प्रशांत भूषण को थप्पड़ मारने से मिली थी सुर्खियां, तेजिंदर बग्गा का ये है अब तक का सियासी सफर

दिल्ली में भारतीय जनता पार्टी के प्रवक्ता और तेज़ तर्रार युवा नेता तेजिंदर बग्गा एक बार फिर अपनी पसंदीदा लाइमलाइट में हैं। इस बार वजह है पंजाब पुलिस, जिसने तेजिंदर बग्गा को गिरफ़्तार करके इस पूरे मामले को हाईवोल्टेज सियासी ड्रामा बना दिया। आखिर कौन है तेजिंदर पाल सिंह बग्गा?
प्रशांत भूषण को थप्पड़ मारने से मिली थी सुर्खियां, तेजिंदर बग्गा का ये है अब तक का सियासी सफर
तेजिंदर पाल सिंह बग्गा

Latest News: दिल्ली BJP के नेता तेजिंदर पाल सिंह बग्गा एक बार फिर सुर्खियों में हैं। असल में पंजाब पुलिस की एक टीम दिल्ली से भारतीय जनता पार्टी के नेता तेजिंदर पाल सिंह बग्गा को गिरफ़्तार करके अपने साथ पंजाब ले जा रही थी। और जैसे ही ये ख़बर पुलिस की हद से बाहर निकली तो जंगल के आग की तरह पूरे NCR के साथ साथ देश भर में फैल गई और टीवी की स्क्रीन पर सुर्खियों में छा गई।

ऐसे में कुछ लोगों की ज़ुबान पर ये सवाल भी तैरने लगा कि आखिर ये तेजिंदर पाल सिंह बग्गा है कौन? और देखते ही देखते कैसे उसकी गिरफ़्तारी देश की राजधानी में इतना बड़ा मुद्दा बन गया? तो तेजिंदर पालसिंह बग्गा को जानने से पहले पंजाब पुलिस की तरफ से उसके ख़िलाफ लगाए गए आरोपों को समझ लेते हैं तेजिंदर बग्गा को आधा जान जाएंगे। पंजाब पुलिस की FIR के मुताबिक तेजिंदर पाल सिंह बग्गा के ख़िलाफ़ लोगों को भड़काने, नफ़रत फैलाने, सोशल मीडिया पर झूठे और साम्प्रदायिक बयान देने के आरोप हैं।

केजरीवाल के ख़िलाफ़ किया था ये ट्वीट

Delhi News In Hindi: लेकिन सवाल उठता है कि आखिर तेजिंदर पाल सिंह बग्गा पर ताज़ा मामला क्या है? और पंजाब पुलिस इतनी तेजी से देश की राजधानी से बीजेपी के नेता को उठाने क्यों खिंची चली आई? असल में सबसे ताज़ा मामला ये है कि तेजिंदर पाल सिंह बग्गा ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के ख़िलाफ़ एक ट्वीट किया था।

असल में भारतीय जनता पार्टी के युवा चेहरे बन चुके राष्ट्रीय महासचिव तेजिंदर पाल सिंह बग्गा के ख़िलाफ़ पंजाब के पटियाला शहर में एक FIR दर्ज की गई थी। जिसमें दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के ख़िलाफ़ अनाप शनाप बोलने को लेकर शिकायत थी। बताया जा रहा है कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने हाल की एक हिन्दी फिल्म द कश्मीर फाइल्स को लेकर एक टिप्पणी की थी। उसी को लेकर तेजिंदर ने अरविंद केजरीवाल को अपने ट्वीट में भला बुरा कहा था।

तेजिंदर पाल सिंह बग्गा ने कहा था...

“ एक नहीं 100 FIR करो, लेकिन अगर केजरीवाल हिन्दुअं के नरसंहार को लेकर झूठ बोलेगा तो मैं बोलूंगा, अगर केजरीवाल कश्मीरी हिन्दुओं के नरसंहार पर ठहाके लगाएगा, तो मैं बोलूंगा, चाहे उसके लिए मुझे जो अंजाम भुगतना पड़े, मैं तैयार हूं, मैं केजरीवाल को छोड़नेवाला नहीं, नाक में नकेल डालकर रहूंगा उसके’
BJP के तेजिंदर पाल सिंह बग्गा और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल
BJP के तेजिंदर पाल सिंह बग्गा और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल

सुर्खियों में रहने में माहिर तेजिंदर पाल सिंह बग्गा

Delhi Political Drama: तेजिंदर बग्गा के इस पक्ष का दिल्ली भारतीय जनता पार्टी ने समर्थन भी किया था। यहां से बात शुरू होती है कि आखिर ये तेजिंदर पाल सिंह बग्गा कौन है और क्यों इतने तेवर में है। असल में सियासत में चमकने के लिए तेजिंदर पाल सिंह बग्गा कई बार अपनी हरकतों और कारनामों की वजह से सुर्खियां बटोर चुके हैं, फिर चाहें साल 2011 में आम आदमी पार्टी के पूर्व नेता और सुप्रीम कोर्ट के वकील प्रशांत भूषण को थप्पड़ मारने का मामला हो, या फिर मशहूर समाज सेवी और लेखिका अरुंधति रॉय की किताब के विमोचन के मौके पर हंगामा करने का मामला हो....कांग्रेस के नेता मणिशंकर अय्यर की एक टिप्पणी का विरोध करने के लिए कांग्रेस मुख्यालय के बाहर चाय बेचने का प्रकरण हो या फिर दिल्ली की सड़कों पर पोस्टरबाज़ी करना, इन सभी कारनामों से तेजिंदर पाल सिंह बग्गा को सुर्खियों में ही जगह मिली है।

दिल्ली में स्कूल से ड्रॉप आउट लेकिन चीन से डिप्लोमा लिया

News Tejinder Bagga: इतना ही नहीं, दिल्ली के अलग अलग मुद्दों को लेकर तेजिंदर पाल सिंह बग्गा ने कई RTI भी डाली, जिसको लेकर बग्गा ने राजधानी में दिल्ली की सरकार के ख़िलाफ़ अच्छा ख़ासा बवाल खड़ा किया था।

ये तो बात रही उनकी हरकतों की। लेकिन तेजिंदर पाल सिंह बग्गा सोशल मीडिया पर भी अपने क्रिया कलापों से अच्छी खासी बदनामी कमा चुके हैं। ट्विटर पर तो उनके पोस्ट बेहद आक्रामक होते हैं।

पिछले दिल्ली विधानसभा चुनाव में तेजिंदर पाल सिंह बग्गा ने हरिनगर विधान सभा सीट से चुनाव लड़ा था, लेकिन हार गए थे। उसी चुनाव में तेजिंदर पाल सिंह बग्गा की तरफ से दाखिल किए गए एक हलफ़नामे के मुताबिक वो स्कूल से ड्रॉप आउट हैं। यानी स्कूली पढ़ाई पूरी ही नहीं की। हालांकि उसी हलफ़नामे में उन्होंने चीन की नेशनल डिफेंस यूनिवर्सिटी से नेशनल डेवलेपमेंट कोर्स में डिप्लोमा के बारे में भी इत्तेला दी थी।

मार्च के आखिरी हफ़्ते का वो पहला ट्वीट

Delhi News Update: लेकिन हाल की ही दिनों में मार्च के आखिरी हफ़्ते में द कश्मीर फाइल्स फिल्म पर केजरीवाल की टिप्पणी को लेकर तेजिंदर पाल सिंह बग्गा ने मुख्यमंत्री आवास के बाहर तोड़फोड़ की थी और केजरीवाल के घर के बाहर लगे CCTV कैमरों को नुकसान पहुँचाया और बूम बैरियर तक तोड़ दिया था।

सिर्फ इतना ही नहीं मुख्यमंत्री आवास के मेन गेट और दीवारों पर भगवा रंग तक पोत दिया था। केजरीवाल के ख़िलाफ बीजेपी के 200 से ज़्यादा कार्यकर्ताओं के विरोध प्रदर्शन की अगुवाई तेजिंदर पाल सिंह बग्गा और बीजेपी के युवा मोर्चा के अध्यक्ष तेजस्वी सूर्या ने की थी।

तेजिंदर पाल सिंह बग्गा का सियासी सफर भगत सिंह क्रांति सेना नाम के एक संगठन से शुरू हुआ था लेकिन सबसे पहले बड़ी सुर्खी उस वक़्त बग्गा को मिली थी जब 2011 में सुप्रीम कोर्ट के वकील प्रशांत भूषण को थप्पड़ मारा था।

लेकिन तेजिंदर बग्गा को सबसे पहले बड़ी सियासी पहचान तब मिली जब 23 साल की उम्र में उसे भारतीय जनता युवा मोर्चा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी में शामिल किया गया था। 2017 में तेजिंदर बग्गा की सक्रियता को देखते हुए भारतीय जनता पार्टी ने उसकी तरक्की की और उसे प्रवक्ता बना दिया। 31 साल की उम्र में प्रवक्ता बनने पर तेजिंदर सबसे कम उम्र में प्रवक्ता होने का ख़िताब हासिल करने में कामयाब हुए।

Related Stories

No stories found.