Shraddha Case: शातिर दिमाग आफताब चार फोन नंबर करता था इस्तेमाल, आफताब के चार नंबरों का चक्रव्यूह!

Shraddha Murder: अब तक आफताब द्वारा दो नंबर इस्तेमाल किए जाने की बात सामने आ रही थी लेकिन अब एक चौकाने वाला खुलासा हुआ है। खुलासा ये है कि आफताब दो नहीं लेकिन तीन से चार नंबरों का इस्तेमाल करता था।
Shraddha Murder case
Shraddha Murder case

Shraddha Murder Case: श्रद्धा हत्याकांड (Shraddha Murder) में चौंकाने वाला खुलासा हुआ है। सूत्रों के मुताबिक आफताब ने जिस मोबाइल (Mobile) नंबर (Number) से फ्रिज मंगवाया था वह नंबर भी श्रद्धा के नाम पर रजिस्टर्ड है। अब तक आफताब द्वारा दो नंबर इस्तेमाल किए जाने की बात सामने आ रही थी लेकिन अब एक चौंकाने वाला खुलासा हुआ है।

खुलासा ये है कि आफताब दो नहीं लेकिन तीन से चार नंबरों का इस्तेमाल करता था। सोशल मीडिया के लिए उसके पास ########26 और ########20 से कनेड्टेड नंबर मौजूद थे। पैकर्स एंड मूवर्स से मुंबई से सामान मंगवाने के लिए उसने #######49 का इस्तेमाल किया था। जबकि लाश के टुकड़े रखने के लिए जो फ्रिज मंगवाया था उसकी खरीद के लिए उसने #######18 नंबर का इस्तेमाल किया था।

चौंकाने वाली बात यह है कि जिस नंबर से उसने फ्रिज मंगवाया था वह नंबर श्रद्धा वालकर के नाम पर रजिस्टर्ड है। जानकारी ये भी मिली है कि फेसबुक पर login करने के लिए श्रद्धा उसी नंबर का इस्तेमाल किया करती थी। उसी #######18 वाले नंबर से उसने जून के महीने में फ्रिज लिया था।

मतलब साफ है कि आफताब से पास दो से ज्यादा मोबाइल नंबर्स थे जिससे यह भी साबित होता है कि वह अपनी शातिर चालों के लिए एक से ज्यादा फोन इस्तेमाल करता था। चौंकाने वाली बात यह भी है कि श्रद्धा का फेसबुक अकाउंट एक और नंबर से linked है, वह नंबर ########20 है।

सूत्रों की मानें तो उसने अलग अलग काम के लिए अलग अलग सिम कार्ड लिए होंगे। जाहिर यह पहले से ही तय था कि कौन से नंबर से क्या करना है। सबसे बड़ा सवाल यह है कि उसने श्रद्धा का कत्ल करने के बाद उसी के नंबर से फ्रिज मंगवाया जो श्रद्धा के नाम पर है।

सोशल मीडिया के अकाउंट के Vverification और authentification के लिए उन्हें मोबाइल नंबर से जोड़ना पड़ता है। आफताब के फेसबुक अकाउंट पर जो बाते सामने आ रही हैं, उससे साफ है कि 2 नंबर का इस्तेमाल login के लिए करता था। इसी तरह से श्रद्धा के फेसबुक अकाउंट से भी दो नंबर जुड़े हुए हैं।

शक है कि आफताब ने फेक प्रोफाइल भी बनाई होगी। ये भी हो सकता है कि bumble और अन्य डेटिंग app के जरिए उसने और दूसरे नंबर रखे होंगे। क्रिमिनल साइकोलॉजी वाले व्यक्ति अक्सर ऐसा करते हैं जिससे उनकी identity आसानी से पता न चल सके।

Related Stories

No stories found.
Crime News in Hindi: Read Latest Crime news (क्राइम न्यूज़) in India and Abroad on Crime Tak
www.crimetak.in