस ने माफिया को उस वक़्त गिरफ्तार किया जब वो एक हेल्थ क्लीनिक में रूटीन चैकअप के लिए जाने वाला था। उसकी गिरफ्तारी के बाद पुलिस ने जिस अपार्टमेंट में छापा मारा, वो माफिया पिछले तीस सालों से उसी अपार्टमेंट में रह रहा था और पुलिस को उसके बारे में कानों कान खबर नहीं लगी थी।

मीडिया में छपी रिपोर्ट के मुताबिक उस अपार्टमेंट में जब तलाशी ली गई तो हैरान करने वाली चीजें पुलिस को मिलीं। अपार्टमेंट के भीतर से पुलिस ने बाकायदा खाने पीने के सामान से पूरी तरह से भरे हुए फ्रिज के साथ साथ कई दर्जन जोड़ी जूते, कई लग्जरी ब्रांड के कपड़े मिले। लेकिन पुलिस उस वक्त बुरी तरह से चौंक गई जब उसे वहां सैकड़ों की तादाद में कंडोम के साथ साथ वियाग्रा की गोलियां बरामद कीं।

Italy Don Nabbed: इटली पुलिस के अधिकारियों के मुताबिक माफिया मसिना डेनारो इन दिनों अपने पेट के कैंसर के इलाज के लिए नियमित जांच के लिए जाता है, जिसकी मुखबिरी पुलिस को कुछ रोज पहले हुई थी। मुखबिर की खबर को पुख्ता करने के लिए पुलिस ने बाकायदा पहले रेकी की और फिर उसे गिरफ्तार किया।

पुलिस के सूत्रों से पता चला है कि कैंसर की जानलेवा बीमारी से जूझ रहा ये माफिया किसी जमाने में पश्चिम सिसिली के पोर्ट और त्रेपानी जैसे शहर का किंग कहलाता था। उसे सिसिली में बड़ी ही इज्जत की नज़र से देखा जाता है। और वो वहां के टॉप के माफिया में से एक माना जाता है।

असल में इटली के इस सबसे बड़े माफिया डॉन की फेहरिस्त में शामिल मसिनो डेनारो दर्जनों हत्याओं का दोषी माना गया था। और उसके बाद उसको उम्र कैद की सज़ा सुनाई गई थी। डेनारो का सबसे भयंकर केस 1992 में हुआ था जब सिसिली में दो बम विस्फोट किए गए थे। इस धमाके में डेनारो के विरोधी पक्ष के वकील जियोवन्नी फाल्कन और पाओलो बोरसेलिनो की मौत हो गई।

Related Stories

No stories found.
Crime News in Hindi: Read Latest Crime news (क्राइम न्यूज़) in India and Abroad on Crime Tak
www.crimetak.in