थिरुवन्नामलाई में हिरासत में मौत के बाद घरवालों ने काटा बवाल, पुलिस पर लगाया ये संगीन इल्ज़ाम

हिरासत में मौत का ये क़िस्सा न तो पहला है और न ही शायद आखिरी लेकिन जिस तरह से घरवालों ने पुलिस के ख़िलाफ़ मोर्चा खोला है उसने वर्दी को एक बार फिर सवालों के दायरे में ला खड़ा कर दिया।
थिरुवन्नामलाई में हिरासत में मौत के बाद घरवालों ने काटा बवाल, पुलिस पर लगाया ये संगीन इल्ज़ाम
थंगमणि जिसकी पुलिस हिरासत में मौत हुई

Latest Crime News: पुलिस की हिरासत में मौत की एक सनसनीख़ेज़ खबर सामने आई है तमिलनाडु के थिरुवन्नामलाई से। यहां एक शख्स को पुलिस पूछताछ के लिए हिरासत में लेकर गई लेकिन फिर वो ज़िंदा घर नहीं लौटा, बल्कि जब उसकी लाश सामने आई तो घरवालों का ग़ुस्सा पुलिस के ख़िलाफ़ फूट पड़ा।

थिरुवन्नामलाई के थत्तारानाई के रहने वाले थंगमणि को पुलिस नकली और अवैध शराब की बिक्री के सिलसिले में पूछताछ के लिए उठाकर ले गई थी। लेकिन अगले रोज उसकी संदिग्ध हालत में लाश मिलने के बाद घर के लोग भड़क उठे। थाने के साथ साथ कलेक्ट्रेट के सामने हंगामा करते हुए घरवालों ने इल्ज़ाम लगाया कि थंगमणि को पुलिस ने थर्ड डिग्री देकर मौत के घाट उतार दिया।

पुलिस हिरासत में मौत के बाद बवाल

Custody Death News: घरवालों के मुताबिक 26 अप्रैल थंगमणि को 26 अप्रैल को पुलिस ने अपनी हिरासत में लिया था। पुलिस का आरोप था कि थंगमणि शराब के अवैध धंधे में शामिल है। और इलाक़े में उसकी देख रेख में ही शराब बिकती है। पूछताछ के लिए हिरासत में लेने के बाद थंगमणि को थिरुवन्नामलाई की छोटी जेल में भेज दिया गया था।

घरवालों का इल्ज़ाम है कि पुलिस ने पूछताछ के दौरान थंगमणि पर थर्ड डिग्री का इस्तेमाल किया। उसकी लाश पर पड़े चोट के गहरे निशान इस बात का सबूत है कि पुलिस हवालात में उसके साथ जमकर ज्यादिती हुई।

पुलिस पर रिश्वत लेकर केस रफ़ा दफ़ा करने का इल्ज़ाम

Crime News South: घरवालों ने तो यहां तक इल्ज़ाम लगाया है कि पुलिस दरअसल थंगमणि से रिश्वत या अपना हिस्सा लेना चाहती थी इसलिए उसके ख़िलाफ़ झूठा मुकदमा दर्ज करके उस पर ज़ोर ज़ुल्म किया। थंगमणि के घरवालों ने तो पुलिस पर इससे भी ज़्यादा संगीन आरोप लगाए।

उनका कहना था कि दरअसल थंगमणि का ताल्लुक एक जनजाति से है लिहाजा पुलिस इंस्पेक्टर ने मामले को रफ़ा दफ़ा करने के लिए रिश्वत भी मांगी थी। थंगमणि के घरवालों ने कलेक्टर ऑफिस के बाहर जमकर नारे बाजी की और प्रदर्शन किया। थंगमणि की पत्नी मलार ने ज़िला मजिस्ट्रेट को अपनी शिकायत देकर इस मामले की गहराई से जांच करने की मांग की और थंगमणि को इंसाफ देने की गुहार लगाई है।

पुलिस का अपनी सफ़ाई में सिर्फ इतना कहना था कि थंगमणि की हालत ख़राब होने के बाद उसे अस्पताल ले जाया गया जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। हालांकि पुलिस महकमा इस सवाल का जवाब देने के कन्नी काट गया।

Related Stories

No stories found.