राजस्थान के हादसे में ऐसे बच सकते थे सात लोग, कार में लगे मौत के सेंट्रल लॉकिंग सिस्टम से ऐसे बचें

ADVERTISEMENT

सेंट्रल लॉकिंग सिस्टम बनती जा रही है हादसे में मौत की वजह
सेंट्रल लॉकिंग सिस्टम बनती जा रही है हादसे में मौत की वजह
social share
google news

Accident in Rajasthan:  राजस्थान के बालाजी से दर्शन करके लौट रहा मेरठ का परिवार सीकर के पास हाईवे पर एक हादसे का शिकार होता है और देखते ही देखते आग की लपटों में घिर गया। कार में फंसे परिवार के सातों लोगों को इससे पहले कोई बचाने की कोशिश भी कर पाता तब तक लपटों में घिरे सातों लोग जिंदा जल गए। 

हादसे में मौत का कारण कौन?

सवाल यही उठा कि आखिर इन मौतों का कसूरवार कौन है? इस  हादसे में हुई मौतों के लिए कार के एक खास फीचर को इस का कसूरवार माना जा रहा है। चौंकिये नहीं, हमारी कारों में जो नए नए फीचर्स जोड़े जा रहे हैं कभी कभी यही फीचर्स कार सवारों की जिंदगी पर भारी पड़ जाते हैं खासतौर पर हादसे की सूरत में। देखा यही जा रहा है कि मॉर्डन कारों में एक से बढ़कर एक सेफ्टी फीचर्स दिए जा रहे हैं ताकि हादसे के वक्त पैसेंजर की जान बचाई जा सके। समय के साथ जो फीचर्स कभी प्रीमियम कारों में हुआ करते थें वो अब ज्यादातर एंट्री-लेवल की कारों में भी दिखाई पड़ने लगे हैं।  दिया जा रहा है। उन्हीं में से एक फीचर है सेंट्रल लॉकिंग सिस्टम। और ये भी देखा गया है कि इन दिनों देश के हाईवे में होने वाले कई हादसों में दरवाजों को ऑटोमेटिक तरीके से लॉक करने का ये बेहद सुरक्षित फीचर अब मौत का सबसे बड़ा कारण बनता जा रहा है। ऐसे में सेंट्रल लॉकिंग सिस्टम को लेकर लोगों के जेहन में सवाल उठने लगे हैं।  

राजस्थान के सीकर के पास हुए हादसे में एक ही परिवार के सात लोग जिंदा जले

मौतों के पीछे सेंट्रल लॉकिंग सिस्टम 

ताजा मामले की बात करें तो राजस्थान के सीकर में हुए सड़क हादसे में हुई मौतों के पीछे सेंट्रल लॉकिंग सिस्टम को भी एक अहम वजह के तौर पर देखा जा रहा है। सीकर जिले के फतेहपुर में रविवार को एक भयानक सड़क हादसा हुआ। रविवार की दोपहर ढाई बजे एक कार ने ट्रक में टक्कर मार दी। इस एक्सीडेंट के बाद कार में आग लग गई और देखते ही देखते पूरी कार आग की लपटों से घिर गई। उस कार में एक परिवार के सात लोग सवार थे। हादसे के बाद सभी के सभी कार में ही फंसे रह गए। सेंट्रल लॉकिंग की वजह से कोई भी कार से बाहर नहीं निकल सका और कार में सवार सभी लोग जिंदा जल गए। 

ADVERTISEMENT

ऐसे हुआ था हादसा और जली कार

जो जानकारी सामने आई है उसके मुताबिक उत्तर प्रदेश के मेरठ के रहने वाले हार्दिक बिंदल अपने परिवार के साथ जीण माता और बालाजी के दर्शन करके वापस घर लौट रहे थें। जब वो सीकर जिले में फतेहपुर कोतवाली इलाके की आशीर्वाद पुलिया के पास पहुंचे थे तभी उनकी कार आगे चल रहे ट्रक से जा टकराई। टक्कर इतनी तेज थी कि, कार का अगल हिस्सा ट्रक के पीछे जा घुसा और गाड़ी आग की लपटों में घिर गयी। हादसे का शिकार होने के बाद होश संभालकर कार में सवार लोग इससे पहले गाड़ी से बाहर आ पाते भयानक आग ने पूरी कार को अपनी जद में ले लिया। उधर ट्रक पर पेपर रोल (Paper Roll)लदा हुआ था, जिसने इस आग में घी का काम किया। 

एक सुविधा जो बनती है मौत की वजह

कार के दरवाजे हो गए लॉक

बताया जा रहा है कि, हादसे के वक्त कार के दरवाजे लॉक हो गए थें जिसके चलते कार सवार बाहर नहीं निकल सकें। हादसे के वक्त कार सवार बाहर निकलने की कोशिश तो कर रहे थें. मगर सेंट्रल लॉकिंग सिस्टम की वजह से कार के सभी दरवाजे बंद हो गए थें और वो बाहर नहीं निकल पाए। महज कुछ ही मिनटों में आग ने पूरी कार को राख में बदल दिया। जब तक फायर ब्रिगेड की टीम पहुंचती तब तक कार में बैठे सभी सातों लोगों के शव बुरी तरह जल चुके थे। बाद में क्रेन की मदद से कार को लोहे की चेन से बांधकर ट्रक के नीचे से बाहर निकाला गया। 

ADVERTISEMENT

तो क्या जान बच सकती थी

सवाल ये है कि, क्या हादसे के वक्त यदि कार के दरवाजे खुल जाते तो कार में सवार लोगों की जान बचाई जा सकती थी? शायद हां...। तो फिर सवाल वही अगर समय रहते कार सवार बाहर आ जाते तो बहुत मुमकिन है कि उनकी जान बच सकती थी। तो आखिर कार में दिया जाने वाला ये सेंट्रल लॉकिंग फीचर किस हद तक 'जीवन रक्षक' साबित हो सकता है... और इसके क्या फायदे हैं?

ADVERTISEMENT

ऐसे करता है सेंट्रल लॉकिंग सिस्टम काम

आज के समय में ये फीचर तकरीबन हर कारों में दिया जा रहा है। ये सिस्टम कार के सभी दरवाजों को एक साथ लॉक और अनलॉक कर देता है। इस फीचर को ड्राइवर उसकी राइट साइड विंडो के नीचे दिए जाने वाले एक लॉक बटन के अलावा रिमोट से भी ऑपरेट किया जाता है। हालांकि अभी तक सेंट्रल लॉकिंग सिस्टम केवल प्रीमियम कारों में ही दिया जाता था। सेंट्रल लॉकिंग सिस्टम की कोड्स (Key Codes) और रेडियो वेव्स पर काम करता है। आम बोलचाल की भाषा में समझें तो कार की चाबी (Remote Key) एक ट्रांसमीटर का काम करती है और कार एक रिसीवर का काम करता है। जब कार को रिमोट से दरवाजों को लॉक या अनलॉक करने का कमांड मिलता है तो ये सिस्टम फौरन एक्शन में आ जाता है। 

ऐसे बचाई जा सकती थी जान

इसके अलावा, अगर कार को चाबी से लॉक किया जाता है, तो इम्मोबिलाइज़र (Immobiliser) बंद हो जाता है।  इम्मोबिलाइज़र इंजन में दिया जाने वाला एक तरह का सेफ्टी डिवाइस होता है जो ट्रांसमीटर या चाबी के कमांड पर इंजन को बंद करके कार को चोरी होने से भी बचाता है। इस सिस्टम से लैस कार के सभी दरवाजों को अलग-अलग लॉक या अनलॉक करने की जरूरत नहीं होती है। मॉर्डन कारों में रिमोट (Remote Key) भी होता है, जो एक तय दूरी से ही कार के सभी दरवाजों यहां तक कि डिग्गी को भी लॉक और अनलॉक कर देता है।  चलती कार में दरवाजों का बंद होना बेहद जरूर है और ये फीचर इसकी पूरी सुविधा प्रदान करता है। सेंट्रल लॉकिंग सिस्टम का इकलौता और सबसे बड़ा फायदा यही है कि आप आसानी से एक कमांड से कार के सभी दरवाजों को लॉक या अनलॉक कर सकते हैं। सवाल उठता है कि हिफाजत देने वाला अगर ये सिस्टम इस तरह से जोखिम भी देता है तो हादसे की सूरत में क्या ऐसा करें जिससे कार सवार की जान बचाई जा सके। 

इन चीजों के साथ करें सेंट्रल लॉकिंग सिस्टम वाली कार से यात्रा

कार में इन चीजों का रखना जरूरी

एक्सीडेंट के दौरान कार के दरवाजे लॉक होने पर आपका एकमात्र लक्ष्य यही होना चाहिए कि, आप किसी भी तरह से कार से बाहर निकलें। इस मामले में कुछ टूल्स ऐसे हैं जो आपके लिए मददगार साबित हो सकते हैं...जिन्हें जानना और समझना बेहद जरूरी है। 
1- हथौड़ा: कार में हमेशा एक छोटी हथौड़ी (Hammer) जरूर रखें, जो न केवल हैंडी हो बल्कि उसमें वजन भी हो। इसकी मदद से कार के विंडो या विंडशील्ड को तोड़ कर कार सवार बाहर निकला जा सकता है।
2- सीट-बेल्ट कटर: हादसे के वक्त बहुत मुमकिन है कि सीट बेल्ट जाम हो जाए. ऐसे में सीट-बेल्ट कटर बहुत कारगर साबित होगा। इस टूल की मदद से आप आसानी से सीट बेल्ट को काट सकते हैं और बाहर निकल सकते हैं।
3- सर्वाइवल विसल: अपनी कार में एक सर्वाइवल विसल (Survival Whistle) जरूर रखें। यदि कार रोड के नीचे किसी गढ्ढे इत्यादि में गिरती है तो आप इस सीटी के जरिए मदद बुला सकते हैं.... इनकी आवाज काफी तेज होती है।
4- फ़ायर इस्टींग्युशर: कार में अपनी सीट के नीचे या फिर फ्रंट पिलर एक अग्निशामक यंत्र (Fire Extinguisher) जरूर रखें। हादसे के वक्त कार में लगी आग को बुझाने के लिए ये बहुत ही कारगर उपकरण साबित होगा। 

    यह भी पढ़ें...

    follow on google news
    follow on whatsapp

    ADVERTISEMENT